Home > Serial

The Great Thought: Serial


TV Serial MESSAGE: Find Here TV Serial Messages, Superb Collection of WhatsApp TV Serial SMS, Funny TV Serial SMS Messages. You will get here Funniest Messages, Messages in TV Serial sources with Pictures/images Messages, Not only this but also you can get Best WhatsApp funny TV Serial Messages, Funny TV Serial Pictures, Funny TV Serial SMS, Husband Wife & Kids Messages & Santa Banta Messages and moreover. You can also get here Todays New TV Serial Message. kiosklockdown.in is Family Friendly website. Hope this will be liked by you and share with other. If our effort to laugh has been successful, you can like/share this page and encourage us. "Laughing is the best medicine in this world." Always laugh… Be Healthy… Be Happy… Thanks...

"वो खुदगर्ज हो गए तो मै क्या करू मुझे उनकी वफा भुलाई नही जाती"

कृषण की महिमा, कृषण का प्यार;कृषण में श्रधा, कृषण से ही संसार;मुबारक हो आप सबको जन्मआष्ट्मी का त्योहार!

मेरी पहचान .... भारत महानदिल भी तुम ,रूह तुम ,जान तुम !फक्र तुम ,मान तुम,शान तुम ,साँस तुम ,तुम रगों का लहू !आरज़ू तुम मेरी ,तुम्ही हो जुस्तुजू. """"जश्ने आज़ादी मुबारक""""

"हम तो यु ही बेखुदी में कह दिए, की हमें कोई याद नहीं करते, जिसका हो आप जैसा प्यारा दोस्त, वो कभी खुदा से भी फरियाद नहीं करते."

"यादो में तेरी तन्हा बैठे हैं, तेरे बिना लबों की हसी गावा बैठे हैं तेरी दुनिया में अंधेरा ना हो, इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं…"

अक्सर गुजरते है हम , तमन्ना-ए-बाज़ार से,हो नसीब तो खरीद के, वर्ना बस दीदार से !या खुदा तेरी आबरू, फिर पड़ी खतरे में है, दोनों तरफ लोग खड़े, दिखते है तैयार से !

आसमान पर सितारे है जितने, उतनी जिंदगी हो तेरी;किसी की नज़र न लगे, दुनिया की हर ख़ुशी हो तेरी;रक्षाबंधन के दिन भगवान से बस यह दुआ है, मेरी!रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!

"दोस्त की अहमियत समझो तो दोस्ती करना, दर्द की अहमियत समझो तो मोहब्बत करना, वादे की अहमियत समझो तो उसे पूरा करना, ओर हमारी अहमियत समझो तो याद ज़रूर करना."

"आँखों से आंसू न निकले तो दर्द बड जाता है, उसके साथ बिताया हुआ हर पल याद आता है, शायद वो हमें अभी तक भूल गए होंगे, मगर अभी भी उसका चेहरा सपनो में नज़र आता है."

आज ईद, कल ईद, सुबह ईद, और शाम को ईद;खुदा करे कि आप के हर लम्हें का नाम ईद हो!ईद मुबारक!

तेरी जुल्फों में खो जाना चाहता हूँ,तेरी जुल्फों में खो जाना चाहता हूँ,...पर तू तेल इतना लगाती हो के फिशल जाता हूँ.

"ईद की दुआ चुपके से चाँद की रोशनी छू जाए आपको धीरे से या हवा कुछ कह जाए आपको दिल से जो चाहते हो माँग लो खुदा से हम दुआ करते हैं मिल जाए वो आपको"

ये बात हवायों को बताये रखना;रोशनी होगी चिरागों को जलाये रखना;लहू देकर जिसकी हिफ़ज़त की हमने;ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना!स्वतंत्र दिवस का हार्दीक अभिनन्दन!

यू ,मुझे तड़पता, छोडकर जाने वाले,लौट आ मेरा आशियाँ सजाने वाले,यू तन्हा जीना, बहुत मुश्किल होगा,बहुत सतायेंगे मुझे, ये ज़माने वाले,पर तुम मेरी मोहब्बत का,भरम रखना,कई आयेंगे,तुमको अपना बनाने वाले.

देवी माँ के कदम आपके घर में आयें;आप ख़ुशी से नहायें;परेशानियाँ आपसे आँखें चुरायें;नवरात्रि की आपको ढेरों शुभ कामनाएं।शुभ नवरात्रि।

"जिसे दिल दिया वो दिल्ली चली गई, जिसे प्यार किया वो इटली चली गई, दिल ने कहा खुद ख़ुशी कर ले जालिम, बिजली को हाथ लगाया तो बिजली चली गई."

उसे है ईश्वर ने बनाया कुछ इस तरह,कि अपने दिल मे किसी को भी दे दे वह जगह,बस थोड़ा सम्मान और आदर है मांगती,मेरी मां है सब कुछ जानती |

"जो तू चाहे वो तेरा हो, रोशन रातें और खूबसूरत सवेरा हो, जारी रहें हमारी दोस्ती का सिलसिला, कामयाब हर मंजिल पर दोस्त मेरा हो|"

हुसन पे जब मस्ती छाती है, शायरी पर बहार आती है, पी के मेहबूब की बदन की शराब, जिन्दगी झूम-झूम जाती है.

"दिली तमन्ना है कि मैं भी अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको, बस तू अपना वजन कम करले, तो मेरा काम आसान हो जाए"

गुरू गोविंद दोउ खड़े, काके लागू पाव बलिहारी गुरू आपने, गोविंद दियो बताय शिक्षक दिवस की अशेष शुभकामनाएं …

ज़िंदगी अभिशाप भी, वरदान भीज़िंदगी दुख में पला अरमान भीकर्ज़ साँसों का चुकाती जा रहीज़िंदगी है मौत पर अहसान भी

"आपकी दोस्ती की रोशनी ऐसी है, हर तरह उजाला ही नजर आया है। सोचता ह घर की बिजली कटवा दूं, और आपकों दीवार पर लटका दूं।"

मुझ को मालूम है तू हुस्न में लासानी हैसारी दुनिया तेरी सौदाई है दीवानी हैतेरी आँखों में है कैफियत ए जाम ए मयनाबसौ बहारों का है आईना तेरा हुस्न ए शबाब

शंकर की ज्योति से नूर मिलता है;भक्तों के दिलों को सकूं मिलता है;शिव के द्वार आता है जो भी;सबको फल जरूर मिलता है।शुभ महाशिवरात्रि।

आज कुछ लफ्ज़ दे दो मुझेना जाने मेरी कविता के सब मायनेकहाँ खो गये हैं?मेरे अपने लिखे लफ्ज़ अबना जाने क्यों बेमानी से हो गये हैं

फिर ना किजिये मेरी गुस्ताख निगाहों का गिला देखिये आप ने फ़िर प्यार से देखा मुझको

"एक कसक दिल में दबी रह गई, जिंदगी में उनकी कमी रह गई..., इतनी उल्फत के बाद भी वो मुझे न मिली, शायद मेरी किस्मत में ही कुछ कमी रह गई."

मुझे किसी के बदल जाने का गम नही ,बस कोई था,जिस पर खुद से ज्यादा भरोसा था…

ढोलक की थपकारडांडिये की झंकारचूड़ियों की झनझनाहटपायल की झनझनाहटसब यही कह रहे हैं नवरात्रि की हर रात आपके लिए शुभ हो

कुछ न सूझे तो मुस्कारा के यूँ; हौसला अफसाई ही कर दे, तादाद ही बढ़ा !जश्न में शरीक न हो न सही,मगर कमबख्त,कम स कम, ताली तो बजा !

"न मिले किसी का साथ तो हमें याद करना, तन्हाई महसूस हो तो हमें याद करना...., खुशियाँ बाटने के लियें दोस्त हजारो रखना, जब ग़म बांटना हो तो हमें याद करना ....."

कितना प्यारा बचपन था जब गोदी में खेला करती पाकर तुम्हारे स्नेह का साया बड़े-बड़े मैं सपने बुनती लेकर व्यक्तित्व से तुम्हारे प्रेरणा देखो आज कुछ बन पाई तुम्हारे हौसले और विश्वास के दम पर एक राह सच्ची मैं चुन पाई

गलियां फूलों से सजा रखी हैं;हर मोड़ पर लड़कियां बैठा रखी हैं;पता नहीं तुम कहाँ से आ जाओ;इसलिए उनके हाथो में राखी थमा रखी है!रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!

औरत है वो कोई गोश्त नहीं जो तू उसे नोच ले, हबस की आग में जलने बाले भेड़िये... एक बार अपनी माँ बहन की भी सोच ले..!

देश भक्तों के बलिदान से,स्वतन्त्र हुए है हम .........कोई पूछे कोंन हो तो गर्व सेकहेंगे भारतीय है हम ..............स्वतंत्रता दिवस की बधाई

सोहबत में ग़ैर की न पड़ी हो कहीं ये ख़ू देने लगा है बोसा बग़ैर इल्तिजा किए…

हर इमारत की नींव हैं अमीरों की तक़दीर हैं खून पसीना बहाकर अपना पूरा करते वो अमीरों का सपना दो वक्त की उसे मिले ना मिले पर उसी के हाथो करोड़ो की तक़दीर लिखे माना उसकी किस्मत हैं अभी नहीं हैं एशो आराम पर उसको ना भुलाना तुम ना बनाना बैगाना तुम देना उसे उसका हक़ मजदूर हैं वह मेहनती शख्स

शिकायत है उन्हें कि,हमें मोहब्बत करना नही आता,शिकवा तो इस दिल को भी है,पर इसे शिकायत करना नहीं आता

फिर से एक बार दिल में तेरा होने की तमन्ना है,तुम्हारे ही ख्यालों में खोने की तमन्ना है,मुद्दत से इन आँखों में तराविश नहीं झलकी,आकर फिर से रुला जाओ, के फिर रोने की तमन्ना है,

हम दशहरा क्यों मनाते हैं?क्योंकि अधर्म पर धर्म;झूठ पर सत्य;अन्याय पर न्याय;और बुराई पर अच्छाई की जीत हो!भगवान राम आप को शक्ति दें और आपकी हर राह पर जीत हो!शुभ दशहरा!

दिल के अरमान एक एक कर टूटे हैंआखों मे बसें ख्वाब सभी झूठे हैं।कैसे भुला दूँ मैं उसकी यादों कोमुह से लगे जाम भी क्या कभी छूटे है

कबीर ने कहा है!कल करे सों आज कर, आज करे सों अब!नेटवर्क कल रहे न रहे, फिर एस एम् एस करेगा कब!होली मुबारक हो!

रिश्ते किसी से कुछ यूँ निभा लो, कि उसके दिल के सारे गम चुरा लो; इतना असर छोड दो किसी पे अपना, कि हर कोई कहे हमें भी अपना बना लो।

ज़माने भर की याद में,मुझे ना भुला देना,जब कभी याद आए तो ज़रा मुस्कुरा लेना,ज़िंदा रहे तो फिर मिलेंगे ,नहीं तो,दीवाली में एक दिया मेरे नाम का भी जला लेना ।

"दर्द देने का अंदाज कुछ ऐसा है दर्द दे कर कहते है अब हाल कैसा है, ज़हर दे कर कहते है अब पीना होगा, जब पी लिए तो कहते है अब जीना होगा"

ना दिमाग से ना ज़ुबान से;ना पैगाम से ना मैसेज से;ना गिफ्ट से; आपको क्रिस्मस मुबारक सीधे दिल से।क्रिस्मस की शुभकामनाएं!

लक्ष्मी आएगी इतनी कि सब जगह आपका नाम होगा;दिन रात व्यापार बढे, इतना अधिक काम होगा;घर परिवार समाज में बनोगे सरताज;यही कामनाओं के साथ जाम होगा!;दिवाली की ढेरों शुभकामनायें!

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है, इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है, उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद, फिर भी हर मोड़ पर उसी का इन्तज़ार क्यों है.

"बेवफाई का डर था तो प्यार क्यों किया, तनहाई का डर था तो इकरार क्यों किया, मुझसे मौत भी पूछेगी आने से पहले, कि जो नहीं आने वाले थे, तूने उनका इंतजार क्यों किया."

"दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया, जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया, हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे, मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया."

मेरी मोहब्बत मेरे दिल की गफलत थी, मैं बेसबब ही उम्र भर तुझे कोसता रहा, आखिर ये बेवफाई और वफ़ा क्या है, तेरे जाने के बाद देर तक सोचता रहा.

"हर पल दिल को बहला लेता हूँ, तन्हाई में खुद को ही दोस्त बना लेता हूँ, याद उनको करके मुस्कुरा लेता हूँ, गुजरे लम्हों को फिर करीब बुला लेता हूँ."

प्यार अगर सच्चा हो तो कभी नहीं बदलता, ना वक्त के साथ ना हालात के साथ।

"आज हम हैं, कल हमारी यादें होंगी. जब हम ना होंगे, तब हमारी बातें होंगी. कभी पलटो गे जिंदगी के ये पन्ने, तो शायद आप की आँखों से भी बरसातें होंगी."

काश मुझे भी कोई प्यार करेकाश मुझे पर भी कोई ऐतबार करेनिकलता हू यूही चाहत की तलाश मेकाश प्यार की राहो मे मेरा भी कोई इंतेज़ार करे

मिले तुझे न दुःख ज़िन्दगी में, फूलों की तरह महक खुदा करे;जिंदा रहे नाम आबाद तक तेरा, ईद की खुशियाँ तुझे मुबारक हो खुदा करें!

रात को नया चाँद मुबारक, चाँद को चाँदनी मुबारक,फलक को सितारे मुबारक, सितारों को बुलन्दी मुबारक,और आपको हमारी तरफ से ईद मुबारक....

सादिक़ हूँ अपने क़ौल का ग़ालिब ख़ुदा गवाह कहता हूँ सच कि झूट की आदत नहीं मुझे…

"सूरज के सामने रात नहीं होती, सितारों से दिल की बात नहीं होती. जिन दोस्तों को हम दिलसे चाहते है, न जाने क्यों उनसे रोज़ मुलाकात नहीं होती."

इन होठों पे एक बात है ….पर उसके कुछ लफ्ज़अब भी किसी के पास हैं….ख्वाहिशों की डोर में बँधे हुएकुछ लफ्ज़ जो मेरे पास है…लफ्ज़ जो किसी के ख़यालों में खोए हैं …लफ्ज़ जो किसी के आँखों के खाब मेंसदियों से सोए नहीं है ….मेरे लफ़ज़ो का एहसास उनको भी है….समय की देहलीज़ पे ये राज़मेरे साथ- साथ अब उनका भी है …

सुलूक-ए-बेवफाई तो हम भी कर सकते हेजान …पर तू रोये ये हमे गवारा नही ।

तू है छाया, तू है धूप; तू चांदनी का रुद्ररूप; ठहराती तुझसे धरती है; दिग्दिगंत में तेरी कीर्ति है। महिला दिवस की शुभकामनाएं!

"नही है हमारा हाल, कुछ तुम्हारे हाल से अलग, बस फ़र्क है इतना, कि तुम याद करते हो, और हम भूल नही पाते."

तेरे प्यार की रौशनी ऐसी है की हर तरफ उजाला नज़र आता है, सोचती हूँ घर के बिजली कटवा दू कमबख्त बिल बहोत आता है.

वो नदियाँ नहीं आंसू थे मेरे, जिस पर वो कश्ती चलाते रहे, मंजिल मिले उन्हें यह चाहत थी मेरी, इसलिए हम आंसू बहाते रहे.

अनकहे लफ़्ज़ों की कुछ और ही कहानी है,कुछ बातें, तो कुछ पहेलियों की ज़ुबानी है,छुपाते हैं बातें वो, पहेलिओं कि ओट में,क्यों भूल जाते हैं की,सफ़र है लंबा और कुछ पल कि रवानी है.तड़प जाते हैं हम, वस्ल-ए-यार को ,पल-दो-पल उनके साथ को.पर उनके लिए तो हर तड़प मेरी,जैसे एक नई कहानी है.

भगवान के लिए मुझे छोड़ दो,दया, यह दरवाजा तोड़ दो.

"यादें होती हैं सताने के लिए, कोई रूठता हैं फिर मनाने के लिए, रिश्ता बनाना कोई मुस्किल तो नहीं, बस जान चली जाती हैं उसे निभाने के लिए."

"कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को…. कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को…. कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को…. न्यूक्लीयर पावर का जमाना है, बम से उड़ा दो साले को…."

"मैने तुझको ही चाहा हैं, तू ही मेरा पहला प्यार है, मेरे दिल की तू ही धड़कन, तेरा ही मुझको इंतजार के है."

"अगर किसी को कुछ देना है तो उसे अच्छा वक्त दो, क्योंकि आप हर चीज़ वापिस ले सकते हो, मगर किसी को दिया हुआ अच्छा वक्त वापिस नही ले सकते."

गणपती बाप्पा मोरया , मंगलमुर्ती मोरया !!!

क्रिकेट और फिल्म में बहलाकरकब तक देश के भूखों कीभावनाओं को दबाओगे।असली भारत का दर्द जब बढ़ जायेगा,तब तुम्हारा रोम रोम भी जल जायेगा,कब तक पर्दे पर नकली इंडिया सजाओगे। स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

दिल के बाज़ार में दौलत नहीं देखि जाती, प्यार हो जाये तो सूरत नहीं देखि जाती, एक साथी पे लुटा दो अपना सब कुछ, क्योकि पसंद हो चीज तो किम्मत नहीं देखि जाती. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

मैं इसे किस्मत कहूँ या बदकिस्मती अपनी, तुझे पाने के बाद भी तुझे खोजता रहा, सुना था वो मेरे दर्द मे ही छुपा है कहीं, उसे ढूँढने को मैं अपने ज़ख्म नोचता रहा.

"ओम् श्री गणेशाय नम: बोलो गणपति बप्पा मौर्या... गणेश चतुर्थी की शुभकामनाऎ"

"मैंने भी किसी से प्यार किया था, उनकी रहो में इंतजार किया था, हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें, कसूर उनका नहीं मेरा ही था. जो एक बेवफा से प्यार किया था."

मेरा नसीब कहता हैमेरे हाथों की लकीरों मेंहर तरफतेरा नाम लिखा हैफिर तूँ मेरे साथक्यूं नहीं हैया तो लकीरों काइम्तहान ले रही हैया फिर खुद के हाथ सेमेरा नाम मिटारही है

खुदा से क्या मंगु तेरे वास्ते, सदा खुशियों हो तेरे रास्ते,हँसी तेरे चेहरे पे रहे इस तरह,खुश्बू फूल का साथ निभाती है जिस तरह,!! मेर्री क्रिस्मस !!

"हर कोई साथ हो ये जरुरी नहीं होता, जगह तो दिल में बनायीं जाती हैं, पास होकर भी दोस्ती इतनी अटूट नहीं होती, जितनी की दूर रह कर निभाई जाती हैं."

"हर लम्हा आपके होठों पे मुस्कान रहे, हर गम से आप अंजान रहें, जिसके साथ महक उठे आपकी ज़िंदगी, हमॆशा आपके पास वो इंसान रहे."

हस्ती के मत फ़रेब में आ जाइयो असद आलम तमाम हल्क़ा-ए-दाम-ए-ख़याल है…

"उसका शुक्रिया कुछ इस तरह से अदा करूँ वो करे बेवफाई और मैं सदा वफ़ा करूँ मेरी मोहोब्बत ने बस इतना सिखाया मुझे खुद मिट जाऊं पर उसके लिए दुआ करूँ"

न कर शायरी को बदनाम हुस्न का नाम देकरयह तो ख़ुदा का मुक़ाम है.जिस्म फ़रोशी नहीं शायरी यह तो रूह का पयाम है.

"आप क्या जानो हम आपको कितना याद करते हैं. मानो या न मानो हर पल फरियाद करते हैं, रोज़ ख़त लिखते हैं कार्टून नेटवर्क को... और बस आप को दिखने की मांग करते हैं।"

यकीन नहीं तुझे अगर, तो आज़मा के देख ले,एक बार तू, जरा मुस्कुरा के देख ले, जो ना सोचा होगा तूने, वो मिलेगा तुझको भी,एक बार आपने कदम,बढ़ा के देख ले. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

"प्यार तो किया मैंने बहुत, मगर इज़हार न करना आया, उसने पूछा तो मुझसे बहुत, मगर इकरार न करना आया"

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,अज भी इंतजार है तेरे आने का

"हमने सोचा कि सिर्फ हम ही उन्हें चाहते हैं, मगर उनके चाहने वालों का तो काफ़िला निकला,मैंने सोचा कि शिकायत करू खुदा से,मगर वह भी उनके चाहने वालों में निकला"

"गणेश चतुर्थी के पावन पर्व पर विघ्नहर्ता को आओ करे नमन हर कोई हो स्नेहा से बंधा मन की भक्ति कर दे अर्पण गणेश चतुर्थी की शुभकामनाऎ."

"कोई आँखों से बात कर लेता है, कोई आँखों में मुलाक़ात कर लेता है, बड़ा मुश्किल होता है जवाब देना, जब कोई इंग्लिश में बात कर लेता है."

"आती हो गली मे हीर की तरह, लगती हो मीठी खीर की तरह, आंखों मे चुभी हो तीर की तरह, पर अब समझ चुका हूं कि तुम मुझे,भीख मंगवाओगी फकीर की तरह"

किताबो के पन्ने पलट के सोचते है | यू पलट जाए ज़िंदगी तो क्या बात है, तमन्ना जो पूरी हो ख्वाबो मे | हक़ीकत बन जाए तो क्या बात है,

"अश्क़ अनमोल है खो ना देना कही, इन की हर बूंद है मोतियो से हसीन, इनको हर आँख से तुम चुराते रहो, ज़िन्दगी मे सदा मुस्कुराते रहो."

"हँसती थी हँसाती थी दिल को बहुत भाती थी देख-देख शरमाती थी फिर अंदर से मुस्कुराती थी आज पता चला कि वो तो एक पागल थी."

अब हो गया है आदमी ,बिकता है जहां प्यार भी सामान कि तरह,पहचान भी है मुश्किल मुखौटों के दौर में,दिखता है भेड़िया भी इंसान कि तरह I

बंद करो ये तुम आपस में खेलना अब खून की होलीउस माँ को याद करो जिसने खून से चुन्नर भिगोली, इतना ही कहेना काफी नही भारत हमारा मान हैअपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है.स्वतंत्रता दिवस की बधाई

तेरी आजादियाँ सदके सदके ।मेरी बर्बादियाँ सदके सदके ।।मैं बर्बादे तमन्ना हूँ ।मुझे बर्बाद रहने दो ।।

"हर् कामयाबी पे आप का नाम होगा, आपके हर् क़दम पे दुनिया का सलाम होगा, मुश्किलों का सामना हिम्मंत से करना, दुआ है एक दिन वक्त भी आपका गुलाम होगा"

"रस्मों रिवाज की जो परवाह करते हैं, प्यार में वो लोग गुनाह करते हैं इश्क वो जुनून है जिसमें दीवाने अपनी खुशी से खुद को तबाह करते हैं।"

तेरी उल्फत को कभी नाकाम ना होने देंगे,तेरी दोस्ती को कभी बदनाम ना होने देंगे,मेरी जिंदगी में कभी सूरज निकले ना निकले,तेरी जिंदगी में कभी शाम नहीं होने देंगे.

हमेशा ज़िन्दगी में मुस्कुराते रहो;हर इंसान को अपना बनाते रहो;जब तक कोई कार वाली ना बने तुम्हारी गर्लफ्रेंड;तब तक स्कूटर वाली से ही काम चलाते रहो!

पटाखे जलाना वातावरण का नुकसान;मिठाई खाना सेहत का नुकसान;तोहफे देना पैसे का नुकसान;इसीलिए सिर्फ दिल से शुभ कामनाएं भेजी हैं;स्वीकार करें मेहरबान!दीपावली मुबारक!

रंग उडाये पिचकारी;रंग से रंग जाये दुनिया सारी;होली के रंग आपके जीवन को रंग दे; येही शुभ कामना है हमारी!होली की आपको शुभकामनायें!

सँभलने दे मुझे ऐ ना-उम्मीदी क्या क़यामत है कि दामान-ए-ख़याल-ए-यार छूटा जाए है मुझ से…

हम ना बदलेंगे वक्त की रफ़्तार के साथ ,हम जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा ।

उस अजनबी का यूँ न इंतज़ार करो, इस आशिक दिल का न ऐतबार करो, रोज़ निकला करें किसी के याद में आंसू, इतना न कभी किसी से प्यार करो.

वो इस तरह मेरे गुनाहों को माफ़ कर देती है;माँ बहुत गुस्से में हो तो रो देती है;लबों पे उसके कभी बदुआ नहीं होती;बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती।मदर डे मुबारक!

रंगों के त्यौहार में सभी की हो भरमार, ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार, यही दुआ है भगवान् से हमारी हर बार, होली मुबारक हो मेरे यार.

रिश्ते काँच की तरह होते है,टूटे जाए तो चुभते है.इन्हे संभालकर हथेली पर सजनाक्योकि इन्हे टूटने मे एक पलऔर बनाने मे बरसो लग जाते है

किसीकी क्या मजाल जो खरीद सकता हमको ,वो तो हम ही बिक गये खरीददार देख के !

"तेरे लिए खुद को मजबूर कर लिया, ज़ख्मो को अपने नासूर कर लिया, मेरे दिल में क्या था ये जाने बिना, तुने खुद को हमसे कितना दूर कर लिया"

मुझ से रूठकर वो खुश है तो शिकायत ही कैसी, अब मैं उनको खुश भी ना देखूं तो हमारी मोहब्बत ही कैसी।

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है, जिसका रास्ता बहुत खराब है, मेरे ज़ख़्म का अंदाज़ा ना लगा, दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है.

ये जान गँवा दी, ये जुबां गँवा दी, हमने तेरे इश्क में दो जहान गँवा दी, सीने में पड़े थे दिल के हजार टुकड़े, एक नज़र से तूने उनमें आग लगा दी.

दिल की बात दिल में मत रखना,जो पसंद हो उससे आइ लव यू कहना,अगर वो गुस्से में आ जाए तो डरना मत,राखी निकाल ना और कहना प्यारी बहना मिलती रहना.

कब मैंने ये सोचा थाकब मैंने ये जाना थातुम मेरे निकट आओगेबांहों में लिपटाओगेहाथों में रंग भरोगेमेरे चेहरे पे मलोगेमेरे मेहबूब मेरे सनममेरे मेहबूब मेरे सनममुबारक होली के ये रंग.

"आपने कहा मोहब्बत पूरी नहीं होती | हम कहते हैं हर बार ये बात जरुरी नहीं होती || मोहब्बत तो वो भी करते हैं उनसे......| जिन्हें पाने की कोई उम्मीद नहीं होती ||"

“हम तो दीवाने हैं हर पन्ने में गुलाब रखते हैंकहीं पन्ना न फट जाये इसी से डरते हैंपन्ना जो फट गया गुलाब बिखर जायेंगेतेरी यादों के गुलाब बिन, कैसे जी पाएंगे.हैप्पी रोज डे.

"उसकी पलकों से आँसू को चुरा रहे थे हम उसके ग़मोको हंसींसे सजा रहे थे हम जलाया उसी दिए ने मेरा हाथ जिसकी लो को हवासे बचा रहे थे हम "

"गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है, सितारों ने गगन से सलाम भेजा है, मुबारक हो आपको यह दीवाली, हमने तहे दिल से यह पैगाम भेजा है।"

"दिल यूँ ही किसी पर आता नहीं, प्यार यूँ ही किसी से किया जाता नहीं, प्यार करो तो दर्द सहने की आदत डाल लेना, क्योकि ये वो दर्द हैं जो ""मूव"" से भी जाता नहीं,"

आंसू टपक पड़े बेरोजगार के उस एहसास पर ग़ालिब; कि आंसू टपक पड़े बेरोजगार के उस एहसास पर ग़ालिब; जब माँ ने कहा;बेटा खाली बैठा है, जा मटर ही छील ले.

नजरें झुकी तो पैमाने बने,दिल टूटे तो मैखाने बने, कुछ तो जरूर ख़ास है आपमें, हम यूँ ही नहीं आपके दीवाने बने. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

तुम्हारी आँखों में बसा है आशियाना मेरा, अगर ज़िन्दा रखना चाहो तो कभी आँसू मत लाना।

रंगों के त्यौहार में सभी, रंगों की हो भरमार,ढेर सारी खुशियों से, भरा हो आपका संसार,यही दुआ है भगवान् से हमारी हर बार होली मुबारक आपको बार बार!

"एक रात वो मिले ख्वाब में, हमने पुछा क्यों ठुकराया आपने. जब देखा तो उनकी आँखों में भी आंसू थे, फिर कैसे पूछते क्यों रुलाया आपने."

खुद को पढता हूँ, फिर छोड़ देता हूँ, रोज़ ज़िन्दगी का एक हर्फ़ मोड़ देता हूँ…

उम्र भर बचा किये तूफ़ान सेनाखुदा ही कश्तियाँ डुबा गएख़ुदकुशी से डर रहा था मैं ज़रादोस्त मेरे हौसला दिला गएखुद से छुप रहा था मैं, तो आप क्यों?हाथ में ये आइना थमा गए

मैंने चाहा तुझे अबला समझ कर;मैंने चाहा तुझे अबला समझ कर;तेरे बाप ने पीट दिया मुझे तबला समझ कर।

"रिश्ता हमारा इस जहां में सबसे प्यारा हो जैसे जिंदगी को सांसों का सहारा हो याद करना हमें उस पल में जब तुम अकेले हो और कोई ना तुम्हारा हो"

ये जरूरी नहीं कि बोल देने से ही प्यार होता है;आँखों आँखों में भी प्यार का इजहार होता है;एक बार हमारी तरफ बस देख लीजिये;फिर हर वक्त देखना, सपनों में भी हमारा ही दीदार होता है।

"हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है,तब शायरी पर बहार आती है,पीके महबूब के बदन की शराब, जिंदगी झूम-झूम जाती है"

देखिऐ चाँद रात आई है, साथ खुशीयाँ हज़ार लाई है.....तुम चले आओ एक लम्हे को, हम भी माने की ईद आई है....चाँद भाया है चंद लम्हो को, जैसे तुमने झलक दिखाई है...हमने किस्मत अजीब पाई है, ईद का दिन है..और जुदाई है....कह रहें है हवा मुझे यासिर.!!! उसने मेहन्दी अभी लगाई है.

"दोस्ती सिर्फ जज्बात नहीं होती कुछ तो ख्याल आया होगा खुदा को वरना यूं ही आपकी हमसे मुलाकात न होती."

" रात गुमसुम हैं मगर चाँद खामोश नहीं, कैसे कह दूँ फिर आज मुझे होश नहीं, ऐसे डूबा तेरी आँखों के गहराई में आज, हाथ में जाम हैं,मगर पिने का होश नहीं."

आज किसी की दुआ की कमी है, तभी तो हमारी आँखों में नमी है, कोई तो है जो भूल गया हमें, पर हमारे दिल में उसकी जगह वही है.

दिल की बात दिल में मत रखना;जो पसंद हो, उसे आई लव यु कहना;अगर वो गुस्से में आ जाये, तो डरना मत;राखी निकलना और कहना;प्यारी बहना मिलती रहना!रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!

वजह पूछोगे तो सारी उम्र गुजर जाएगी…कहा ना अच्छे लगते हो तो,बस लगते हो….!

"दोनों आखों मे अश्क दिया करते हैं हम अपनी नींद तेरे नाम किया करते है जब भी पलक झपके तुम्हारी समझ लेना हम तुम्हे याद किया करते हैं"

कहा कुछ भी नहीं किसी ने और सुन लिया हमने मन ही मन में न जाने क्या क्या गुन लिया हमने मुश्किल है हकीकत में बिना ख़्वाबों के जी पाना इक अभी टूटा ही था फिर दूसरा बुन लिया हमने शायद न हो वही हस्र उस राह पर इस बार मिसिर दिल के छलावे में फिर उसी को चुन लिया हमने.

"अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफिला जिंदगी का, सुकून ढूढनें चले थे, नींद ही गवा बैठे"

"""दौर ऐ मोहब्बत में हमने सारे अरमान लुटा दिए.ऐसे जलाये थे वो अरमान की निशान भी मिटा दिए..एक आखिरी अरमान हैइसे निभा तुम देना..जो जल कर मिट गया था.........वो निशान बना देना"""

"रिश्ते किसी से कुछ यूँ निभा लो, की उसके दिल के सारे गम चुरा लो, इतना असर छोर दो किसी पे अपना, की हर कोई कहे हमें भी अपना बना लो."

प्यार के रंगों से भरो पिचकारी, स्नेह के रंगों से रंग दो दुनिया सारी, ये रंग न जाने न कोई जात न बोली, सबको हो मुबारक ये हैप्पी होली.

"जिंदगी देने वाले, मरता छोड़ गये, अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये, जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की, वो जो साथ चलने वाले, रास्ता मोड़ गये."

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो,भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी,मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावनवो काग़ज़ की कश्‍ती वो बारिश का पानी.

ज़हासे तेरी बादशाही खत्म होंती हे ,वहा से मेरी नवाबी सुरु होती हे….!!!

लोग कहते हैं प्यार एक ऐसी बिमारी है जिसकी कोई दवा नहीं,अरे उन्हें क्या मालूम बेवफाई एक ऐसी दवा है जिससे यह बिमारी कभी दोबारा नहीं होती.

मेरे बारे में इतना मत सोचना ,दिल में आता हूँ , समज में नही.

"शायरी इक शरारत भरी शाम है, हर सुख़न इक छलकता हुआ जाम है, जब ये प्याले ग़ज़ल के पिए तो लगा मयक़दा तो बिना बात बदनाम है"

इंतज़ार करते करते वक़्त क्यों गुजरता नहीं, सब हैं यहाँ मगर कोई अपना नहीं, दूर नहीं पर फिर भी वो पास नहीं, है दिल में कहीं पर आँखों से दूर कहीं.

"वो जो हमसे नफरत करते हैं, हम तो आज भी सिर्फ उन पर मरते हैं, नफरत है तो क्या हुआ यारो, कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं।"

ना पापा की मार से;ना दोस्तों की फटकार से;ना लड़की के इनकार से;न चप्पलों की बौछार से;आप जैसे आशिक सुधरेंगे सिर्फ राखी के त्यौहार से!

“दिल में बसता है दिल ए यारजब चाहा सर झुकाया और कर लिया दिदारआखों में है आपके प्‍यार का सरूरआप ही ना जाने हमारा क्‍या कसूर ”

"यह ख्वाइश हैं मेरी खुदा से, जिस चीज़ पे तू हाथ रखे वो चीज़ तेरी हो और जिस से तू प्यार करे वोह तकदीर मेरी हो"

"पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार, अपनों का प्यार, यही है यारों होली का त्यौहार. हैप्पी होली."

गुल गई गुलशन गई, गई होंठो की लाली,अब तो मेरा पीछा छोड़, तू हो गई बचो वाली.

खुशियाँ आपकी कम ना होदामन में आपके कोई काँटा ना होजब भी कोई मुसीबत आएतो """"माँ दुर्गा"""" आपके साथ हो""""हैप्पी दुर्गा पूजा"""" ।

दुश्मनी का सफ़र एक कदम दो कदम, तुम भी थक जाओगे, हम भी थक जाएंगे.....

सदियों बाद उस अजनबी से मुलाक़ात हुई, आँखों ही आँखों में चाहत की हर बात हुई, जाते हुए उसने देखा मुझे चाहत भरी निगाहों से, मेरी भी आँखों से आंसुओं की बरसात हुई.

"जब होता है तुम्हारा दीदार, दिल धड़कता है बार-बार, आदत से मजबूर हो तुम,ना जाने कब माँग लो उधार"

"वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए,वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए,कभी तो समझो मेरी खामोशी को,वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें"

काश बनाने वाले ने दिल कांच के बनाये होते.

अँधेरा कब्र का इतने में ही खुश है , की जलता है कोई ऊपर दिया तो..

इस कदर हम उनकी मुहब्बत में खो गए, कि एक नज़र देखा और बस उन्हीं के हम हो गए, आँख खुली तो अँधेरा था देखा एक सपना था, आँख बंद की और उन्हीं सपनो में फिर सो गए

ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;पर उस से झगडा ना करें जो आप से तगड़ा होए!

ज़िंदगी बड़ी अजीब होती है |कभी हार कभी जीत होती है |तमन्ना रखो समंदर की गहराई छूने की |किनारों पे तो बस ज़िंदगी की शुरुवात होती है |

उनके शहर में अपना भी आशियाँ होता, रोक लेते जो उसदिन वो हमे जाने से, उन्हें मालूम था रूठना हमारी आदत है , न जाने क्यूँ मुकर गये हमे मनाने से |

"एक दुआ मांगते है हम अपने भगवन से.. चाहते है आपकी खुशी पुरे ईमान से, सब हसरतें पुरी हो आपकी, और आप मुस्कराए दिल-ओ-जान से"

"तुझको मिल जायेगा बेहतर मुझसे, मुझको मिल जायेगा बेहतर तुझसे, फिर भी दिल में एक ख्याल आता हैं, जानी तू जो मिल जाए तो बेहतर हैं सबसे."

"तुम्हारे संदेश के इंतजार मे हम इतना रोते है, अब तो पड़ोसी भी अपना मूह हमारे आँसूओ से धोते है"

खा के गुजिया, पीके भंग!लगा के थोड़ा, थोड़ा सा रंग!बजा के ढोलक और मृदंगखेले होली हम तेरे संगहोली मुबारक हो!

ये खुदा आज ये फैसला करदे,उसे मेरा या मुझे उसका करदे,बहुत दुःख सहे हैं मैंने ,कोई खुशी अब तो मुक़दर करदे,बहुत मुश्किल लगता है उस से दूर रहना,जुदाई के सफ़र को कम करदे,जितना दूर चले गए वोह मुझसे,उसे उतना करीब करदे,नहीं लिखा अगर नसीब में उसका नाम,तो खत्म कर ये ज़िन्दगी और मुझे फना करदे|

बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद,मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बादतुझसे मोहब्बत थी मुझे बेइन्तहा लेकिन,अक्सर ये महसूस हुआ तेरे जाने के बादअब तक ढून्ढ रहा हूँ मैं अपने अन्दर के उस शख्स को,जो नज़र से खो गया है नज़र आने के बाद.

ये तेरी मुहब्बत है , या दीवानगी मेरी ,जन्नत भी तेरे आगे , सनम बेनूर लगता है ।मुझसे दूर होके भी , मेरी धडकन में बसते हो,जहाँ ये पास रहता है , फिर भी दूर लगता है ।

"जिनकी याद में हम दीवाने हो गए, वो हम ही से बेगाने हो गए, शायद उन्हें तालाश है अब नये प्यार की, क्यूंकि उनकी नज़र में हम पुराने हो गए."

"जिस तरह राम जी के आने पर अयोध्या जगमगा उठा उसितरह ये दीवाली आप की झिंदगी खुशीयो का दीया जला दे हैप्पी दीवाली"

कर अदभुत संकल्प यह मन में माँ गौरी जुट गयी जतन में ओम ओम ओम नमः शिवायपार्वती ने अपने तंन से ममता भरी सुकोमल मल से कण कण अपना अंश जुटाया कर कमलों में उसे उठाया दिव्य कला से रचा माँ ने जिसकी आभा से रोशन था विश्व का कोना कोना चमत्कार से ममतामयी ने फूकी उसमें जान मंद मंद मुस्काते आए श्री गणेश भगवान. हैप्पी गणेश चतुर्थी

कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती;सब कुछ मिल जाता है लेकिन माँ नहीं मिलती;माँ-बाप ऐसे होते हैं दोस्तों, जो ज़िंदगी में फिर नहीं मिलते;खुश रखा करो उनको फिर देखो जन्नत कहाँ नहीं मिलती।मदर डे की शुभकामनाएं!

वो कहती थी कि मैं तुम्हारी जिन्दगी को जन्नत;बना दूंगी, बनानी तो उसे मैगी भी नहीं आती थी;लेकिन मैडम का आत्मविश्वास तो देखो।

गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है,सितारो ने आस्मा से सलाम भेजा है,मुबारक हो आपको क्रिस्मस का त्योहार,हम ने अड्वान्स मे ये पैगाम भेजा है !!!! मेर्री क्रिस्मस !!

"खुशी से बीते हर दिन, हर रात सुहानी रात हो. जिस तरफ आपके कदम पड़े, वहाँ फुलो की बरसात हो. हॅपी बर्थ डे."

तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँमेरी सादगी देख क्या चाहता हूँसितम हो कि हो वादा-ए-बेहिजाबीकोई बात सब्र-आज़मा चाहता हूँ”

गैरों ने उनको देखा तो वो उनके नसीब हो गये |हमने प्यार से देखा फिर भी हम रकीब हो गये |

"काश वो नगमे सुनाये ना होते आज उनको सुनकर ये आंसू आये ना होते अगर इस तरह भूल जाना ही था तो इतनी गहरायी से दिल में समाये ना होते"

"अच्छा दोस्त तकिये के जैसा होता है, मुश्किल में सीने से लगा सकते हैं, दुःख में उसपे रो सकते हैं, खुशी में गले लगा सकते हैं और गुस्से में लात भी मार सकते हैं."

यादों की किम्मत वो क्या जाने,जो ख़ुद यादों को मिटा दिया करते हैं,यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,यादों के सहारे जिया करते हैं.

नए रंग हों नयी उमंगें आँखों में उल्लास नया;नए गगन को छू लेने का मन में हो विश्वास नया;नए वर्ष में चलो पुराने मौसम का हम बदलें रंग;नयी बहारें लेकर आये जीवन में मधुमास नया;नए वर्ष हार्दिक बधाई

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन दिल के ख़ुश रखने को ग़ालिब ये ख़याल अच्छा है…

जब भी चूम लेता हूँ इन हसीन आँखों को,सौ चिराग अंधेरे में झिलमिलाने लगते हैं,फूल क्या, चाँद क्या, सितारे क्या,सब रक़ीब कदमों पर सर झुकाने लगते हैं.

"लोग कहते हैं पिये बैठा हूँ मैं, खुद को मदहोश किये बैठा हूँ मैं, जान बाकी है वो भी ले लीजिये, दिल तो पहले ही दिये बैठा हूँ मैं"

लम्हा लम्हा वक़्त गुजर जायेगा;7 फेरों के साथ कोई तुमसे बंध जायेगा;अभी भी वक़्त है सालों किसी को तो पटा लो;क्या पता किसी का पटाया हुआ माल तुम्हें मिल जायेगा।

क्यों मरते हो यारो सनम के लिए;ना देगी दुपट्टा कफ़न के लिए;मरना है तो मरो वतन के लिए;तिरंगा तो मिलेगा कफ़न के लिए।जय हिन्द-जय भारत।शुभ गणतंत्र दिवस।

"बन के अजनबी मिले थे जिन्दगी के सफर में, इन यादों के लम्हों को मिटायेंगे नही, अगर याद रखना फितरत है आपकी, तो वादा है हम भी आपको कभी भुलायेंगे नही"

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं;तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान है!15 अगस्त मुबारक!

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं, दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं, नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर, फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।

रोटी के भूखे को एक टुकड़ा भीखुश कर जायेगा,आधा पेट भरने पर भीवह खुश हो जायेगा।मगर अपनी हवस में ढूंढते हैं तकदीरवह हमेशा रहेगा भूखाजब तक सामने से आकर कोईआंख में नश्तर न चुभा जायेगा।

लबो पे आज उनका नाम आ गया, प्यासे के हाथ में जैसे जाम आ गया, डोले कदम तो गिरा उनकी बाहों में जाकर, आज हमारा पीना ही हमारे काम आ गया.

"तू देख या न देख, तेरे दॆखनॆ का गम नहीं, पर तेरी यॆ ना दॆखनॆ की अदा दॆखनॆ से कम नहीं .."

तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ;तेरी हंसी की बेपरवाह गुस्ताखियाँ;तेरी जुल्फों की लहराती आंधियां;यह इस साल और आने वाले सभी सालो में बनी रहे;जब तक है जान;जब तक है जान।

गुलाब की खुशबू भी फीकी लगती है,कौन सी खूशबू मुझमें बसा गई हो तुम,जिंदगी है क्या तेरी चाहत के सिवा,ये कैसा ख्वाब आंखों में दिखा गई हो तुम.

वो हुस्न जिसको देख के कुछ भी कहा न जाएदिल की लगी उसी से कहे बिन रहा न जाए ।क्या जाने कब से दिल में है अपना बसा हुआऐसा नगर कि जिसमें कोई रास्ता न जाए ।

आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं;तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान है!15 अगस्त मुबारक!

बड़ी आसानी से दिल लगाये जाते हैं, पर बड़ी मुश्किल से वादे निभाए जाते हैं, ले जाती है मोहब्बत उन राहो पर, जहा दिए नही दिल जलाए जाते हैं.

हम न होते तो किताबें कौन पढ़ता आपके खिले चेहरे को कमल कौन कहता यह तो करिश्मा है शिक्षक दिवस का व्रना पत्थर को ताजमहल कौन कहता।

"कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है, कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है, पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से, तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है"

हम से खुल जाओ ब-वक़्त-ए-मय-परस्ती एक दिन वर्ना हम छेड़ेंगे रख कर उज़्र-ए-मस्ती एक दिन…

रंग उड़ाये पिचकारी, रंग से रंग जाये दुनिया सारी, होली के रंग आपके जीवन को रंग दें, ये शुभकामना है हमारी. शुभ होली.

आपसे मुलाक़ात की अजब निशानी है,हँसते हँसते आंखे भर आती हेंजिंदगी में हो चाहे कितनी परेशानी,आपके साये में हर मुश्किल आसान लगती हें.

पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार;अपनों का प्यार, यही है होली का त्यौहार।होली की आपको शुभ कामनाएं।

"सच्ची है मेरी दोस्ती आजमा के देखलो, करके यकीं मुझ पे मेरे पास आके देखलो. बदलता नहीं कभी सोना अपना रंग, जितनी बार दिल करे आग लगा कर देखलो."

प्यार का तराना, उपहार हो;खुशिओं का नजराना, बेशुमार हो;ना रहे कोई गम का एहसास;ऐसा ही नवरात्रि उत्सव इस साल हो;शुभ नवरात्रि!

"उल्फत में अक्सर ऐसा होता है, आँखे हंसती हैं और दिल रोता है, मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी, हमसफर उनका कोई और होता है"

नजर चाहती है दीदार करनादिल चाहता है प्यार करनाक्या बताऊँ इस दिल का आलमनसीब में लिखा है इंतज़ार करना

सबके दिलो में हो सबके लिए प्यार,आने वाला हर दिन लाए ख़ुसीयो का त्योहार,इस उम्मीद का साथ आओ भूलके सारे गुमक्रिस्मस मे हम सब करे सुवाग्त्म !!! मेर्री क्रिस्मस !!

पांच पीले वासंती फूल नहीं, तुमने मुझे दिए पांच अनेक खूबसूरत एहसास जो अब हर वसंत में मुझे मेरी नजर में बनाएंगे सबसे खास फूलों के साथ तुम मुस्कुराओगे मेरे आस-पास. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

अधिकार मिलते नहीं लिए जाते हैं ,आजाद हैं मगर गुलामी किये जाते हैं ,वंदन करो उन सेनानियों को ,जो मौत को आँचल में जियें जाते हैं.स्वतंत्रता दिवस की बधाई

"हर खुशी दिल के करीब नहीं होती, ज़िंदगी ग़मों से दूर नहीं होती, इस दोस्ती को संभाल कर रखना, क्यूंकि दोस्ती हर किसी को नसीब नहीं होती."

मैं नहीं चाहता दीवारें गिरे , और मैं नए महलो की नीवं रखूँ ,इन्ही दीवारों पर आशाओ की मजबूत छत डालनी चाहिए !मजबूर क्यों हो सफलता किसी के इशारो पे चलने को ,उस सफलता को भी एक तकदीर मिलनी चाहिए !

कभी शर्म की तस्वीर कभी मोहब्बत का पैगाम देती है, आशिकों के दिल पर ज़ख्म हज़ार करती है, अगर चाहे कोई चाहत को लाख छुपाना,आँखें वही हाल ऐ दिल बयान करती हैं.

पल पल से बनता है एहसास;एहसास से बनता है विश्वास;विश्वास से बनते हैं रिश्ते;और रिश्तों से बनता है कोई खास;मुबारक हो ये गणेश चतुर्थी झकास!शुभ गणेश चतुर्थी!

शिव की ज्योति से नूर मिलता है;सबके दिलों को सुरूर मिलता है;जो भी जाता है भोले के द्वार;उसे ज़िन्दगी में सकूँ जरूर मिलता है।आप पर शिव जी की आपर कृपा हो। शुभ महाशिवरात्रि।

काला न कहो मेरे महबूब को; काला न कहो मेरे महबूब को; खुदा तो तिल ही बना रहा था; पर प्याला ही लुढ़क गया.

ना इश्क़ कर मेरे यार यह लड़किया बहुत सताती है,ना करना इन पर ऐतबार यह खर्चा बहुत करवाती है,रीचार्ज तुम करवा के देते हो और नंबर मेरा लगाती है.

कोई इसके साथ है , कोई उसके साथ है , देखना ये चाहिए , मैदान किसके हाथ है.....

अपनी तबाही खुद करने परजब आमादा होता है इंसान,हवस में ढूंढता है अमृतचंद लफ्ज हमदर्दी के जताने वाले कोफरिश्ता समझ लेता है।पेट की भूख तो मिटा देती है रोटीपर हवस में अंधा इंसानअपनी तकदीर अपने हाथ से बिगाड़ लेता है।

होली आई सतरंगी रंगों की बौछार लायी; ढेर सारी मिठाई और मीठा मीठा प्यार लायी! आपकी ज़िन्दगी हो मीठे प्यार और खुशियों से भरी; जिसमे समाये सातों रंग; यही शुभकामना है हमारी!

"अपने दिल को अगर दुखाना हैं, बहारों में अगर घर जलाना हैं...., प्यार करो एक बेवफा से, अगर मोहब्बत को आजमाना हैं."

मैं तुम्हारी कुछ मिसाल तो दे दूँ मगर जानां, जुल्म ये है कि बे-मिसाल हो तुम।

बात मुद्दत के मुस्कुराने की रात आयी है,हर एक वादा निभाने की रात आयी है,वह जो दूर रहा करते थे साये से भी कभी,सीने से उनको लगाने की रात आई हैं.

दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूंप्यार का उसे पैगाम क्या दूंइस दिल में दर्द नहीं बस यादें हैं उसकीअब यादें ही मुझे दर्ददें तो उसे इल्जाम क्या दूं

आज़्म-ए-वफ़ा मेरे वतन के साथ;मेरी खुशियाँ मेरे वतन के साथ;मेरा खून पसीना वतन के साथ;ये जज़्बा मेरे ख़्वाबों के साथ!शुभ गणतंत्र दिवस!

मां का कर्ज नही चुका सकता कभी कोई इस दुनिया मे,भगवान से भी बडा है मां क दर्जा इस दुनिया मे,ना होती वो तो ना बसता ये सन्सार कभी,ना होगी वो तो भी खत्म हो जाएगा सन्सार ये सभी!!

"दूर तो तुम हो ही कुछ और दूर सही, पास होके भी पास मे नही, याद करता है तुम्हे ये दिल बार बार, याद रखना हम यु भूल ना जाना कही."

लक्ष्मी जी का हाथ हो;सरस्वती जी का साथ हो;गणेश जी का निवास हो;और माँ दुर्गा का आशीर्वाद हो;आपके जीवन में हमेशा प्रकाश हो।शुभ नवरात्री।

दिल से जो भी मांगोगे मिलेगा;ये गणेश जी का दरबार है!देवों के देव वक्रतुंडा महाकाया को;अपने हर भक्त से प्यार है!गणेश चतुर्थी की शुभ कामनाएं

खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं, धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं, ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी, हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं.

पी लेंगे तुम्हारा हर एक आंसू;कभी अपनी महफ़िल में बैठाकर तो देखो;भाभी कहोगे तुम अपनी गर्लफ्रेंड को;कभी हमसे मिलाकर तो देखो!

फूलों का तारों का सबका कहना है;एक हजारों में मेरी बहना है;सारी उमर हमें संग रहना है;रक्षा बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!

"आप बेवफा होंगे सोचा ही नहीं था, आप भी कभी खफा होंगे सोचा नहीं था, जो गीत लिखे थे कभी प्यार पर तेरे, वही गीत रुसवा होंगे सोचा ही नहीं था."

"तकदीर ने जैसा चाहा ढल गये हम, यूं तो संभल कर चले थे फिर भी फिसल गये हम, अपना यकीन है कि दुनिया बदल गयी, पर सबका खयाल है कि बदल गये हम."

कितना आसान है जमाने में जनम लेनाबड़ी मुश्किल है एक उम्र तक जीवन जीनाहम तो खामोश हैं तेरी ही खामोशी सेहमने तुमसे ही सीखा है आंसू पीना

कुछ कह भी दो कुछ सुन भी लो; अधूरे लफ्ज़, अधूरे अफ़साने अक्सर कहानी बन जाया करते हैं।

तुझको याद करके रोता है अब दीवाना तेरा;जो ना भूल पाएगा कभी भी ठुकराना तेरा;तुम हमें भूल जाओ शायद ये फितरत है तेरी;मुश्किल है हमारे लिए प्यार भुलाना तेरा।

है तमन्ना फिर, मुझे वो प्यार पाने की...दिल है पाक मेरा , ना कोशिश कर आज़माने की ...जब एतबार है तुझे मेरा, और मुझे तेरी वफाई का ...तो फिर क्यूँ करता है परबाह, ये दिल ज़माने की.

खुशिया गम का तोहफा देके गुजर जाती है करीब से.जिसे चाहता है दिल, वो बिछड़ जाते है नसीब से.

"न मंदिर न भगवान, न पूजा न स्नान, शाम होते ही हमारा सबसे पहला काम एक प्यारा सा SMS अपनी दोस्ती के नाम."

मैं जहाँ जहाँ देखता हूँ, मुझे तेरा चेहरा नज़र आता है।इसमें तेरा कसूर नहीं है। सारे के सारे चेहरे आज एक ही रंग में रंगे हुए हैं।होली मुबारक।

ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तकदीर भी! फर्क तो रंगों का है!मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर; और अनजाने रंगों से बने तो तकदीर!!

"हम जिनके दीवाने है वो गैरों के गुण गाते थे, हमने कहा आपके बिन जी ना सकेंगे, तो हंस के कहने लगे, के जब हम ना थे तब भी तो जीते थे.."

हर पल हर छण,तुम्हारी कमी सताती है।हर पग हर डगर,तुम्हारा एहसास दिलाती है।नहीं दर्शाता मैं किसी को,चेहरा तुम्हारा याद आता है।शत-शत नमन मैं करूँ तुमको,माँ तेरा दुलार याद आता है।

इश्क़ में ग़ैरत-ए-जज़्बात ने रोने न दियावर्ना क्या बात थी किस बात ने रोने न दियाआप कहते थे के रोने से न बदलेंगे नसीबउम्र भर आपकी इस बात ने रोने न दिया

चलो इस बारिश में समंदर के सफर पर चलें बारिश की बूंदों को लहरों पर थमते हुए देखें मछुआरों के जाल में,वक्त को उलझाकर, यादों की सीपी से खुशियों के लम्हे चुने

रावण के 10 सर,20 आँखें,पर नज़र एक ही लड़की पर,आपका सर 1,आखें 2,पर नज़र हर लड़की पर.अब बताओ कीअसली रावण कौन ?हैप्पी दशहरा ।

"जब आप किसी को चाहो तो ऎ मत सोचो की, वो आप को पसंद करता है की नही, बस उसॆ इतना चाहो की उसॆ आप कॆ सिवा, किसी और की चाहत पसंद ही ना आए ..."

जान तो कर दी हमने वतन के नाम पर ,शान तो कर दी हमने वतन के नाम पर,कुर्बानियो से पाई है हमने आज़ादी ,हमारा वतन तो लाखों में एक है ,आन भी कर दी हमने वतन के नाम पर।स्वतंत्रता दिवस की बधाई

"दिन बीत जाते हैं सुहानी यादें बनकर, बातें रह जाती हैं कहानी बनकर, पर दोस्त तो हमेशा दिल के करीब रहेंगे, कभी मुस्कान तो कभी आखों का पानी बन कर."

पुराना साल सबसे हो रहा है दूर, पुराना साल सबसे हो रहा है दूर, क्या करें यही है कुदरत का दस्तूर, पुराने यादें सोचकर उदास न हो तुम, नया साल आया है चलो... धूम मचाले, धूम मचाले धूम!!

"ज़िंदगी की राहों मे आगे जाओगे, तो पीछे एक साया तुम हर दम पाओगेमुड़ कर देखोगे तो तन्हाई होगी, महसूस करोगे तो हमे पाओगे.."

"अपनों को याद करना प्यार हैं, गैरों का साथ देना संस्कार हैं, दुश्मनो को माफ करना उपकार हैं, और आप जैसे दोस्तों को परेसान करना जन्मसिद्ध अधिकार हैं."

ॐ नमः शिवाय।शिव की महिमा अपरं पार;शिव करते सबका उद्धार;उनकी कृपा आप पर सदा बनी रहे;और आपके जीवन में आयें खुशियाँ हज़ार।महा शिवरात्रि के पावन दिन की आपको हार्दिक शुभ कामनाएं।

"वो हमें देख रहे थे तिरछी नजरों से, हमारे होश खो गए, वो हमें देख रहे थे तिरछी नजरों से, हमारे होश खो गए, जब हमें पता चला की उनकी नजरे ही तिरछी है तो हम बेहोश हो गए"

उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है,उनसे कह नही पाना हमारी मजबूरी है,वो क्यूँ नही समझते हमारी खामोशी को,क्या प्यार का इज़हार करना जरूरी है.

"हम आपके जन्मदिन पर देते हैं यह दुआ, हम और तुम मिलकर, होंगे कभी ना जुड़ा, जीवन भर साथ देंगे अपना हे ये वादा, तुज पर अपनी जान भी देंगे, अपना हे ये इरादा."

"मां कि ज्योति से प्रेम मिलता है, सबके दिलों को मरहम मिलता है, जो भी जाता है मां के द्वार, कुछ ना कुछ जरूर मिलता है, शुभ नवरात्री."

कुमकुम रोली और मिठाईराखी की थाली सज आईबहन आज फूली ना समाईसंग राखी खुशियाँ घर आई.

"राम युग में दूध मिला, कृषण युग में घी, इस युग में दारू मिली, खूब दबाकर पी."

"तुम करोगे याद एक दिन इस प्यार के ज़माने को, चले जाएँगे जब हम कभी ना वापस आने को. करेगा महफ़िल मे जब ज़िक्र हमारा कोई, तो तुम भी तन्हाई ढूंढोगे आँसू बहाने को."

"आजाद की कभी शाम नहीं होने देंगें; शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगें; बची हो जो एक बूंद भी गरम लहू की; तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगें, स्वतंत्रता दिवस की सभी को बधाई."

"कभी-कभी मेरे दिल में ख्याल आता है कभी-कभी मेरे दिल में ख्याल आता है तुम होती तो यह कहती,तुम होती तो वो कहती इस बात पर हँसती,उस बात पर नाराज होती शुक्र है तुम नहीं हो,"

गणेश की ज्योति से नूर मिलता है;सबके दिलों को सुरूर मिलता है;जो भी जाता है गणेशा जी के द्वार;कुछ न कुछ ज़रूर मिलता है!जय श्री गणेश!

"तुझे भूलकर भी न भूल पायेगें हम, बस यही एक वादा निभा पायेगें हम, मिटा देंगे खुद को भी जहाँ से लेकिन, तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम."

"ये दिन ये महीना ये तारीख जब जब आई हम ने कितने प्यार से जनम दिन की महफिले सजाई हर शमा पर नाम दिया दोस्ती का इस की रोशनी में चाँद जैसी तेरी सूरत है समाई."

निगाहों से दिल को घायल करके चले गए ,वो बेखबर कितनो को पागल करके चले गए,हद से गुजर गया हे अब तो ये दर्द जुदाई का ,किसके नाम वो अपना आँचल करके चले गए .

"तुमको देखा तो ये ख्याल आया पागलों के स्टाक में नया माल आया"

फूलों ने खिलना छोड़ दिया;तारो ने चमकना छोड़ दिया;होली में अभी बाकी हैं कई दिन;फिर आपने अभी से नहाना क्यों छोड़ दिया।होली मुबारक।

कोख से जन्म दे, ये संसार दिखाया,रातों भर जग, सुखे बिस्तर पर सुलायाहर मोड पर कच्चे घडे की तरह,हाथों का सहारा दे मजबूत बनना सिखायाममता भरी छाव में, हाथ थामे मेरा,चलना सिखाया, पढना सिखाया टेढे-मेढे रास्तो की डगर से बचाकर,जीवन के सफर में आगे बढना सिखाया

"इस से पहले की रंगों का त्योहार सुरु हो जाए... बधाईयों का सिलसिला आम हो जाए.... रंगों में हमारा नाम खो जाए.... क्यों न होली की अभी से राम - राम हो जाए…"

हादसों की ज़द में हैं तो मुस्कुराना छोड़ दें , जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें ?

"ये आरजू नहीं की किसी को भुलाए हम ना तमन्ना की किसी को रुलाए हम पर दुआ है रब से इतनी की जिसको जितना याद करते है उसको उतना याद आये हम.."

आओ दिलों की दूरियां मिटा दें कुछ इस तरह सीने से लगा लो हमें बांहों में सिमट जाने दो खुद पर यकीन है तुम्हें पा कर ही रहेंगे तकदीर को छोड़ो हमे खुद को आजमाने दो मेरी खुशबू से महके तेरे घर का हर कोना अपने आँगन में मुझे पत्तों सा बिखर जाने दो

नम पलकों के संग मुस्काते है हम,लम्हा लम्हा दिलको बहलाते हैं हम,आप दूर हैं हमसे तो क्या हुआ,अपने धडकते दिल में आपकी आहात पाते है हम.

हवस को है नशात-ए-कार क्या क्या न हो मरना तो जीने का मज़ा क्या…

कैसे मुमकिन था किसी और दवा से इलाज़? अय ग़ालिबइश्क का रोग था; माँ की चप्पल से ही आराम आया.

जिन्दगी कुछ थका थका हूँ मैंदेख ले लड़खड़ा रहा हूँ मैंरेत में ढूँढता रहा मोतीक्या कहूं कितना बावला हूँ मैंजा चुका मेरा काफिला आगेथा जहां पर वहीं खड़ा हूँ मैंखूबियां पूछता है क्यों मेरीकुछ बुरा और कुछ भला हूँ मैंअपनी सूरत कभी नहीं देखीलोग कहते हैं आइना हूँ मैं

कुछ तो ख़ता हुई होगी हमसे,जो वो हमें छोड़कर चल दिये.उम्रभर साथ देने का वादा था,बीच सफ़र में तनहा छोड़कर चल दिये.

मेरा हर लम्हा चुरा लिआ आपने,आँखों को एक चाँद दिखा दिया आपने,हमें जिन्दगी दी किसी और ने,पर प्यार इतना देकर जीना सीखा दिया आपने.

नहीं नसीब में पानी तो हवा रख दे।जिगर में धूप तो अहसास में घटा रख दे।अगर ये जिस्म की दूरी मिटा नहीं सकता,दिलों के बीच भी सदियों का फासला रख दे।

लोगो से कह दो हमारी तकदीर से जलना छोड़ देहम घर से दवा नही भगवान की दुआ लेकर निकलते है... !!!कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआ, तो भी कोई बात नहीं...वैसे भी हम खुशियाँ रखते नहीं, बाँट दिया करते है...!!!

अपने हसीन होठो को किसी परदे मेंछुपा लिया करो,हम गुस्ताख़ लोग हे, नजरो से चुम लिया करते हे…!!

"शाम के बाद मिलती है रात, हर बात में समाई हुई है तेरी याद. बहुत तनहा होती ये जिंदगी, अगर नहीं मिलता जो आपका साथ."

"गुनाह करके सज़ा से डरते हैं, जहर पी के दवा से डरते हैं, दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं, हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं."

"पलकों पे अपनी बिठाया हैं तुम्हे, बरी दुवाओ के बाद पाया हैं तुम्हे, इतनी आसानी से नहीं मिले हो तुम, नेशनल जूओलोजिकल पार्क से चुराया हैं तुम्हे."

कुछ तेरे लफ्ज़कुछ मेरे लफ्ज़साथ चलेबात कहलायेबातें करते लफ्ज़ ,जुड़ गएजज़्बात कहलाये

जवानी जाती रही और हमें पता भी ना चला , उसी को ढूंढ रहे हैं , कमर झुकाए हुए,,,,

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ……!!!!

जब तक कांटों के साथ थागुलाब जिंदा रहाअलग हुआ तो मुरझा गया,वह चिराग क्या अपना दर्द बयान करेजिसको जलाने वाला ही बुझा गया।हैप्पी रोज डे.

दुश्मन नसिब अपना,साचा रकिब अपना.सांसोमें सोना चांदी,दिल है गरिब अपना. है कौन के जिसे मैं समजु करीब अपना,तनहा हुं महेफीलोमें, ये है नसीब अपना.

धोखा दिया था जब तूने मुझे. जिंदगी से मैं नाराज था,सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं. मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था

पढ़ रहा हुं मैं इश्क की किताबअगर बन गया वकील तो ,बेवफओं की खैर नही…।

"हर राह आसान हो, हर राह पे खुशिया हो, हर दिन खूबसूरत हो, ऐसा ही पूरा जीवन हो, यही हर दिन मेरी दुआ हो, ऐसा ही तुम्हारा हर जन्मदिन हो."

"हम वो नहीं की भूल जाया करते हैं, हम वो नहीं जो निभाया करते हैं, दूर रहकर मिलना सायद मुस्किल हो, पर याद करके सांसो में बस जाया करते हैं."

शिक्षक न देखे जात-पात,शिक्षक न करता पक्ष-पात,निर्धन हो या हो धनवान,शिक्षक को सब एक सामान.

हो आपकी लाइफ मे खुशियोंका मेला, कभी ना आए कोई झमेला,सदा सुखी रहे आपका बसेरा. हैप्पी दशहरा

दिल की किताब में गुलाब उनका था, रात की नींद में ख्वाब उनका था, कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा, मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था.

यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम; न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम; जिसको जितना याद करते हैं; उसे भी उतना याद आयें हम.

है मुश्तमिल नुमूद-ए-सुवर पर वजूद-ए-बहर याँ क्या धरा है क़तरा ओ मौज-ओ-हबाब में…

"दोस्ती चीज नहीं जताने की, हमें आदत नहीं किसी को भुलाने की, हम इसलिये आपसे कम बात करते हैं, की नजर लग जाती है रिश्तों को जमाने की."

"काश वो पल संग बिताए न होते जिनको याद कर के ये आँसू आये ना होते खुदा को अगर इस तरह दूर ले जाना ही था तो इतनी गहराई से दिल मिलाए ना होते "

सोचता हूँ क्या दे पाउँगा जो मैंने पाया है इस देश सेक्या मैं कभी चुका पाउँगा जो मैंने पाया है इस देश से ||फेलाना है मुझे देश सम्मान की भावनाशायद इस तरह नज़र मिला पाऊं इस देश से ||खोया है हर नागरीक जाने किस होड़ मैंदिलाना है याद उसे इस देश की ||मौका है गडतंत्र दिवसमिल के सुंदरता बढ़ाना है इस देश की

"उसकी पलकों से आँसू को चुरा रहे थे हम, उसके ग़मोको हंसींसे सजा रहे थे हम, जलाया उसी दिए ने मेरा हाथ जिसकी लो को हवासे बचा रहे थे हम"

मां बाप की मूरत है गुरू कलयुग में भगवान की सूरत है गुरू अक्षर ज्ञान ही नहीं गुरू ने सिखाया जीवन ज्ञान गुरूमंत्र को आत्मसात हो जाओ भवसागर से पार

हुई जिन से तवक़्क़ो ख़स्तगी की दाद पाने की वो हम से भी ज़ियादा ख़स्ता-ए-तेग़-ए-सितम निकले...

किसी की मुस्कुराहट में झलकता है जो अपनापनउसी से हौसला पाकर उदासी मुस्कुराती है मुहब्बत करनेवालों से खफ़ा रहती है क्यों दुनियाबिना मतलब वो उनकी राह में कांटे बिछाती हैकिसी की आँख से घायल छलकते हैं जहाँ आँसूवहाँ के फूल में ख़ुशबू ख़ुदा के घर से आती है

लल्ला कृष्ण बल कान्हा तेरी नटखट यादों का उत्सव मनाया जाता है श्री कृष्ण का जन्म दिवस जन्मास्टमी कहलाता है मन में प्रेम का फूल खिले कृष्ण सा साथी मिले होती तमन्ना हर गोपी की उत्सव का ये प्रथा चला लल्ला कृष्ण बल कान्हा द्वापर युग में आये यहाँ प्रेम की बंशी बजाई बैर वैमनष्य मिटाई

ना ज़ुबान से;ना फ़ोन से;ना कार्ड से;ना गिफ्ट से;ना पोस्ट से;और ना मेल से;ईद मुबारक हो आपको एकदम दिल से!

"बस इतना ही कहा था, कि बरसो के प्यासे हैं हम, उसने अपने होठों पे होंठ रख के, हमे खामोश कर दिया"

जब भी उसके नाज़ुक बदन को छूता हूं, समंदर की लहरों सा महसूस करता हूं, छुई मुई सी है मानो वह मेरी जानम, एक छुवन से उसके मुरझाने से डरता हूं. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

नया साल आया बनकर उजाला;खुल जाए आपकी किस्मत का ताला;हमेशा आप पर मेहरबान रहे ऊपर वाला;यही दुआ करता है आपका ये चाहने वाला।नया साल मु

"हम तो फना हो गए उनकी आँखे देखकर, ग़ालिब ना जाने वो आइना कैसे देखते होंगे"

लाल फूलों की माला से सजा माँ का दरबार;पुलकित हुआ मन, उतावला हुआ संसार;माँ अपने क़दमों से आयी है आपके द्वार;मुबारक हो आपको नवरात्रि का ये पावन त्योंहार!

"मोतियाँ, बेला, फूल, कलियाँ, देखो यारों सब तो हैं ना, आज तुम्हारी सालगिरह है, देखो हम को याद तो है ना, हॅपी बर्थ डे"

आँखों में आँसू की जगह न हो, मेरे पास आपको भुलाने की वजह न हो, अगर भूल जाऊ किसी तरह तो, खुदा करे जिंदगी की अगली सुबह न हो.

शिक्षक माझी नाव किनारा,शिक्षक डूबते को सहारा,शिक्षक का सदा ही कहना,श्रम लगन है सच्चा गहना.

"दिल में कोई और बसा तो नहीं, ये चाहत इश्क की ज्यादा तो नहीं, सब मुझे चाहने लगे हैं...., कहीं मुझ में तुम्हारे जैसी कोई अदा तो नहीं."

होली रंगों का त्यौहार है, दुनिया है रंग बिरंगी, प्यार के रंग से भर लो जीवन, दुश्मन हो या हो संगी.

"उनकी गली से गुज़रे…अजीब इत्तेफ़ाक था… उनकी गली से गुज़रे…अजीब इत्तेफ़ाक था… उन्होंने फूल फेंका…गमला भी साथ था."

“ओस की बूंदे है, आंख में नमी है,ना उपर आसमां है ना नीचे जमीन हैये कैसा मोड है जिन्‍दगी काजो लोग खास है उन्‍की की कमी हैं ”

"जाने कब-कब किस-किस ने कैसे-कैसे तरसाया मुझे, तन्हाईयों की बात न पूछो महफ़िलों ने भी बहुत रुलाया मुझे"

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती मेरी ख्वाहिश है कि में फिर से फरिश्ता हो जाऊँमाँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि फिर से बच्चा बन जाऊँ

कोई एक तो वादा निभा दिया होता,मेरी वफाओ का कुछ तो सिला दिया होता,तबाह करना था अगर प्यार मे मुझको,खुद अपने हाथो से मुझे मिटा दिया होता

ना खुशी ना कोई तमन्ना है अबबस अपने ही साए के संग रहते हैं हमकैसे कहें कैसे हैं हमबस यूँ समझलो आप खुश हैं तो खुश हैं हम.

रस्ते को भी दे दोष , आँखें भी कर लाल, चप्पल में जो कील है , पहले उसे निकाल.....

सिर्फ तूने ही कभी मुझको अपना न समझा ,जमाना तो आज भी मुझे तेरा दीवाना कहता है

"हर दिन से प्यारा लगता है हमें यह ख़ास दिन, जिससे बिताना नहीं चाहते हम आप बिन. वैसे तो दिल देता है सदा ही दुआ आपको, फिर भी कहते हैं मुबारक हो आपको यह जन्मदिन."

आइना - ए - दिल टूटा सही,इसमें कोई सूरत तो है। ख़वाहिश उनकी ख़वाब सही, ख़वाब मगर खूबसूरत तो है ।।

ग़ज़ल एक ऐसा शफ़्फ़ाक़ आइना है जिसके हर शेर में एक नई तस्वीर मुस्कुराती है,सिर्फ़ हुस्न और इश्क़ की बात नहीं वह ज़िन्दगी के हर पहलू की बात भी समझाती है

"सितारों के बीच से चुराया है आपको, दिल से अपना दोस्त बनाया है आपको, इस दिल का ख्याल रखना, क्योंकि इस दिल के कोने में बसाया है आपको ."

"ज़रूर तुमको किसीने दिल से पुकारा होगा, एक बार तो चाँद ने भी तुमको निहारा होगा, मायूस हुए होंगे सितारे भी उस दिन, खुदा ने जब ज़मीन पर तुमको उतरा होगा. जन्मदिन मुबारक "

प्यार के मोड पर मिल गये हो अगर,यु हि मिलने मिलाने का वादा करो,हम ने माना मोहब्बत का दस्तुर है,हुस्न कि हर अदा हम को मन्जुर है,रुठना है जरुरी तो रुठो मगर, बाद मे मान जाने का वादा करो.

हिम्मते-इल्तिजा नहीं बाक़ीज़ब्त का हौसला नहीं बाक़ीइस तिरी दीद छिन गयी मुझसेवरना दुनिया में क्या नहीं बाक़ी

जिन दिनो आप थे, आँख में धूप थी...जिन दिनो आप रहते थे, आँख में धूप रहती थी...अब तो जाले ही जाले हैं, वे भी जाने वाले हैं...वो जो था दर्द का क़रार कहाँ...वो जो था दर्द का क़रार कहाँ...अब मुझे कोई इंतेज़ार कहाँ...वो जो बहते थे आब्शार कहाँ...अब मुझे कोई इंतेज़ार कहाँ

"एक दुआ माँगते है हम अपने भगवान से, चाहते है आपकी खुशी पूरे ईमान से, सब हसरतें पूरी हो आपकी, और आप मुस्कुराएँ दिलो जान से."

"आंसू से पलके भींगा लेता था, याद तेरी आती थी तो रो लेता था, सोचा था की भुला दूँ तुझको मगर, हर बार ये फैसला बदल लेता था."

"लोग अपना बना के छोड़ देते हैं, अपनों से रिशता तोड़ कर गैरों से जोड़ लेते हैं, हम तो एक फूल ना तोड़ सके, नाजाने लोग दिल कैसे तोड़ देते हैं."

ना सलाम याद रखना, ना पैगाम याद रखना। छोटी सी तमन्ना है ऐ दोस्त मेरा नाम याद रखना।

काश ! कि मैंने उस चीज को पाने की कभी तमन्ना ना की होती जिंदगी में,जिसे पाने की ना औकात है मेरी , ना तकदीर से हकदार हूँ मैं उस की....

रंजिश ही सही , दिल को दुखाने के लिए आ, आ फिर से मुझे , छोड़ जाने के लिए आ.....

"जमाने से नही तो तनहाई से डरता हुँ, प्यार से नही तो रुसवाई से डरता हुँ, मिलने की उमंग बहुत होती है, लेकिन मिलने के बाद तेरी जुदाई से डरता हुँ।"

माँ से बड़कर कोई नाम क्या होगाइस नाम का हमसे एहतराम क्या होगाजिसके पैरों के नीचे जन्नत हैउसके सर का मक़ाम क्या होगा…

"दिल यूँना कभी उदास होता, जो कोई अपना हमारे पास होता, यूँ तो हमने साथ दिया अक्सर अपनों का, पर काश किसी को हमारी तन्हाई का एहसास होता."

है पर-ए-सरहद-ए-इदराक से अपना मसजूद क़िबले को अहल-ए-नज़र क़िबला-नुमा कहते हैं…

"साथ नहीं रहने से रिश्ते नहीं टुटा करते वक़्त की धुंध से लम्हे नहीं टुटा करते लोग कहते हे मेरा सपना टूट गया टूटी नींद है सपने नहीं टुटा करते."

"आशिकों की किस्मत में जुदा होना ही लिखा होता है, सच्चा प्यार होता है तो दिल को खोना ही लिखा होता है, सब जानते हुए भी में भी प्यार उससे कर बैठा, भूल गया के मोहब्बत में सिर्फ रोना ही लिखा होता है."

"हवा के हाथ पैगाम भेजा है; रोशनी के जरिये एक अरमान भेजा है; फुर्सत मिले तो कबुल कर लेना; इस नाचीज़ ने रंगों के त्यौहार का प्यार भेजा है."

दीवानगी के दामन पर अनेकों सुराख होते,ज़रा भी अगर हमारे मनसूबे नापाक होते।उल्फत दस्तक न देती तेरे दिल के द्वार पर,प्रेम की तपिश में जलकर न हम खाक होते।तुम्हीं ने ढककर रखी, ख्वाइशे लिबास में,हर पर्दा गिरा देते, थोड़ा अगर बेबाक होते।

तेरी गलतियों को माफ़ कौन करता;मैं ना रहता तो तुझसे इन्साफ कौन करता;शुक्र है खुदा ने सलामत रखा मेरे दोस्त को;वरना मेरी शादी में जूठी प्लेटें साफ़ कौन करता!

दुश्मन नसिब अपना,साचा रकिब अपना.सांसोमें सोना चांदी,दिल है गरिब अपना. है कौन के जिसे मैं समजु करीब अपना,तनहा हुं महेफीलोमें, ये है नसीब अपना

शिव की शक्ति से;शिव की भक्ति से;खुशियों की बहार मिले;महादेव की कृपा से;आप सब दोस्तों को जिंदगी में प्यार मिले।महाशिवरात्रि के पावन अफसर पर शुभ कामनाएं!

मां काली का सुरक्षित हाथ हो,सरस्वती का साथ होलक्ष्मी का निवास होऔर मां दुर्गा के आशिर्वाद से आपके जीवन में प्रकाश होहैप्पी नवरात्रि

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना;तुम कुंवारे रहे, लेकिन मेरी शादी जरूर कराना!

"कल हलकी सी बरसात में हो गयी मुलाक़ात उनसे, नज़रों की शबनम ने जैसे कर ली हो हर बात …उनसे, उनकी आँखों में थी ऐसी कशिश के क्या कहें, मेरे जिस्म के रोम रोम ने कर ली मोहब्बत उनसे"

"बहुत बहुत मुबारक है ये समां, बहुत ही नायाब लग रहा आज जहाँ, आपसे दूर हूँ स्वीकार कीजिए ये संदेश, आप के जन्मदिन से सजा है आज सारा जहाँ."

यादो में न ढूंढो हमे,मन में हम बस जायेंगे.तमन्ना हो अगर मिलने की,तो हाथ रखो दिल पर.हम धड़कनों में मिल जायेंगे.

"ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक हैं, तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक हैं, वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी, हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक हैं."

" एय मेरी जिन्दगी यूँ मुझसे दगा ना कर, उसे भुला कर जिन्दा रहू दुआ ना कर, कोई उसे देखता हैं तो होती हैं तकलीफ, एय हवा तू भी उसे छुवा ना कर ....."

तमन्ना करने से ही पुरी होती है हर तमन्नादिल धडकने से ही पुरा होता है हर सपनाकोशिश करने से हर रह आसान हो जाती हैऔर आगे बढने से हर मन्ज़िल मिल जाती है

लफ्ज़ वही हैं , माईने बदल गये हैंकिरदार वही ,अफ़साने बदल गये हैंउलझी ज़िन्दगी को सुलझाते सुलझातेज़िन्दगी जीने के बहाने बदल गये हैं.

हवा का झोंका आया;तेरी खुसबू साथ लाया;मैं समझ गई कि तू आज फिर नहीं नहाया।

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की, लम्हें तो खुद-ब-खुद मिल जाया करते हैं।

तलब उठती है बार-बार तेरे दीदार की; ना जाने देखते-देखते कब तुम लत बन गये।

होली का रंग धुल जायेगा;दोस्ती का रंग ना धुल पायेगा;यही तो असली रंग हैं जिंदगी का;हर पल गहरा होता जायेगा।होली के ढेर सारी शुभकामनाएं।

हवा के हाथ पैगाम भेजा है; रोशनी के जरिये एक अरमान भेजा है; फुर्सत मिले तो कबुल कर लेना; इस नाचीज़ ने रंगों के त्यौहार का प्यार भेजा है!

"मुबारक हो तुम्हे नववर्ष का महिना, चमको तुम जैसे फागुन का महिना, पतझर न आये तेरी जिन्दगी में, यही हैं दोस्त अपनी तम्मना."

"बिकता है गम इश्क के बाज़ार में, लाखों दर्द छुपे होते हैं. एक छोटे से इंकार में, हो जाओ अगर ज़माने से दुखी, तो स्वागत है हमारी दोस्ती के दरबार में."

जब तुम रोते थे रात-रात भर।वो जागती थी आँचल में लेकर।।अब वह रोती है रात-रात भर।तुम सोए रहते हो चादर ओढ़कर।।

साबित हुआ है गर्दन-ए-मीना पे ख़ून-ए-ख़ल्क़ लरज़े है मौज-ए-मय तिरी रफ़्तार देख कर…

निखरे हैं रंग सभी मेंहदी के फिज़ाओं मेंये ईद की खुशबू है फैली आज इन हवाओं मेंकल रात जब चाँद उतरा मेरे आँगन मेंसारे जहां के लिए ख़ुशी मैंने माँग ली दुआओं में

बारहा गुजरे ज़माने ढूँढते हैंतुमसे मिलने के बहाने ढूँढते हैंक्या पता किस मोडपर मिल जाएगा वो?गुमशुदा दिल को दिवाने ढूँढते हेंये तो बस दीवानगी की इंतहा हैगूंगी गलियों में तराने ढूँढते हैं

दरगुज़र उसकी हर खता कर दी हमने उसके हक में आज फिर दुआ कर दी हमने १ लम्हा भी न लगा खोने में उसको जिसको पाने में हर इन्तहा कर दी हमने ..!!

"खुदा से कोई बात अंजान नहीं होती, इन्सान की बंदगी बेईमान नहीं होती. कही तो माँगा होगा हमने भी एक प्यारा सा दोस्त वर्ना यूंही हमारी आपसे पहचान न होती.."

रब दी सौ, तू रूठी तो मैं मनाऊंगा,गिफ्ट्स से नहीं मानी तो प्यार से तुझे मनाऊंगारूठे यार नु मना ले कमलियां रब आपै मन जाएगा

"उलझन कोई आए तो मुझसे न छुपाना, साथ न दे जुवा तो आँखों से जताना, हर कदम पे साथ हैं हम आपके, अगर अपना समझते हो तो.. एक बार नहीं दस बार आज़माना."

ख्वाइस तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये,शमा खामोस हो जाये और शाम ढल जाये,प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये,और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये.

न जाने इतनी मोहब्बत कहाँ से आ गयीउस अजनबी के लिए ,की मेरा दिल भी उसकी खातिर अक्सरमुझसे रूठ जाया करता हे ..!!

कोई तो बुक ऐसी मिलती जिस पे दिल लुटा देते;हर सब्जेक्ट ने दिमाग़ खाया किसी एक को निपटा देते;अब सेलेबस देख कर ये सोचते हैं कि;एक महीना ओर होता तो दुनिया हिला देते।

हम ये नहीं चाहते कीकोई आपके लिए ‘दुआ’ ना मांगे, हम तो बस इतना चाहते है की कोई ‘दुआ में ‘आपको’ ना मांगे. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

बैर और अलगाव से ऊपर रहे हर भावनानफ़रतो का आपस में न रहे नामोनिशांज़र्रा ज़र्रा महक उठे ख़ुशियों से मेरे मुल्क कायहीं ईद का पयाम है,है यही मेरी कामना

छुपे-छुपे से रहते हैं सरेआम नही हुआ करते, कुछ रिश्ते बस एहसास होते हैं उनके नाम नहीं हुआ करते।

"बार बार ये दिन आये, बार बार ये दिल गाये, तु जिये हजारों साल, यही है मेरी आर्जू, हेप्पी बर्थ डे टू यू ."

होली आयी रंगों की बहार लाई. रंग से बचने सब खेले आँख मिचोली. कोई हम से बच न पायेगा ये है रंग बी रंगों की होली

मैनें भी बदल दिये हैं ऊसूल ए जिन्दगी;अब जो याद करेगा, सिर्फ़ वो ही याद रहेगा;….!!

दिल मेरा फिर से तेरा प्यार माँगे ,प्यासे नयना फिर से तेरा दीदार माँगे ,प्रेम,स्नेह से प्रकाशित हो दुनिया मेरी ,ऐसा साथी पूरा जग संसार माँगे।

अचानक वह नज़र जो आए तो,पैमाने छलक गए जैसे, दिल के अरमान भडक गए ऐसे तीर दिल के आर पार भी हो,पर निशान नज़र न आए.

लबों को इज़हार दे दो,कुछ लफ्ज़ उधार दे दो|थम गई जिंदिगी क्यों,वक्त को इंतज़ार दे दो|कुछ लफ्ज़ उधार दे दो..

नन्हे से दिल मे अरमान कोई रखना, दुनिया की भीड मे पहचान कोई रखना,अच्छा नही लगता, जब रहते हो उदास, अपने होंठो पे सदा मुस्कान वही रखना

मिठास भरी हुई हर् ओर है,लगता है जैसे खूबसूरत समा पुर-ज़ोर है.ढूंदा तो पाया आपकी है ये मिठासजो आज की दिन एक चॉकलेट की तरह,मीठी और छाई हर ओर है.हैप्पी चॉकलेट डे

किसी को प्यार इतना देना की हद न रहे, पर ऐतबार भी इतना करना की शक न रहे, वफ़ा इतना करना की बेवफाई न रहेऔर दुवा इतना करना की जुदाई न रहे. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

"रंग उराए पिचकारी.... रंग से रंग जाए दुनियाँ सारी... होली के रंग आपके जीवन को रंग दे... ये शुभ-कामनाएँ हैं हमारी...."

वो यूं ही रूठ गए,सारे अरमान मेरे टूट गए.नफरत का ढोंग ऐसा दिखाया,कि वो पत्थर बनकर जीने लगे,और हम शीशा बनकर टूट गए.

शिक्षक है शिक्षा का सागर,शिक्षक बांटें ज्ञान बराबर,शिक्षक मंदिर जैसी पूजा,माता-पिता का नाम है दूजा,प्यासे को जैसे मिलता पानी,शिक्षक है वो ही जिंदगानी.

तकदीर लिखने वाले एक एहसान लिख दे,मेरे दोस्त की तकदीर में मुस्कान लिख दे,ना मिले जिंदगी में कभी भी दर्द उसको,चाहे उसकी किस्मत में मेरी जान लिख दे।

"वक्त के पन्ने पलटकर, फ़िर वो हसीं लम्हे जीने को दिल चाहता है, कभी मुशाकराते थे सभी दोस्त मिलकर, अब उन्हें साथ देखने को दिल तरस जाता है."

तमन्ना तेरे जिस्म की होती तो छीन लेते दुनिया से, इश्क तेरी रूह से है इसलिए खुदा से मांगते हैं तुझे।

हमारी जिन्दगी है एक कहानी की तरह ,हवा हूँ जिसमें मैं और तू पानी की तरह ,मेरी रुखों से तू दामन तो यूं छुड़ा के न जा ।मै आइना हूँ , मुझसे नजर चुडा के न जा ।

खुशबू की तरह आपके पास बिखर जायेंगे, सकूं बन कर दिल में उतर जायेंगे, महसूस करने की कोशिश तो कीजिये, दूर होते हुए भी पास नज़र आयेंगे. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

नज़र मुझसे मिलाती हो तो तुम शरमा-सी जाती हो,इसी को प्यार कहते हैं, इसी को प्यार कहते हैं,जबाँ ख़ामोश है लेकिन निग़ाहें बात करती हैं,अदाएँ लाख भी रोको अदाएँ बात करती हैं,नज़र नीची किए दाँतों में दुपट्टे को दबाती हो,इसी को प्यार कहते हैं, इसी को प्यार कहते हैं.

"फ़ोन के रिश्ते भी अजीब होते हैं, बैलेंस रखकर भी लोग गरीब होते हैं, खुद तो मैसेज करते नहीं, मुफ्त के मैसेज पढ़ने के शौक़ीन होते हैं"

घायल कर के मुझे उसने पूछा, करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे; लहू-लहू था दिल मगर होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।

इन्तेजार में उनके सुबह -शाम करते हे ,मुलाक़ात के लम्हों को बदनाम करते हे .गैर के साथ वो महफ़िलो में मशरूफ हे ,हम खिलवत अपनी अपने नाम करते हे .

बहोत जर्बियत हम पर ये जमाना कर गया ,ज़माने से मेरे घर को ये मयखाना कर गया.कहाँ कैसी गर्दिस में फंस गई तक़दीर हमारी ,खिजा को मक़ाम देकर गुलसन विराना कर गया .

पलट के देख ज़ालिम, तमन्ना हम भी रखते हैं;हुस्न तुम रखती हो, तो जवानी हम भी रखते हैं;गहराई तुम रखती हो तो लंबाई हम भी रखते हैं!

"दिली तमन्ना है कि मैं भी अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको, बस तू अपना वजन कम करले, तो मेरा काम आसान हो जाए."

"सुरज कॆ सामने रात नही होती, सितारो सॆ दिल की बात नही होती, जिन दोस्तो को हम दिल सॆ चाहतॆ है, न जानॆ क्यो उनसॆ मुलाकात नही होती"

अपने भारतीय होने पे करो गर्व ,आज मनाओ स्वतंत्रता दिवस का ये पर्व ,देश के दुश्मनों को मिलके हराओ ,घर घर में आज तिरंगा लहराओ ।जय हिन्द , जय भारत

जिन्दगी बैठी थी अपने हुस्न पै फूली हुई,मौत ने आते ही सारा रंग फीका कर दिया।

अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में जनाब, नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।

चैन की निन्द मै सोता था,अपने ही खयालों मे मै खोता था, रातें महकने लगी भिनी भिनी, जब से तुने मेरी निन्दे छिनी, अब रात रात भर मै जागता हूं सपनो के पीछे भागता हूं. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

दिल हमारा चाकलेट की तरह नाजुकतुम उसमे ड्राइ फ्रूट्स का तड़कालाइफ होगी फ्रूट आंड नट जैसीअगर मिल जाये दोस्तआपके जैसी.हैप्पी चॉकलेट डे

रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे!ओ रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे!अरे रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे!अब घर जाओ नहीं तो निकाल दिये जाओगे घरसे!

तुझको याद करके रोता है अब दीवाना तेरा;जो ना भूल पाएगा कभी भी ठुकराना तेरा;तुम हमें भूल जाओ शायद ये फितरत है तेरी;मुश्किल है हमारे लिए प्यार भुलाना तेरा।

“दुवा” कभी खाली नही जाती….बस लोग ईन्तजार नही करते….!

"सितारों को रौशनी की क्या ज़रूरत, ये तो खुद को जला लेते है. आशिकों को वफ़ा की क्या ज़रूरत, वो तो बेवफा को भी प्यार कर लेते है."

चले थे दो कदम याद रखना,फिर मिलेंगे दिल में ये अरमान रखना,भूल ना जाना कुछ वक़्त बाद हमे,कुछ बीते दीनो का साथ याद रखना.

हुए मर के हम जो रुस्वा हुए क्यूँ न ग़र्क़-ए-दरिया न कभी जनाज़ा उठता न कहीं मज़ार होता…

जाती है धूप उजले परों को समेट के, ज़ख्मों को अब गिनूंगा मैं बिस्तर पे लेट के.....

हुस्न पर जब भी मस्ती छाती है;तब शायरी पर बहार आती है!पीके महबूब के बदन की शराब;जिंदगी झूम-झूम जाती है!

"दोस्ती तो एक झोका हैं हवा का, दोस्ती तो एक नाम हैं वफ़ा का..., औरो के लिए चाहे कुछ भी हो, हमारे लिए तो दोस्ती हसीन तोफा हैं खुदा का."

अपने जज़्बातों को दिल में रखोबाहर निकले तोतूफान आ जायेगा।हर बाजार में बैठा हैं सौदागरजो करता है व्यापार जज़्बातों कावही तुम्हारी ख्वाहिशों से हीतुमसे तुम्हारा सौदा कर जायेगा।

तेरी बेरुखी ने छीन ली है शरारतें मेरीऔर लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूँ ..!!

"तिनका तिनका तूफान में बिखरते चले गये, तनहायी की गहराईयो में उतरते चले गये, उड़ते थे जिनके सहारे आसमांन में हम, एक एक करके सब बिछड़ते चले गये।"

"एक सा दिल सबके पास होता है, फिर क्यों नही सब पे विश्वास होता है, इंसान चाहे कितना ही आम क्यूँ ना हो, वो किसी ना किसी के लिए तो ख़ास होता है."

मैं मजदूर हूँ मजबूर नहीं यह कहने मैं मुझे शर्म नहीं अपने पसीने की खाता हूँ मैं मिट्टी को सोना बनाता हूँ

"धड़कन दिल की रुक जाती है, सांस आकर थम जाती है, बहुत बुरी हालत होती है, यारो जब गर्लफ्रेंड से शादी करने की नौबत आती है."

आँखों की भाषा पढना सीखो, खामोशी को चुपके से सुनना सीखो, शब्द बिना बोले लब से,जुबां की भाषा समझना सीखो.

नसीब आज़माने के दिन आ रहे हैंक़रीब उनके आने के दिन आ रहे हैंजो दिल से कहा है जो दिल से सुना हैसब उनको सुनाने के दिन आ रहे हैं

"""गिरती हुई बारिश के बूंदों को अपने हाथों से समेट लो,जितना पानी तुम समेट पाए, उतना याद तुम हमें करते हो,जितना पानी तुम समेट ना पाई, उतना याद हम तुम्हे करते हैं।""""

मिट्टी के घरोंदे है, लहरों को भी आना है,ख्बाबों की बस्ती है, एक दिन उजड़ जाना है,टूटी हुई कश्ती है, दरिया पे ठिकाना है,उम्मीदों का सहारा है,इक दिन चले जाना है,बदला हुआ वक़्त है, ज़ालिम ज़माना है,यंहा मतलबी रिश्ते है, फिर भी निभाना है,वो नाकाम मोहब्बत थी, अंजाम बताना है,इन अश्कों को छुपाना है, गज़ले भी सुनाना है,इस महफ़िल में सबको, अपना ही माना है.

"वो आँखो से यूँ शरारत करते हैं, अपनी अदाओं से यूँ क़यामत करते हैं, निगाहें उनके चेहरे से हटती ही नही, और वो हमारी नज़रो से शिकायत करते हैं."

तुझे खबर भी है इसकी ओ रूठने वाले,तुम्हारा प्यार ही मेरा कीमती खजाना था!

हर लम्हा तड्प, हर लम्हा तेरी प्यास है..जब से मैं हूं जुदा तेरे साथ से.. उन लम्हों को कैसे ज़िन्दा करूं..सांसें मैं लूं फ़िर भी पल-पल मरूं..

"ख्वाबों कॆ अंदर ज़िंदा मत रहो .. बल्की अपने अंदर ख्वाब को ज़िदा रखो . मोहब्बत उससॆ नही होती जो खूबसूरत हो. खूबसूरत वो होती है जिससॆ मोहब्बत हो ..."

"पलकों से आँखों की हिफाजत होती है, दिल तो धड़कन की अमानत होती है, ये यादो का रिश्ता भी बड़ा अजीब है, करो तो तकलीफ और न करो तो शिकायत होती है"

ना जाने वो कौन इतना हसीन होगा,आपके हाथ में जिसका नसीब होगा,कोई आपको चाहे ये कोई बडी बात नहीं,जिसको आप चाहो वो खुश नसीब होगा..

साया बनके साथ चलूँ कुछ तुम्हारी कुछ अपनी दिल की कहूँ ये अरमान है,दिल की वादियों में तुम्हारी यूँ महक जाऊँ किहर फूल में तुम्हें मेरी ही खुशबू आए ये मेरा अरमान है

लिखना पढ़ना छोड़ दे बन्दे नेकियों पर रख आस;चादर उठा और आराम से सो जा भगवान् करेंगे पास!

चाँद में आग हो अम्बर क्या करे ,सुमन ही दुष्ट हो तो चमन क्या करे ,मुझसे मेरे तिरंगे ने रो रो कर कहा ,कुर्सियां ही भ्रष्ट हो तो मेरा वतन क्या करे ।स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

हवस-ए-गुल के तसव्वुर में भी खटका न रहा अजब आराम दिया बे-पर-ओ-बाली ने मुझे...

सफ़र में मुश्किलें आयें, तो जुर्रत और बढती है , कोई जब रास्ता रोके , तो हिम्मत और बढती है....

आपकी आँखों में सजे है जो भी सपने, और दिल में छुपी है जो भी अभिलाषाएं! यह नया वर्ष उन्हें सच कर जाए; आप के लिए यही है हमारी शुभकामनायें!

"दूर तक तन्हाई का सफर हैं, न कोई साथी न हमसफर हैं, चलते हैं दिल के सहारे ये सोच कर, की अगले ही मोड़ पे खुशियों का सहर हैं."

चंदन की खुश्बू रेशम का हार,सावन की सुगंध बारिश की फुहार,राधा की उम्मीदे कन्हैया का प्यार,मुबारक हो आपको विजयदशमी का त्यौहार ।

"कहती है दुनिया जिसे प्यार, नशा है , खताह है, हमने भी किया है प्यार , इसलिए हमे भी पता है, मिलती है थोड़ी खुशियाँ ज्यादा गम, पर इसमें ठोकर खाने का भी कुछ अलग ही मज़ा है"

सफलता के मार्ग में योगदान अनमोल हैं चाहे हो मालिक या कोई नौकर कोई ईकाई तुच्छ नहीं सबका अपना मान हैं कहने को एक छोटा लेबर ही सही पर उसी को रास्ते का ज्ञान हैं घमंड ना करना इस ऊंचाई का कभी तेरे कंधो पर इनके पसीने का भार हैं

चन्दन की खुशबु को रेशम का हार;सावन की सुगंध और बारिश की फुहार;राधा की उम्मीद को कन्हैया का प्यार;मुबारक हो आपको जन्मआष्ट्मी का त्योंहार!शुभ दिवस जन्मआष्ट्मी!

"चड़ गये जो हंसकर सूली खाई जिन्होने सीने पर गोली हम उनको प्रणाम करते हैं जो मिट गये देश पर हम उनको सलाम करतेहैं स्वतंत्रता दिवस की बधाई"

निहारूं तुम्हारी जब भी फोटो,उसमें मुस्कान नज़र आती।उस मुस्कान में मैं खो जाता,तो तेरी सूरत ही नज़र आती।याद में तुम्हारी मेरे, नयनों में जल भर आता,हे माँ तुम्हारे न होने की, कमी नज़र आती।

"कंजूसों की जिंदगी क्या जीना, कभी हमारी तरह भी जिया करो, रोज मेरे SMS पढ़ कर शरम नहीं आती, कभी खुद भी SMS किया करो."

"इन हसीनो से तो कफ़न अच्छा है, जो मरते दम तक साथ जाता है, ये तो जिंदा लोगो से मुह मोड़ लेती हैं, कफ़न तो मुर्दों से भी लिपट जाता है."

जिनकी झलक मे करार बहुत है..उसका मिलना दुशवार बहुत है..जो मेरे हांथों की लकीरों मे नहीं..उस से हमें प्यार बहुत है..जिस को मेरे दिल का रास्ता भी नहीं मलूम..इन धडकनों को उसका इंतेज़ार बहुत है..

आज करवाचौथ पर मन में हजारों चाह हैं,सब सुहागिन तक रही केवल तुम्हारी राह हैं,चाहती हैं सजनियाँ साजन बसे हों पास में।आ भी आओ चन्द्रमा तारों भरे आकाश में।।

आप सभी को गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई एवम अनंत शुभकामनाए ..श्री गणेश रिद्धि सिद्धि के साथ आपके घर विराजे..

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद जो नहीं जानते वफ़ा क्या है…

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये, कि वो आज नजरों से हमें अपनी पिलायें; मजा तो तब ही पीने का यारो, इधर हम पियें और नशा उनको हो जाये।

इस दुर्गोस्तव पर नवदुर्गा आप पर कृपा करें!

सिंह पे होके सवार,माँ दुर्गा करे दानवों का संहार,खुशहाल हो जाए आप ओर आपका परिवार,मुबारक हो आपको नवरात्रि का ये त्यौहार ।

है काएनात को हरकत तेरे ज़ौक़ से परतव से आफ़्ताब के ज़र्रे में जान है…

पास आकर सभी दूर चले जाते हैं, हम अकेले थे अकेले ही रह जाते हैं, दिल का दर्द किससे दिखाए, मरहम लगाने वाले ही ज़ख़्म दे जाते हैं.

आओ देश का सम्मान करें;शहीदों की शहादत को याद करें;एक बार फिर से राष्ट्र की कमान;हम हिन्दुस्तानी अपने हाथ धरे;आओ स्वंतंत्र दिवस का सम्मान करें!

राधा: आपने प्रेम मुझसे किया, पर शादी रुखमनी से क्यों की?कृष्ण: शादी में दो लोग चाहिए और हम तो एक हैं!कृष्ण जन्मआष्ट्मी शुभदिवस!

"हम अपने पर गुरुर नहीं करते, याद करने के लिए किसी को मजबूर नहीं करते. मगर जब एक बार किसी को दोस्त बना ले, तो उससे अपने दिल से दूर नहीं करते."

15 अगस्त आ रहा है! मैं गाँधी जी के फोटो जमा कर रहा हूँ! कृपा करके घर में जितने भी10, 20, 50,100, 500 और 1000 के नोट हैं, मुझे भेज दो;पुराने भी चल जायेगें!

ना जाने वो कौन इतना हसीन होगा,आपके हाथ में जिसका नसीब होगा,कोई आपको चाहे ये कोई बडी बात नहीं,जिसको आप चाहो वो खुश नसीब होगा..

"आओ झुक कर सलाम करे उन्हे, जिनकी ज़िन्दगी मे ये मुकाम आया है. किस कदर खुशनसीब है वो लोग, जिनका लहू देश के काम आया है."

"एक दुआ मांगते हैं हम अपने भगवान् से, चाहते हैं आपकी ख़ुशी पूरे ईमान से, सब हसरतें पूरी हूँ आपकी, और आप मुस्कुराएँ दिलो जान से, जन्म दिवस का हार्दीक अभ्निनंदन."

भांग, मिठाई, गुब्बारे, पिचकारी और रंग;आप सभी के बिना है सब अधूरी;आओ हम खेलें गुलाल के संग होली;कर दो हमारी होली की खुशियाँ पूरी।होली मुबारक।

साहिल से सकूँ से किसे इनकार है लेकिन, तूफ़ान से लड़ने में मज़ा ही कुछ और है.....

"""ए खुदा आज ये फ़ैसला करदेउसे मेरा या मुझे उसका करदेनही लिखा अगर नसीब मे उसका नाम तोख़तम कर ये ज़िंदगी और मुझे फ़ना करदे"""

"वो समझें या ना समझें मेरे जजबात को, मुझे तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को, हम तो चले जायेंगे इस दुनिया से, मगर आंसू बहायेंगे वो हर रात को"

"जलते हुए दिल को और मत जलाना, रोती हुई आँखों को और मत रुलाना, आपकी जुदाई में हम पहले से मर चुके है, मरे हुए इंसान को और मत मारना."

"झुकी हुई पलकों से उनका दीदार किया, सब कुछ भुला के उनका इंतज़ार किया, वो जान ही न पाई जजबात मेरे....., जिसे दुनियाँ में मैंने सबसे ज्यादा प्यार किया."

"खाली खाली न यूँ दिल का मकां रह जाये तुम गम-ए-यार से कह दो, कि यहां रह जाये रूह भटकेगी तो बस तेरे लिये भटकेगी जिस्म का क्या भरोसा ये कहां रह जाये"

है गै़ब-ए-ग़ैब जिस को समझते हैं हम शुहूद हैं ख़्वाब में हुनूज़ जो जागे हैं ख़्वाब में…

"कोई छुपाता है, कोई बताता है, कोई रुलाता है, तो कोई हंसाता है, प्यार तो हर किसी को ही किसी न किसी से हो जाता है, फर्क तो इतना है कि कोई अजमाता है और कोई निभाता है"

"दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं, तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं, यूँ तो मिल जाता है हर कोई, मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं."

"गम के अंधेरे मे, गम के अंधेरे मे दिल को ना बेकरार कर, सुबह जरूर होगी सुबह का इन्तेज़ार कर"

"फूलों से खूबसूरत कोई नही. सागर से गहरा कोई नही. अब आपकी क्या तारीफ करू... ऐ दोस्त, आप जैसा... नालायक कोई नही."

मुझे बेबस दिलों में पल रहे अरमान लिखने हैंग़रीबों के घरों के दर्द और तूफ़ान लिखने हैंकभी मौक़ा मिलेगा तो चमन की बात कर लूंगाअभी फुटपाथ के गलते हुए इन्सान लिखने हैं

"क्यों बनाया मुझको आए बनाने वाले, बहुत गम देते हैं ये जमाने वाले...., मैंने आग के उजालों में कुछ चेहरों को देखा, मेरे अपने ही थे मेरे घर जलाने वाले."

मैं इस दशहरा पर प्रार्थना करता हूं कि:1. शांति2. शक्ति3. श्याम4. सम्मान5. सरलता6. सफलता7. समृधि8. संस्कार9. स्वास्थयह सब आपको मिलें और आप तरकी की राह पर बढ़ते चले जायें!शुभ दशहरा!

"अय दिल ये तूने कैसा रोग लिया,मैंने अपनों को भुलाकर, एक गैर को अपना मान लिया"

“काश खुशियों की कोई दुकान होतीहमें भी उसकी पहचान होतीभर देते आपकी जिन्‍दगी को खुशियों सेकिमत चाहे उसकी हमारी जान होती ”

"हमारे आंसूं पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं, उनकी इस अदा से वो दिल को चुराते हैं, हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को, इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते हैं।"

जब टूटने लगे होसले तो बस ये याद रखना, बिना मेहनत के हासिल तख्तो ताज नहीं होते, ढूंड लेना अंधेरों में मंजिल अपनी, जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते.

"जिनकी आंखें आंसू से नम नहीं, क्या समझते हो उसे कोई गम नहीं, तुम तड़प कर रो दिये तो क्या हुआ, गम छुपा के हंसने वाले भी कम नहीं"

तुम्हारे लिए..ख्यालों में…लफ़्ज़ों की एक कायनात,सजाते है ..हर रोज.शायरों से रोमानी बाते..औलिओं से रूहानी बाते..आशिकों से जज्बाती बाते..किताबों से ढूंड ढूंड कर..करते है जेहन में जमाँ..फिर भी..तुम्हारे रूबरू होते ही..खुल जाते है जैसे कई पिंजरे से..सारे लफ्ज़ ..पंछियों की तरह उड़ जाते है..तुम…एक ऐसा अहसास हो मेरे लिए..जिसके लिए..दुनिया के सारे लफ्ज़कम पड़ जाते है!

"ज़ख़्म जब मेरे सिने के भर जाएँगे, आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे, ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया, वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे"

"हम अपना दर्द किसी को कहते नही, वो सोचते हैं की हम तन्हाई सहते नही, आँखों से आँसू निकले भी तो कैसे, क्योकि सूखे हुवे दरिया कभी बहते नही."

आप से मिलकर हम कुछ बदल से गयेशेर पडने लगे गुनगुनाने लगेपहले मशूहर थी अपनी संजिदगीअब तो लोगो से मिलने मिलाने लगे..

जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों, रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी, अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख, सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी.

बहना ने भाई की कलाई पे प्यार बाँधा है;प्यार के दो तार से संसार बाँधा है;रेशम की डोरी से संसार बाँधा है;इस रिश्ते से बहन-भाई का प्यार बाँधा है।शुभ रक्षा-बंधन!

"पास आपके दुनिया का हर सितारा हो, दूर आपसे गम का हर किनारा हो, जब भी आपकी पलकें खुलें, सामने वही हो जो आपको दुनिया में सबसे प्यारा हो"

"दिल ने एक बार और हमारा कहना माना हैं, इस होली पे फिर उनसे रंगने जाना हैं, हर साल खेलते हैं होली,इस बार भी करली तैयारी, इस बार खेलना मेरे साथ,देखना राह हमारी "

जब लफ्ज़ ही बन जायें जुबां लिखना अच्छा हैजब हो दिल को छू जाने का अरमान लिखना अच्छा हैजब हो मन चलाने का शब्दों की तलवार लिखना अच्छा हैजब हो अरमान होने का उस पार लिखना अच्छा हैजब हो जाना बहुत दूर पर हो बस कलम की आस लिखना अच्छा हैजब हो बुलंद इरादे और खुद पर भी विशवास लिखना अच्छा है

परोपकार, भाईचारा,मानवता, हमको सिखलाई |सच्चाई की है दी मिसाल ,है सहानुभूति क्या दिखलाई ||कान पकड़ उठक- बैठक , थी छड़ियों की बरसात हुयी |समझ न पाया उस क्षण मैं, अनुशासन की शुरुआत हुयी ||

ख़त्म हुआ एक महीने का कठिन उपवास.आखिर दर्शन दे के चाँद ने पूरी कर दी आस.गल्ली मोहल्ले में फैला खूब हर्षों-उल्लास.आओ तोड़ दे सारे गिले-शिकवे और नफरत के तालों को,ईद मुबारक मेरे ओर से सारे चाहने वालों को.

आज तुम पे आंसुओं की बरसात होगी;फिर वही कड़कती रात होगी;SMS ना करके तूने दिल दुखाया है मेरा;जा तेरे बदन में खुजली सारी रात होगी!

तू जो नहीं है तो एक कमी सी है , चेहरे पर झूठी हंसी और आँखों में नमी सी है ... ख्वाबो में खयालातो में तेरा ही भूत सवार है , किसी और का नहीं मुझे सिर्फ तेरा ही इंतज़ार है ....

"लोग इश्क करते हैं, बड़े शोर के साथ हमने भी किया, बड़े जोर के साथ मगर अब करेंगे, थोडा़ गौर के साथ क्योंकि कल उसको देखा, किसी ओर के साथ."

"चुपके से धड़कन में उतर जायेंगे, राहें उल्फत में हद से गुजर जायेंगे, आप जो हमें इतना चाहेंगे....., हम तो आपकी साँसों में पिघल जायेंगे."

बता दिया तो राज राज न रहेगा जता दिया तो प्यार प्यार न रहेगा है दम तो हँसती आँखें पढके देखोरो के दिखा दिया तो वो इजहार न रहेगा ||

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार या इलाही ये माजरा क्या है…

"ए चाँद उनको मेरा पैगाम कहना ख़ुसी का दिन ओर हँसी की धाम कहना जब वो देखे बाहर आके तो उनको मेरी तरफ से मुबारक हो रमज़ान कहना"

हम रोने का हुनर सीख गएतुम आकर आँसू में भींज गएमेरे जज़्बात के हर कतरे मेंतुम बहने की अदाएँ सीख गए

"सिर्फ चाहने से मुलाकात नहीं होती, सूरज के साथ रात नहीं होती. हम जिसे चाहते है,जान से भी ज्यादा, सामने होते हुए भी बात नहीं होती."

भूख ,गरीबी ,लाचारी को ,इस धरती से आज मिटायें ,भारत के भारतवासी को ,उसके सब अधिकार दिलायेंआओ सब मिलकर नये रूप में स्वतंत्रता दिवस मनायें ।

"मै तुम्हारे लिये सब कुछ करता मगर मुझे काम था… मै तुम्हारे लिये डूब कर मरता.. मगर मुझे जुकाम था."

ख्वाहिश नहीं मुझे मशहुर होने की..आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी हैं।

"न मिले किसी का साथ तो हमें याद करना, तन्हाई महसूस हो तो हमें याद करना...., खुशियाँ बाटने के लियें दोस्त हजारो रखना, जब ग़म बांटना हो तो हमें याद करना ....."

जज़्बात बहकता है, जब तुमसे मिलती हूँ;अरमां मचलता है, जब तुमसे मिलती हूँ;हाथों से हाथ और होठों से होंठ मिलते हैं;दिल से दिल मिलते हैं, जब तुमसे मिलती हूँ!

सुपुर्दे ख़ाक कर डाला तेरी आंखों की मस्ती ने हज़ारों साल जी लेते अगर दीदार ना होता.

अभी इस तरफ़ न निगाह कर, मैं ग़ज़ल की पलकें संवार लूँमेरा लफ्ज़-लफ्ज़ हो आइना, तुझे आइने में उतार लूँ मैं तमाम दिन का थका हुआ, तू तमाम शब् का जगा हुआज़रा ठहर जा इसी मोड़ पर, तेरे साथ शाम गुज़ार लूँ

"सुनहरी धुप बरसात क बाद, थोड़ी सी हंसी हर बात के बाद, उसी तरह हो मुबारक आप को 2013, 2012 के बाद. विश यू ए हैप्पी न्यू इयर."

खुदा करे हर साल चाँद बन के आये; दिन का उजाला शान बन के आये; कभी दूर न हो आपके चेहरे से हंसी; ये होली का त्यौहार ऐसे मेहमान बन के आये.

खाना पीना रंग उड़ाना; इस रंग की धुंध में हमें न भुलाना; गीत गाओ खोशिया मनाओ; बोलो मीठी बोली! हमारी तरफसे आपको हैप्पी होली!

"लोग कहते हैं कि इश्क मत करो, कि हुस्न सर पे सवार हि जाये, हम कहते हैं कि इश्क इतना करो, कि पत्थर दिल को भी तुमसे प्यार हो जाये."

"दर्द की दास्ताँ अभी बाकी है, महोबत का इम्तेहान अभी अभी बाकी है, दिल करे तो फिर से वफ़ा करने आ जाना, दिल ही तो टुटा है, जान अभी बाकी है.."

"ना जाने वो कौन तेरा हबीब होगा, तेरे हाथों में जिसका नसीब होगा, कोई तुम्हें चाहे ये कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन तुम जिसको चाहो, वो खुश नसीब होगा"

न टूटा है साहिल, न तूफान की आहट है…फिर क्यूँ इंतेज़ार-ए-करार है हर लम्हा ?न सजदा किया, न दुआ ही माँगी है…फिर क्यूँ इंतेज़ार-ए-बहार है हर लम्हा ?न शमा बुझी, न परदा ए हुस्न है…फिर क्यूँ इंतेज़ार-ए-खुमार है हर लम्हा ?न वादा कोई किया, न कसमें खाई हैं…फिर क्यूँ इंतेज़ार-ए-यार है हर लम्हा ?

याद रखना मेरी दोस्ती को तुम,तेरी ज़िंदगी पर एक एहसान कर दिया,इस मोबाइल मे एक आखरी रूपिया था,मैने वो भी तेरे नाम कर दिया.

आत्मा से जूडा है रिश्ता भाई-बहन काराखी का त्यौंहार सोने, चांदी, हीरे,मोती से बढकर प्यार है सदाबहार

तमन्ना दिल की एक हसरत है, पूरी हो जाए तो इनसान खुशकिस्मत है। न पूरी हो, तो गम न करना, क्योकि अधूरी रहना तो, तमन्नाओ की फितरत है।

"पहले कभी ये यादें ये तनहाई ना थी, कभी दिल पे मदहोशी छायी ना थी, जाने क्या असर कर गयीं उसकी बातें, वरना इस तरह कभी याद किसी की आयी ना थी।"

लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरीज़िन्दगी शम्मा की सूरत हो ख़ुदाया मेरीदूर दुनिया का मेरे दम अन्धेरा हो जायेहर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाये

सुखा करता जय मोरया, दुख हरता जय मोरया;कृपा सिन्धु जय मोरया, बूढ़ी विधाता मोरया;गणपति बप्पा मोरया, मंगल मूर्ती मोरया!गणेश चतुर्थी की शुभ कामनाएं!

लैला ने मजनू को किया किस,म्यूचुअल फंड्स आर सब्जेक्टेड टु मार्केट रिस्क.

मैं अपने घर गया वो अपने घर गयी;फिर मुझको क्या खबर कि वहां से वो किधर गयी!

उसको रुखसत तो किया था, मुझे मालून न था. सारा घर ले गया, छोड़ के जाने वाला.....

"मत रख हमसे वफा की उम्मीद, हमने हर दम बेवफाई पायी है, मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान, हमने हर चोट दिल पे खायी है।"

उस की हसरत है जिसे दिल से मिटा भी न सकूँढूँढने उस को चला हूँ जिसे पा भी न सकूँमेहरबाँ होके बुला लो मुझे चाहो जिस वक़्तमैं गया वक़्त नहीं हूँ के फिर आ भी न सकूँ

आशिक के दिल की ख्वाहिशो अरमान हैं आँखें,कुछ दिन से ये लगता है, परेशान हैं आँखें,एक दिन तुझे देखा था, किसी राहगुज़र पे,उस दिन से उसी राह पे, मेहमान हैं आँखें.

हर बहन अपने भाई के लिए बेकरार है;हर बहन को अपने भाई का इन्तजार है;यह आपका कोई कमाल नहीं मेरे दोस्तो;कुछ ही दिनों में राखी का त्योंहार है!

क़ैद से हो गये हैं लफ्ज़,मेरे कलम की स्याही में,पूछ रहे हैं मुझसे,मेरा वजूद, मेरी पहचान.कहा मैने लफ़्ज़ों से,मुझे यूँ दगा ना दो,नया नया शायर हूँ मैं,ऐसी सज़ा ना दो.

"डे बाई डे तेरी खुशियां हो जायें डबल, तेरी जिंदगी से डिलीट हो जायें सारे ट्रबल, खुदा रखे हमेशा तुझे स्मार्ट एंड फिट, तेरे लिये न्यू इयर हो सुपर डुपर हिट."

आज मुजे आपका खास इंतजार है..करवा-चौथ के दिन पर आपका दीदार है..आपकी लम्बी उमर की मुझे दरकार है,जल्दी आना आपके लिए सब छोड बैठा आपका प्यार है.

जैसे मीरा नाची थीमोहन के रंग मेंआओ वैसे हम भी नावेमातारानी के भवन मेंनवरात्रि की बहुत-बहुत शुभकामनाएं …

कोई आँसू बहाता है, कोई खुशियाँ मनाता है ये सारा खेल उसका है, वही सब को नचाता है.

"किसी का हाथ थाम कर छोरना नहीं, वादा किसी से करो तो तोरना नहीं, कोई अगर तोर दे दिल आप का..... तो बिना हाथ पैर तोडे उसे छोरना नहीं."

तू चाँद और मैं सितारा होता, आसमान में एक आशियाना हमारा होता, लोग तुम्हे दूर से देखते, नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता.

दिनों दिन तेरी खुशियाँ हो जायें दोगुनी;तेरी जिंदगी से मिट जायें सभी गम;खुदा रखे तुझे हमेशा स्मार्ट और तंदरुस्त;तेरे लिए नया साल हो सुपर-डुपर हिट।

होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आतेसाहिल पे समंदर के ख़ज़ाने नहीं आते।पलके भी चमक उठती हैं सोते में हमारीआंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते।दिल उजडी हुई इक सराय की तरह हैअब लोग यहां रात बिताने नहीं आते।उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा मेंफिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते।

नाजुक सी मोहब्बत है, दुश्मन ज़माना है,ये जन्मों का रिश्ता है, पर सबसे छुपाना है,क्या तेरी मज़बूरी है, क्यों तुम्हें जाना है,ये शीशे सा दिल है, पल में बिखर जाना है,यंहा दीवानों का बस, मैखाना में ठिकाना है,खुमार मोहब्बत का, सबका उतर जाना है,अभी सबके ओठों पे, एक हसीं तराना है,फिर गीत जुदाई के, यंहा सबको गाना है,बेजां हुआ है दिल, कातिल वो पहचाना है,बिंदास शमा से, परवाने को जल जाना है,क्यों दस्तूर मोहब्बत का, ये बहुत पुराना है,आँखों के पानी को, अश्कों में बदल जाना है,

"कोई चाँद से मोहब्बत करता है, कोई सूरज से मोहब्बत करता है, हम उनसे मोहब्बत करते हैं, जो हमसे मोहब्बत करते हैं"

शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी,अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी ।

बस ऐक चहेरे ने तन्हा कर दिया हमे,वरना हम खुद ऐक महेफिल हुआ करते थे…..!!!

शिव को सबसे प्यार है;उनके गले में शेषनाग का हार है;भांग पिओ और मस्त हो जाओ;क्योंकि आज तो शिव शंभू का त्योहार है।शुभ महाशिवरात्रि।

फ़क़ीर मिज़ाज़ हूँ मैं, अपना अंदाज़ औरों से जुदा रखता हूँ; लोग मंदिर मस्जिदों में जाते हैं, मैं अपने दिल में ख़ुदा रखता हूँ।

"जब पांच सेकंड की मुस्कान से फोटो अच्छी आ सकती है तो हमेशा मुस्कुराने से जिन्दगी अच्छी क्यों नही हो सकती है?"

पाँव जब भी इधर-उधर रखनाअपने दिल में ख़ुदा का डर रखनारास्तों पर कड़ी नज़र रखनाहर क़दम इक नया सफ़र रखनावक़्त, जाने कब इम्तेहां माँगेअपने हाथों में कुछ हुनर रखना

जहान से अब जाने दो, इस मुकाम से अब जाने दोकितने बरस तेरे बिन जीऊं, तेरा नाम लेकर जाने दोतू मिली थी तो नसीब था कि मिला नहीं तुमसे कभीमेरे दिल में जो दबी रही वो अरमान अब दफनाने दो

ख़यालों की ये शोखियाँ माफ हो हरदम तुम्हें सोचती है जब होश में होता है जहां मदहोश ये करती है आँखों की गुस्ताखियाँ…

"""हँसते-हँसते हमने अरमान लुटाया था रोते-रोते उसने अपना बनाया था.....

विकसित होता राष्ट्र हमारा , रंग लाती हर कुर्बानी हैफक्र से अपना परिचय देते,हम सारे हिन्दोस्तानी है. स्वतंत्रता दिवस की बधाई

आज कफन उठा कर आखिरी बार दीदार कर लो ऐ सनम वो आँखे बदँ हो गई है रोज तेरा इतंजार किया करती थी

"खामोश बैठें तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं .. ज़रा सा हँस लें तो मुस्कुराने की वजह पूछ लेते हैं"

लोग पूछते हैं कौन सी दुनिया में जीते हो, हमने भी कह दिया मोहब्बत में दुनिया कहाँ नजर आती है।

कुछ कर गुजरने की अगर तमन्ना उठती हो दिल मेंभारत माँ का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में, हर तूफान को मोड़ दे जो हिन्दोस्तान से टकराएचाहे तेरा सीना हो छलनी तिरंगा उंचा ही लहराए.स्वतंत्रता दिवस की बधाई

हुई मुद्दत कि ग़ालिब मर गया पर याद आता है वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता…

भगवान श्री गणेश की कृपा, बनी रहे आप हर दम;हर कार्य में सफलता मिले, जीवन में न आये कोई गम!गणेश चतुर्थी की शुभ कामनाएं!

इश्क़ की गर्मी-ए-जज़्बात किसे पेश करूँये सुलग़ते हुए दिन-रात किसे पेश करूँ । हुस्न और हुस्न का हर नाज़ है पर्दे में अभीअपनी नज़रों की शिकायात किसे पेश करूँ ।