Home > Army

The Great Thought: Army


ARMY MESSAGE: Find Here Army Messages, Superb Collection of WhatsApp SMS, Best Army SMS Messages. Not only this but also you can get Best WhatsApp Messages, Best Army Pictures, Best Army SMS, Husband Wife & Kids Messages & Santa Banta Messages and moreover. You can also get here Todays New Message. kiosklockdown.in is Family Friendly website. Hope this will be liked by you and share with other. If our effort to laugh has been successful, you can like/share this page and encourage us. "Laughing is the best medicine in this world." Always laugh… Be Healthy… Be Happy… Thanks...

इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना !

इतनी सी बात हवाओ को बताये रखना, रौशनी होगी विरागो को जलाए रखना, लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने, ऐसे तिरंगे को हमेशा अपने दिल में बसाए रखना || जय हिन्द जय भारत….

गंगा यमुना यहाँ नर्मदा, मंदिर मस्जिद के संग गिरजा, शांति प्रेम की देता शिक्षा, मेरा भारत सदा सर्वदा..!!

खून से खेलेंगे होली अगर वतन मुश्किल में है, सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,

मन को खुद ही मगन कर लो, कभी-कभी शहीदों को भी नमन कर लो.

मिलते नही जो हक वो लिए जाते हैं, है आजाद हम पर गुलाम किये जाते हैं, उन सिपाहियों को रात-दिन नमन करो, मौत के साए में जो जिए जाते हैं.

जो देश के लिए शहीद हुए उनको मेरा सलाम है, अपने खून से जिस जमीन को सींचा, उन बहादुरों को सलाम है.

चलो फिर से आज वह नज़ारा याद कर ले, शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले, जिसमे बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे देशभक्तो के खून की वो धारा याद करले..||

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशाँ होगा.

शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो, होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो.

उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई, उनकी शहादत का कर्ज देश पर उधार हैं, आप और हम इसलिए खुशहाल हैं क्योकि सीमा पे सैनिक शहादत को तैयार हैं.

मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ, मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

करता हूँ भारत माता से गुजारिश कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले, हर जनम मिले हिन्दुस्तान की पावन धरा पर या फिर कभी जिंदगी न मिले..!!

मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या है, जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर है, तिरंगा कफन बन जाये इस जन्म में, तो इससे बाद सौभाग्य क्या है?

जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो: जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो: हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन; मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

आओ झुक कर सलाम करे उनको, जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है, खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है…..!!

मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, है दोनों इंसान, ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान, इस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हैं मेरा बस एक ही अरमान एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.

कभी ठंड में ठिठुर कर देख लेना, कभी तपती धूप में जल के देख लेना, कैसे होती हैं हिफ़ाजत मुल्क की, कभी सरहद पर चल के देख लेना

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं, नोटों में लिपटकर,सोने में भी सिमट कर मरे हैं कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं।

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये !!

आजादी का जोश कभी कम न होने देंगे जब भी जरुरत पड़ेगी देश के लिए जान लूटा देंगे क्योंकि भारत हमारा देश है अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे || जय हिन्द || ||…Happy Republic Day 2019….||

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं, सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं..!!

कुछ कर गुजरने की गर तमन्ना उठती हो दिल में, भारत माँ का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए बस अमन से भरा यह वतन चाहिए जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये * जय-हिन्द *

आओ झुककर सलाम करे उनको, जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है, खुशनसीब होते हैं वो लोग, जिनका लहू इस देश के काम आता है.

जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं, जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं.

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे बची हो जो एक बूंद भी लहू की तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

आजाद की कभी शाम नहीं होने देंगें, शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगें, बची हो जो एक बूंद भी गरम लहू की, तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगें!गणतंत्र दिवस मुबारक हो!

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पे मरने वालो का यही बाकि निशां होंगा.

अलग है भाषा, धर्म जात और प्रान्त, भेष, परिवेश पर हम सब का एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ||

ज़माने भर में मिलते है आशिक कई मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नही होता नोटों में भी लिपटकर,सोने में सिमटकर मरे हैं कई मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

इंसाफ की डगर पे, बच्चो दिखाओ चल के, ये देश है तुम्हारा, नेता तुम ही हो कल के ||

चलो फिर से खुद को जगाते है, अनुसाशन का डंडा फिर घूमाते है, सुनहरा रंग है गणतंत्र स्वतंत्रता का, शहीदों के लहू से ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…

अगर भारत को है महान बनाना… तो भ्रष्ट नेताओं को होगा हटाना और भ्रष्टाचार को होगा मिटाना… ये किसी एक से न होगा.. पूरे जनसमुदाय को होगा साथ निभाना… स्वतंत्र दिवस मुबारक हो!

अलग है भाषा, धर्म जात और प्रान्त, भेष, परिवेश पर हम सब का एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ||

हम लोग परिवार के साथ चैन से सो सके… चैन से जी सके… इसलिए हमारे जवान रोज़ बॉर्डर पर मरते हैं… वन्देमातरम !! जय हिन्द !!

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे बची हो जो एक बूंद भी लहू की तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

अब तक जिसका खून न खौला, वो खून नहीं वो पानी है…जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है… बोलो भारत माता की जय.. स्वतंत्र दिवस मुबारक हो!

अब तो मेरी कलम भी रो पड़ी है, शहीदों की शहादत लिखते लिखते।

भारत की पहचान ,जम्मू की जान है हम, सरहद का अरमान है हमी मे, भारत का दिल तो हैं ही, साथ में भारत माता के लिए मरने का जज्बा भी है हमी मे…

भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान, दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान, सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का, इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास || गणतंत्र दिवस की ढ़ेरो शुभकामनाए.

मेरा “भारत” महान था, महान है और महान रहेगा. है होंसला सब के दिलों में बुलंद, तो एक दिन पाक भी जय हिन्द कहेगा.

चलो फिर से खुद को जगाते हैं, अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं, सुनहरा रंग हैं गणतंत्र का, शहीदों के लहूँ से, ऐसे शहीदों को हम सर झुकाते हैं.

अनेकता में एकता ही इस देश की शान हैं, इसलिए मेरा भारत देश महान हैं.

चलो फिर से खुद को जगाते है, अनुशासन का डंडा फिर घुमाते है, सुनहरा रंग है गणतंत्र का शहीदों के लहू से, ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…

कुछ नशा तिरंगे की आन का हैं, कुछ नशा मातृभूमि की शान का हैं, हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा, नशा ये हिन्दुस्तान की शान का हैं.

लंदन देखा पेरिस देखा और देखा जापान , सरे जग में कहीं नहीं है दूसरा हिन्दुस्तान.. We all feel proud to be an Indian. Wishing you all a very Happy Independence Day 2018!!

भारत की फ़जाओं को सदा याद रहूँगा, आज़ाद था, आज़ाद हूँ, आज़ाद रहूँगा.

इतनी सी बात हवाओ को बताये रखना, रौशनी होगी विरागो को जलाए रखना, लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने, ऐसे तिरंगे को हमेशा अपने दिल में बसाए रखना || जय हिन्द जय भारत….

आओ झुक कर सलाम करे उनको… जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है; खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है! स्वतंत्र दिवस की शुभकामनाएं!

जमाने भर में मिलते है आशिक कई, जमाने भर में मिलते है आशिक कई, मगर वतन से खुबसूरत कोई सनम नही होता ||

भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान; दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान; सब धर्मों को देकर मान रचा गया इतिहास; इसीलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास। गणतंत्र दिवस की बधाई !

सनम को छोड़ के देख लेना, कभी शहीदों को याद करके देख लेना ! कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो, देश से कभी इश्क करके देख लेना..!!

देश भक्तों के बलिदान से, स्वतंत्र हुए हैं हम… कोई पूछे कौन हो, तो गर्व से कहेंगे, भारतीय हैं हम.. गणतंत्र दिवस मुबारक हो!

इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना, इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना, रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना, लहू लेकर की है जिसकी हिफ़ाजत हमने, ऐसे तिरंगे को दिल में हमेशा बसाए रखना|

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं। तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान हैं..!!

मरने के बाद भी जिसके नाम मे जान हैं, ऐसे जाबाज़ सैनिक हमारे भारत की शान है.

आजादी का जोश कभी कम न होने देंगे जब भी जरुरत पड़ेगी देश के लिए जान लूटा देंगे क्योंकि भारत हमारा देश है अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे || जय हिन्द || ||…Happy Republic Day 2019….||

इश्क़ तो करता हैं हर कोई मेहबूब पे मरता हैं हर कोई, कभी वतन को मेहबूब बना कर देखो तुझ पे मरेगा हर कोई……!!!!

गूँज रहा है,दुनिया में भारत का नगाडा.. चमक रहा है,आसमान में देश का सितारा… आज़ादी के दिन आओ मिलके करें दुआ यही की बुलंदीयों पर लहराता रहे तिरंगा हमारा…

ना मरो सनम बेवफा के लिए, ना मरो सनम बेवफ़ा के लिए. 2 गज जमीन नही मिलेगी दफन के लिए, मरना है तो मरो अपने वतन के लिए, मरना है तो मरो अपने वतन के लिए, हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफ़न के लिए ||

देश भक्तो की बलिदान से, स्वतन्त्र हुए है हम, कोई पूछे कोन हो, तो गर्व से कहेंगे. भारतीय है हम… Happy Gantantra Diwas…

गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है दिल से तुमको नमन हैं करते ये आजाद वतन जो दिलाया है

ना हिन्दू बन कर देखो, ना मुस्लिम बन कर देखो, बेटों की इस लड़ाई में, दुःख भरी भारत माँ को देखो.

वतन हैं मेरा सबसे महान प्रेम सोहाद्र का दूजा नाम, वतन-ए-आबरू पर है हम सब कुर्बान, शान्ति का दूत है मेरा हिन्दुस्तान…

में भारत वर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ, यहाँ कि सुनहरी मिट्टी का गुणगान करता हूँ, मुझे चिंता नही है, स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने कि तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूँ…

राष्ट्र के लिए मान-सम्मान रहे, हर एक दिल में हिन्दुस्तान रहे, देश के लिए एक-दो तारीख नही, भारत माँ के लिए ही हर सांस रहे। गणतंत्र दिवस की बधाई!

चिंगारी आजादी की सुलगी मेरे जश्न में हैं, इन्कलाब की ज्वालाएं लिपटी मेरे बदन में हैं, मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे वतन में हैं, कुर्बानी का जज्बा जिन्दा मेरे कफन में हैं.

धर्म न हिन्दू का है ना मुसलमान का, धर्म तो बस इंसानियत का है, ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों. सच क्या है झूट क्या है, किसी मंदिर या मस्जिद से नहीं, बेगुनाह बच्चो की मौत पर किसी माँ से पूछो, देश का सपूत बनना है तो कर्तव्य को जानो, अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्योछावर करो.

वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की, तोड़ता है दीवारें नफरत की, ये मेरी खुश नसीबी है जो मिली जिन्दगी इस चमन में… और भुला न सके कोई भी इसकी खूशबु सातों जनम में…

जिस देश में पैदा हुए हो तुम… उस देश के अगर तुम भकत नहीं… नहीं पिया दूध माँ का तुमने और बाप का तुम में रक्त नहीं… वन्देमातरम !! गणतंत्र दिवस मुबारक हो!

वतन हमारा ऐसे न छोर पाए कोई, वतन हमारा ऐसे न छोर पाए कोई, रिश्ता हमारा ऐसा ना तोड़ पाए कोई, दिल है हमारे एक है, एक है हमारी जान, दिल है हमारे एक है, एक है हमारी जान, हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान ||

हिन्दू-मुस्लिम-सिख-ईसाई हर धर्म की रक्षा की है; सभी वर्ग के लोगों को सम्मान देने की प्रतिज्ञा की है; ऐसा सशक्त और मज़बूत लोकतंत्र किया तैयार; जिसकी हर देशवासी ने दिल से इच्छा की है। गणतंत्र दिवस की बधाई !

“चूमना पड़ता है फाँसी का फंदा चरखा चलाने से इंकलाब नही मिलता” माँ भारती के अमर सपूत भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के शहीद दिवस पर महान हुतात्माओं को भावभीनी श्रद्धांजली एवं शत शत नमन जय हिन्द। वंदे मातरम्

जिसे सींचा लहू से है वो यूँ खो नहीं सकती, सियासत चाह कर विष बीज हरगिज बो नहीं सकती, वतन के नाम पर जीना वतन के नाम मर जाना, शहादत से बड़ी कोई इबादत हो नहीं सकती.

आओ झुक कर सलाम करे उनको, जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है, खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है…..!!

दाबोगे अगर और उभर आयेगा भारत, हर वार पर कुछ और निखर जायेगा भारत दस-बीस जाहिलों को ग़लतफ़हमी हुई है, दो-चार धमाको से ही डर जायेगा भारत.

अनेकता में एकता ही इस देश की शान है, इसीलिए मेरा भारत महान है

हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि हम भारतीय हैं – जय भारत, वन्दे मातरम

पहली गोली वो चलाएंगे…… और आखिरी हम… जय हिन्द!!

वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई, रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई, दिल हमारे एक है एक है हमारी जान, हिंदुस्तान हमारा हैं हम हैं इसकी शान.

जिसकी वजह से पूरा हिन्दुस्तान चैन से सोता हैं, कड़ी ठंड, गर्मी और बरसात में अपना धैर्य न खोता हैं.

न सर झुका है कभी..और न झुकायेंगे कभी, जो अपने दम पे जियें…सच में ज़िन्दगी है वही… जिओ सच्चे भारतीय बन कर… गणतंत्र दिवस मुबारक हो!

फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती, ये वतन की मोहब्बत है जनाब पूछ कर की नहीं जाती…!!वंदे मातरम् !

वतन हमारा ऐसे न छोर पाए कोई, वतन हमारा ऐसे न छोर पाए कोई, रिश्ता हमारा ऐसा ना तोड़ पाए कोई, दिल है हमारे एक है, एक है हमारी जान, दिल है हमारे एक है, एक है हमारी जान, हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान ||

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता, नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता.. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

चलो फिर से खुद को जागते है, अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है, सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से, ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है || आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्ताँ हमारा हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलिस्ताँ हमारा ||

जब देश में थी दिवाली….. वो खेल रहे थे होली… जब हम बैठे थे घरो में…… वो झेल रहे थे गोली… क्या लोग थे वो अभिमानी… है धन्य उनकी जवानी……… जो शहीद हुए है उनकी… ज़रा याद करो कुर्बानी… ए मेरे वतन के लोगो… तुम आँख में भर लो पानी..!!

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं, सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं..!!

जमाने भर में मिलते है आशिक कई, जमाने भर में मिलते है आशिक कई, मगर वतन से खुबसूरत कोई सनम नही होता ||

अलग है भाषा, धर्म जात और प्रांत, पर हम सब का एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ।

चलो फिर से आज वो नजारा याद करले, चलो फिर से आज वो नजारा याद करले, शहीदों के दिलो में थी जो वो ज्वाला याद करले, जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे, जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे, देशभक्ति के खून की वो धारा याद करले ||

हम हाथ मिलाना भी जानते है..उखाड़ना भी… हम गांधी जी को भी पूजते है और चंद्रशेखर आज़ाद को भी… वन्देमातरम !! जय हिन्द !!

जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है, जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है !!

वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की , तोड़ता है दीवार नफरत की , मेरी खुश नसीबी है मिली जिंदगी इस चमन में ,भुला ना सके कोई इसकी खुशबू सातों जन्मों में..!!

दूध मांगोगे तो खीर देंगे… कश्मीर मांगोगे तो चीर देंगे। स्वतंत्र दिवस मुबारक हो!

कुछ नशा तिरंगे की आन का है, कुछ नशा मातृभूमि की मान का है, हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा, नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है….

ना हिन्दू बन कर देखो ना मुस्लिम बन कर देखों बेटों की इस लड़ाई में दुःख भरी भारत माँ को देखो |

संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे, हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे हम मिलजुल के रहे ऐसे की मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे. Jai Hind!

न मरो अपनी बेवफा सनम के लिये, दो गज जमीन नही मिलेगी दफ़न होने के लिए, अगर मरना ही हैं तो मरो अपने वतन के लिए, हसीना भी ख़ुशी से दुप्पटा उतार देगी तुम्हारे कफ़न के लिए… वन्दे मातरम, जय हिन्द

बस ये बात हवाओं को बताये रखना, रौशनी होगी चिरागों को जलाए रखना, लहू देकर भी जिसकी हिफाजत की शहीदों ने, उस तिरंगे को सदा दिल में बसायें रखना.

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा

भरा नही जो भावों से बहती जिसमें रसधार नही, हृदय नही वह पत्थर हैं, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं.

कुछ नशा तिरंगे की आन का है, कुछ नशा मातृभूमि की मान का है, हम लहराएंगे हर जगह इस तिरंगे को, हम लहराएंगे हर जगह इस तिरंगे को, ऐसा नशा ही कुछ हिंदुस्तान की शान का हैं||

तैरना है तो समंदर में तैरो नदी नालों में क्या रखा है, प्यार करना है तो वतन से करो इस बेवफ़ा लोगों में क्या रखा है || गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

सरहद तुम्हें पुकारे तुम्हें आना ही होगा, कर्ज अपनी मिट्टी का चुकाना ही होगा, दे करके कुर्बानी अपने जिस्मो-जां की, तुम्हे मिटना भी होगा मिटाना भी होगा।

तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं, हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं, यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं, और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं.

दिवाली में बसे “अली”, रमजान में बसे “राम”, ऐसा सुंदर होना चाहिए अपना हिन्दुस्तान.

है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर, इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं, है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय, जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं.

मै भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ, यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ, मुझे चिंता नही है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ ||

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना, ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना, जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना, खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना, हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के, इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के….||

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा कर, दीप जलाये है कितने दीप भुझा कर, मिली है जब यह आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को… रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर || हैप्पी रिपब्लिक डे.

दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त, मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी.

शहीदों के त्याग को हम बदनाम नही होने देंगे, भारत की इस आजादी की कभी शाम नही होने देंगे.

बुलंद भारत के निकम्मे बच्चो, वैलेंटाइन्स/फ्रेंडशिप डे होता तो अब तक 100 sms हो गए होते… Come on, it’s a great day…So wish everybody JAI HIND… Happy Republic Day

सीनें में ज़ुनू, ऑखों में देंशभक्ति, की चमक रखता हुँ, दुश्मन के साँसें थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हुँ..!!

दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगें, आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें.

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता, नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही ! सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही!!

उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं, जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं.

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं

फिर उड़ गई नींद मेरी यह सोचकर, कि जो शहीदों का बहा वो खून मेरी नींद के लिए था.

आज सलाम है उनको, जिनके कारण ये दिन आता है, खुशनसीब होती है वो माँ, जिनके बच्चों का बलिदान इस देश के काम आता है। गणतंत्र दिवस मुबारक हो!

खुशनसीब है वो जो वतन पर मिट जाते है, मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं, करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पर मिटने वालों तुम्हारी हर साँस में बसता तिरंगे का नसीब है ||

खून से खेलेंगे होली, अगर वतन मुश्किल में है सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,,

बच्चे बच्चे के दिल में कोई अरमान निकलेगा, किसी के रहीम तो किसी के राम निकलेगा, मगर उनके दिल को चीर के देखा जाए, तो उसमें हमारा प्यारा हिन्दुस्तान निकलेगा।

जब हम तुम अपने महबूब की आँखों में खोये थे, जब हम तुम खोयी मोहब्बत के किस्सों में खोये थे, सरहद पर कोई अपना वादा निभा रहा था, वो माँ की मोहब्बत का कर्ज चुका रहा था.

हर पल हम सच्चे भारतीय बनकर देश के प्रति अपना फर्ज निभायेंगे. जरूरत पड़ी तो लहू का एक-एक कतरा देकर इस धरती का कर्ज चुकायेंगे.

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा कर, दीप जलाये है कितने दीप भुझा कर, मिली है जब यह आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को… रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर || हैप्पी रिपब्लिक डे.

इंसाफ की डगर पे, बच्चो दिखाओ चल के, ये देश है तुम्हारा, नेता तुम ही हो कल के ||

मुकम्मल है इबादत और मैं वतन ईमान रखता हूँ, वतन के शान की खातिर हथेली पे जान रखता हूँ !! क्यु पढ़ते हो मेरी आँखों में नक्शा पाकिस्तान का , मुस्लमान हूँ मैं सच्चा, दिल में हिंदुस्तान रखता हूँ !!

चढ़ गये जो हँसकर सूली, खाई जिन्होंने सीने पर गोली, हम उनको प्रणाम करे हैं, जो मिट गये देश पर, हम सब उनको सलाम करते हैं.

ऊन दो आँखों के आगे समंदर भी हारा होगा जब मेंहदी वाली हाथो ने मंगलसूत्र उतारा होगा

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्ताँ हमारा हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलिस्ताँ हमारा ||

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना, ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना, जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना, खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना, हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के, इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के….||

ताज़गी महसूस करना हो कभी जो छाँव की! एड़ियाँ मज़दूर की ख़ुद आइना हैं पाँव की! जब कभी तूफ़ान में कोई भी ज़रिया न दिखे! आख़री उम्मीदें दुनियाँ है फ़क़त एक नाँव की! ख़ुशनसीबी मुल्क की जब देखने का दिल करे! दिल के अंदर से अजब आवाज़ है फिर गाँव की! शोर संसद की दीवारों से निकल कर उड़ गया! आज भी कानों में रहती है सदा बस काँव की ! गणतंत्र दिवस की बधाई !

चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो

कीमत करो शहीदों की, वो देश पर कुर्बान हुए, सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं है देश भक्ति, नागरिकों की एकता ही है देश की असल शक्ति…

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा, तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा, हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा, यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा || Indian Republic day 2019 की शुभकामनाये.

दिल दिया है जान भी देंगे , ऐ वतन तेरे लिए … Lets salute our nation …. Happy Republic Day

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें । | जय हिन्द , जय भारत । || वन्दे मातरम ||

अपना घर छोड़ कर, सरहद को अपना ठिकाना बना लिया, जान हथेली पर रखकर, देश की हिफाजत को अपना धर्म बना लिया.

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं, सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं..!!

ऐ पाक, तेरा ख़्वाब नजारा ही रहेगा, तू क़िस्मत का मारा है मारा ही रहेगा, तेरे हर सवाल का जबाब करारा ही रहेगा, कश्मीर हमारा हैं और हमारा ही रहेगा.

कुछ नशा तिरंगे की आन का है ! कुछ नशा मातृभूमि की शान का है ! हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा ! नशा ये हिंदुस्तान की शान का है..!!

क्यों मरते हो यारो सनम के लिए… ना देगी दुपट्टा कफ़न के लिए… मारना है तो मरो “वतन” के लिए “तिरंगा” तो मिले कफन के लिए… स्वतंत्र दिवस मुबारक हो!

घर वाला घर नहीं… हम में किसी का डर नहीं..और कुत्ते को शर्म नहीं…

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा, तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा, हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा, यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा || Indian Republic day 2019 की शुभकामनाये.

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं, सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं…!!!

भारत की सेना का मुख्य उद्देश्य देश की सुरक्षा और राष्ट्र की एक एकता को सुनिश्चित करना, देश को बाहरी और आंतरिक खतरों से सुरक्षा प्रदान करना और सीमा पर शांति और सुरक्षा को बनायें रखना हैं. देश के सैनिकों के बलिदान का कर्ज हम कभी नही चुका सकते हैं, वो कड़ाके के ठंड में, धुप और बरसात में दिनरात सरहद की सुरक्षा करते हैं और उन्हीं की वजह से हम अपने घरो में चैन से सोते हैं.

अलग है भाषा, धरम, जात और प्रान्त, भेष, परिवेश पर सबका एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ.

क्यों मरते हो यारों सनम बेवफा के लिए, जो कभी नहीं देगी अपना दुप्पटा तुम्हारे कफन के लिए मरना है तो मरो अपने वतन के लिए कम से कम तिरंगा तो मिले जायेगा कफन के लिए…

यदि प्रेरणा शहीदों से नहीं लेंगे तो ये आजादी ढलती हुई साँझ हो जायेगी और पूजे न गए, वीर तो सच कहता हूँ कि नौजवानी बाँझ हो जायेगी.

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता, नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!

चलो फिर से खुद को जगाते हैं… अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं… सुनहरा रंग है गणतंत्र का शहीदों के लहू से… ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते हैं।गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं!

भले हाथो में खनके, छन छन करते पायल झुमके, पर देश की हैं हम प्रचंड नारी, वक्त पर उठाएंगे तलवारे भारी से भारी.

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा, मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि, मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

मोहब्बत का दूसरा नाम है मेरा देश, अनेकों में एकता का प्रतीक है मेरा देश, चाँद गैरों की सुनना मुझे गंवारा नहीं, हिन्दू मुस्लिम सभी कला प्यारा है मेरा देश..

R-Rising E-Empowered P-Powerful U-Ultimate B-Beautiful L-Lovely I-Independent C-Charming Happy Republic Day

कुछ नशा तिरंगे की आन का है, कुछ नशा मातृभूमि की मान का है, हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा, नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है !!

खूब बहती हैं अमन की गंगा बहने दो, मत फैलाओ देश में दंगा रहने दो, लाल हरे रंग में ना बाटो हमको, मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो.

सरहद पर एक फौजी अपना वादा निभा रहा हैं, वो धरती माँ की मोहब्बत का कर्ज चुका रहा हैं.

हम तो किसी दूसरे की धरती पर नज़र भी नहीं डालते… लेकिन इतने नालायक बच्चे भी नहीं की कोई हमारी धरती माँ पर नज़र डाले और हम चुप चाप देखते रहे। जय हिन्द

कर जस्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम ! हर पत्ते को मार गिरायेंगे जो हमसे देश बटवायेंगे..!!

तिरंगा हमारा हैं शान- ए-जिंदगी वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी देश के लिए मर मिटना कुबूल हैं हमें अखंड भारत के स्वपन का जूनून हैं हमें..!!

हँसते-हँसते फाँसी चढ़कर अपनी जान गवा दी, और बदले में दे दी ये पावन आजादी.

जहर पिलाकर मजहब का, इन कश्मीरी परवानों को, भय और लालच दिखलाकर तुम भेज रहे नादानों को, खुले प्रशिक्षण, खुले शस्त्र है खुली हुई शैतानी है, सारी दुनिया जान चुकी ये हरकत पाकिस्तानी है,

जिसका ताज हिमालय है, जहाँ बहती गंगा है, जहाँ अनेकता में एकता है.. “सत्यमेव जयते जहाँ का नारा है, जहां का मजहब भाईचारा है और कोई नहीं दोस्तों वो भारत देश हमारा है…

मैं इसका हनुमान हूँ, ये देश मेरा राम है, छाती चीर के देख लो, अन्दर बैठा हिन्दुस्तान है || || जय हिंदी जय भारत ||

चलो फिर से खुद को जागते है, अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है, सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से, ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है || आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा। परबत वो सबसे ऊँचा हमसाया आसमाँ का वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा !!

भारत देश हमको जान से प्यारा है हिन्दुस्तानी नाम हमारा है। न बर्षा में गलें न सर्दी से डरें न गर्मी से तपें ! हम फौजी इस देश की शान है..!!

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं, मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं, करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों, तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…

चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए, मेरी हर साँस देश के नाम हो जाए,

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं, देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं, वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां, हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं.

ना जियो घर्म के नाम पर, ना मरों घर्म के नाम पर, इंसानियत ही है धर्म वतन का, बस जियों वतन के नाम पर || || भारत माता की जय ||

अगर माटी के पुतले देह में ईमान जिन्दा हैं, तभी इस देश की समृद्धि का अरमान जिन्दा हैं, ना भाषण से है उम्मीदें ना वादों पर भरोसा हैं, शहीदों की बदौलत मेरा हिन्दुस्तान जिन्दा है.

जहाँ हम और तुम हिन्दू-मुसलमान के फर्क में लड़ रहे हैं, कुछ लोग हम दोनों के खातिर सरहद की बर्फ में मर रहे हैं.

चलो फिर से खुद को जगाते है, अनुशासन का डंडा फिर घुमाते है, सुनहरा रंग है गणतंत्र का शहीदों के लहू से, ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें, भी परेशान हो जाएँ, अगर परिंदे भी हिन्दू और मुसलमान हो जाएँ.

अलग है भाषा, धर्म जात और प्रांत, पर हम सब का एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ। सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई!

मैं जला हुआ राख नही, अमर दीप हूँ, जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ.

ना पूछो ज़माने को, क्या हमारी कहानी हैं हमारी पहचान तो सिर्फ ये हैं की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!!

यही खुवाहिश खुदा हर जन्म हिन्दुस्तान वतन देना, अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना, न दे दोलत न दे शोहरत, कोई शिकवा नही हमको, झुका दूँ सर मै दुश्मन का यही हिम्मत का घन देना, अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना ||

— आर्मी तो है देश की शान, जिन्दादिली है जिसकी पहचान.

मैं इसका हनुमान हूँ, ये देश मेरा राम है, छाती चीर के देख लो, अन्दर बैठा हिन्दुस्तान है || || जय हिंदी जय भारत ||

आजाद भारत के लाल है हम, आज शहीदों को सलाम करते है, युवा देश की शान है हम, अखंड भारत का संकल्प करते है…

ना पूछो ज़माने से कि क्या हमारी कहानी है, हमारी पहचान तो बस इतनी है कि हम सब हिन्दुस्तानी हैं। गणतंत्र दिवस की बधाई !

मेरे हर कतरे-कतरे में, हिन्दुस्थान लिख देना, और जब मोत हो, तन पे, तीरंगे का कफन देना, यही खुवाहिश खुदा हर जन्म हिन्दुस्तान वतन देना, अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना ||

उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूंकि सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है…

नींद उड़ गया यह सोच कर, हमने क्या किया देश के लिए, आज फिर सरहद पर बहा हैं खून मेरी नींद के लिए.

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा , हम बुलबुले हैं इसके , ये गुलिस्तान हमारा… वन्देमातरम !! जय हिन्द !!

लंदन देखा पेरिस देखा और देखा जापान , सरे जग में कहीं नहीं है दूसरा हिन्दुस्तान.. We all feel proud to be an Indian.

वतन हमारा ऐसा कोई ना छोड पाये, रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये, दिल एक है जान एक है हमारी, हिन्दुस्तान हमारा है यह शान हैं हमारी…गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें..

खुशनसीब होते है वो लोग, जो इस देश पर कुर्बान होते है, जान गवां कर भी वो लोग अमर हो जाते है, करते हैं सलाम उन देश प्रेमियों को, जिनके कारण इस तिरंगे का मान होता है.

किसी गजरे की ख़ुशबू को महकता छोड़ के आया हूँ, मेरी नन्ही से चिड़िया को चहकता छोड़ के आया हूँ, मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ, मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ के आया हूँ. — मेरे जज्बातों से मेरा कलम इस कदर वाकिफ हो जाता हैं, मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो इन्कलाब लिखा जाता हैं. —

साले अपने खुद के देश में एक सुई नहीं बना सकते …. और हमारा देश तोड़ने का सपना देखते हैं।

जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं, माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं, देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं..!!

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं, तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहचान हैं.

हम आजाद हैं, ये आजादी कभी छिनने नहीं देंगे तिरंगे की शान को हम कभी मिटने नहीं देंगे कोई आंख भी उठाएगा जो हिंदुस्तान की तरफ उन आंखों को फिर दुबारा दुनिया देखने नहीं देंगे

आजादी की कभी शाम नही होने देंगे, शहीदों की क़ुरबानी बदनाम नही होने देंगे, बची हो जो एक बूंद भी लहू की, बची हो जो एक बूंद भी लहू की, तब तक भारत माता का आंचल निलाम नही होंगे देंगे|

हमारी जुबां भी हमारी गोली की तरह… दुश्मनों से सीधी बात करती है…Wishing you all a very Happy Republic Day

ना जियो घर्म के नाम पर, ना मरों घर्म के नाम पर, इंसानियत ही है धर्म वतन का, बस जियों वतन के नाम पर || || भारत माता की जय ||

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा, ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा, पर मत भूलों सीमा पर वीरों ने है प्राण गवाएं, कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के फिर न आये….

देश भक्तो की बलिदान से, स्वतन्त्र हुए है हम, कोई पूछे कोन हो, तो गर्व से कहेंगे. भारतीय है हम… Happy Gantantra Diwas…

भूख, गरीबी, लाचारी को, इस धरती से आज मिटायें, भारत के भारतवासी को, उसके सब अधिकार दिलायें आओ सब मिलकर नये रूप में गणतंत्र मनायें|| || गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें ||

लिपट कर बदन कई तिरंगे में आज भी आते हैं, यूँ ही नहीं दोस्तों हम ये पर्व मनाते हैं.

भूख, गरीबी, लाचारी को, इस धरती से आज मिटायें, भारत के भारतवासी को, उसके सब अधिकार दिलायें आओ सब मिलकर नये रूप में गणतंत्र मनायें|| || गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें ||

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता, नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता…

“सीमा नहीं बना करतीं हैं काग़ज़ खींची लकीरों से, ये घटती-बढ़ती रहती हैं वीरों की शमशीरों से.

फ़ौजी की मौत पर परिवार को दुःख कम और गर्व ज्यादा होता हैं, ऐसे सपूतो को जन्म देकर माँ का कोख भी धन्य हो जाता हैं.

चड़ गये जो हंसकर सूली, खाई जिन्होने सीने पर गोली, हम उनको प्रणाम करते हैं, जो मिट गये देश पर… हम उनको सलाम करते हैं…स्वतंत्र दिवस मुबारक हो!

फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती, ये वतन की मोहब्बत है जनाब… पूछ के नहीं की जाती.

इस वतन के रखवाले हैं हम शेर ए जिगर वाले हैं हम मौत से हम नहीं डरते मौत को बाँहों में पाले हैं हम

चलो फिर से खुद को जगाते हैं; अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं; याद करें उन शूरवीरों को क़ुरबानी; जिनके कारण हम इस लोकतंत्र का आनंद उठाते हैं। गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं!

वो शमा जो काम आये अंजुमन के लिए, वो जज्बा हो जो कुर्बान हो जाये अपने वतन के लिए, रखते हैं हम वो होंसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए रखते हैं हम वो होंसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए|

दूध और खीर की बात करते हों, हम तुम्हे कुछ भी नही देंगे, कश्मीर की तरफ नजर भी उठाया, तो लाहौर भी छीन लेंगे.

ना मरो सनम बेवफा के लिए, ना मरो सनम बेवफ़ा के लिए. 2 गज जमीन नही मिलेगी दफन के लिए, मरना है तो मरो अपने वतन के लिए, मरना है तो मरो अपने वतन के लिए, हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफ़न के लिए ||

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा ये मुल्क मेरी जान है इसकी रक्षा के लिए मेरा दिल और जां कुर्बान है..||

पंख फैलाये हुए मौर बहुत देखे है, घन पे छाये घनघोर बहुत देखे है… नाला कहता है समंदर से उमड़ना सीखो, हमने बरसात के ये शौर बहुत देखे है… भारत माता की जय

गीले चावल में शक्कर क्या क्या गिरी, तुम भिखारी खीर समझ बैठे, चंद कुत्तो ने पाकिस्तान जिंदाबाद क्या बोला, तुम कश्मीर को अपने बाप की ज़ागीर समझ बैठे.

तिरंगा हमारा शान-ए-जिंदगी, वतन परस्ती हैं वफा-ए-जमीं, देश के मर मिटना काबुल है हमें, अखंड भारत के स्वपन का जुनून हैं हमें…

ना सरकार मेरी है ! ना रौब मेरा है ! ना बड़ा सा नाम मेरा है ! मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है , मै “हिन्दुस्तान” का हूँ…. और “हिन्दुस्तान” मेरा है…जय हिन्द

किसी को लगता हैं हिन्दू ख़तरे में हैं, किसी को लगता मुसलमान ख़तरे में हैं, धर्म का चश्मा उतार कर देखो यारों, पता चलेगा हमारा हिंदुस्तान ख़तरे में हैं.

संस्कार, संस्कृति और शान मिले… ऐसे हिन्दू, मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले… रहे हम सब ऐसे मिल-जुल कर… मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में भगवान् मिले।

भारत का वीर जवान हूँ मैं, ना हिन्दू, ना मुसलमान हूँ मैं, जख्मो से भरा सीना हैं मगर, दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं, भारत का वीर जवान हूँ मैं.

सदा ही लहराता रहे ये तिरंगा हमारा सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा गूंज उठता हैं जहां में चारो ओर….. लोगो की जुबान से वन्दे मातरम का नारा वतन की सर बुलंदी के लिए ये दिल क्या ख़ुशी ख़ुशी मिट जाए ये जिस्म भी हमारा जो शहीद हो गए वो अमर कहलाये अक्सर उनकी कुरबानियों के आगे सदा नमन हमारा इस देश के वासी बखूबी ये जानते हैं की सोने की चिड़िया कहलाता प्यारा देश हमारा

खुशनसीब है वो जो वतन पर मिट जाते है, मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं, करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पर मिटने वालों तुम्हारी हर साँस में बसता तिरंगे का नसीब है ||

भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान, इस दिन के लिए जो हुए थे हंसकर कुर्बान, आज़ादी की ये खुशियाँ मनाकर लो ये शपथ की बनायेंगे देश भारत को और भी महान..

चलो फिर से आज वो नजारा याद करले, चलो फिर से आज वो नजारा याद करले, शहीदों के दिलो में थी जो वो ज्वाला याद करले, जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे, जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे, देशभक्ति के खून की वो धारा याद करले ||

दिलों की नफरत को निकालो वतन के इन दुश्मनों को मारो ये देश है खतरे में ए -मेरे -हमवतन भारत माँ के सम्मान को बचा लो

दोस्तों... एक सैनिक ने क्या खूब कहा है... किसी गजरे की खुशबू को महकता छोड़ आया हूँ, मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ, मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना... ऐ भारत माँ, मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान, दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान, सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का, इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास || गणतंत्र दिवस की ढ़ेरो शुभकामनाए.

ना सरकार मेरी है ! ना रौब मेरा है ! ना बड़ा सा नाम मेरा है ! मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है , मै “हिन्दुस्तान” का हूँ…. और “हिन्दुस्तान” मेरा है…जय हिन्द

जहां प्रेम की भाषा है सर्वोपरी, जहां धर्म की आशा है सर्वोपरि, ऐसा है मेरा देश हिंदुस्तान जहां, देश भक्ति की भावना है सर्वोपरी.

कुछ पन्ने इतिहास के मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गएँ, जो लड़े, जो मरे वो शहीद हो गएँ, जो डरे, जो झुके वो वजीर हो गएँ.

मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, है दोनों इंसान, ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान, अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान, एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.

दुश्मनी के लिए यह याद नहीं रहता, वतन मेरा दोस्ती पर कुर्बान है, नफरत पाले कोई उड़ान नहीं भरता, दिलों में चाहत ही मेरे वतन की शान है…

तिरंगे ने मायूस होकर “सरकार” से पूछा कि ये क्या हो रहा हैं, मेरा लहराने में कम और कफन में ज्यादा इस्तेमाल हो रहा हैं.

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें । | जय हिन्द , जय भारत । || वन्दे मातरम ||

खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुए, जो तिरंगे में लिपट जिंदगी से आजाद हुए, मर कर भी अमर हो गए वो, साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गए वो…

कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को, जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा, हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की, इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा.

लिख रहा हूँ मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा, मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा.

— देश के उन वीर जवानों को सलाम जो सुरक्षा का एहसास दिलाते हैं, जो हथेली पर रखकर जान, हमारी हिफाजत का जिम्मा उठाते हैं.

एक दिया उनके भी नाम का रख लो पूजा की थाली में, जिनकी सांसे थम गई हैं भारत माँ की रखवाली में।

गूँजे कहीं पर शंख, कही पे अजाँ हैं, बाइबिल है, ग्रन्थ साहब है, गीता का ज्ञान हैं, दुनिया में खी और यह मंजर नसीब नही, दिखाओ जमाने को यह हिन्दुस्तान हैं.

मै भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ, यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ, मुझे चिंता नही है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ ||

कर जज्बे को बुलंद जवान , तेरे पीछे खड़ी आवाम, हर पत्ते को मार गिरएंगे जो हमसे देश बंटवाएंगे.

मेरे देश का मान हमेशा यूँ ही बनाये रखूँगा, दिल तो क्या जान भी इस पर निछावर कर दूंगा, अगर मिले एक भी मोका देश के काम आने का तो बिना कफ़न के ही देश के लिए सो जाऊंगा…

लड़ें वो बीर जवानों की तरह, ठंडा खून फ़ौलाद हुआ, मरते-मरते भी की मार गिराए, तभी तो देश आज़ाद हुआ.

तिरंगा है आन मेरी तिरंगा ही है शान मेरी, तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा, तिरंगे से है धरती महान मेरी…

मेरे हर कतरे-कतरे में, हिन्दुस्थान लिख देना, और जब मोत हो, तन पे, तीरंगे का कफन देना, यही खुवाहिश खुदा हर जन्म हिन्दुस्तान वतन देना, अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना ||

जो अब तक न खोला वो खून नहीं पानी है, जो देश की काम ना आये, वो बेकार जवानी है.

तन हमारा ऐसा है, की कोई छोड़ पाए न, रिश्ता हमारा ऐसा है, की कोई तोड़ पायें न, दिल हमारा एक है, एक हमारी जान हे, हिंदुस्तान हमारा है और हम इसकी शान हैं..

यही खुवाहिश खुदा हर जन्म हिन्दुस्तान वतन देना, अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना, न दे दोलत न दे शोहरत, कोई शिकवा नही हमको, झुका दूँ सर मै दुश्मन का यही हिम्मत का घन देना, अगर देना तो दिल में देशभक्ति का चलन देना ||

तैरना है तो समंदर में तैरो नदी नालों में क्या रखा है, प्यार करना है तो वतन से करो इस बेवफ़ा लोगों में क्या रखा है || गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे, हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे हम मिलजुल के रहे ऐसे की मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे… Happy Independence Day

आजदी की कभी शाम नही होने देंगे, शहीदों की कुर्बानी बदनाम नही होने देंगे, बची हो जो इस बूँद भी गर्म लहू की, तब तक भारत के आंचल नेलाम नही होने देंगे.

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा ये मुल्क मेरी जान है इसकी रक्षा के लिए मेरा दिल और जां कुर्बान है


Author Quotes


Albert Einstein

Mere Alfaz

Mahatma Gandhi

Abraham Lincoln

Swami Vivekanand

Abdul Kalam


Trending


Christmas

Eid

Army

Political

Ganesha

Inspirational

Ramadan

Islamic

Mahadev

Birthday

Dua