Home > Serial

The Great Thought: Serial


TV Serial MESSAGE: Find Here TV Serial Messages, Superb Collection of WhatsApp TV Serial SMS, Funny TV Serial SMS Messages. You will get here Funniest Messages, Messages in TV Serial sources with Pictures/images Messages, Not only this but also you can get Best WhatsApp funny TV Serial Messages, Funny TV Serial Pictures, Funny TV Serial SMS, Husband Wife & Kids Messages & Santa Banta Messages and moreover. You can also get here Todays New TV Serial Message. kiosklockdown.in is Family Friendly website. Hope this will be liked by you and share with other. If our effort to laugh has been successful, you can like/share this page and encourage us. "Laughing is the best medicine in this world." Always laugh… Be Healthy… Be Happy… Thanks...

सदियाँ हो गई हैं कि पत्थर तराश कर,इंसान जैसे रुप कोई यूं ढ़ूंढता रहा।""""""""ख्वाबों के जैसे हाथ में आइना आ गया,आइना कैसे कैसे हँसी ख्वाब पा गया।

आज वो हमारे सामने महफ़िल में आये बैठे है, हमारा दिल अपने हांथो में दबाये बैठे है, हमने पूछा क्या है सनम आपके हाथो में,तो बहाना लगा दिया हम तो मेहँदी लगाए बैठे है. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

"जिसे दिल दिया वो दिल्ली चली गई, जिसे प्यार किया वो इटली चली गई, दिल ने कहा खुद ख़ुशी कर ले जालिम, बिजली को हाथ लगाया तो बिजली चली गई."

"ज़ख़्म जब मेरे सिने के भर जाएँगे, आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे, ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया, वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे"

तुम्हे सुनाए कैसे हाल-ए-दिल सुनाना मुश्किल सा हो गया है,के कश्ती पानी में आ गयी क्या चलाना मुश्किल सा हो गया है।

तेरे प्यार की रौशनी ऐसी है की हर तरफ उजाला नज़र आता है, सोचती हूँ घर के बिजली कटवा दू कमबख्त बिल बहोत आता है.

"मिलके बिछड़ना दस्तूर है जिंदगी का, एक यही किस्स मशहूर है जिंदगी का, बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते, यही सबसे बड़ा कसूर है जिंदगी का।"

हम भी तस्लीम की ख़ू डालेंगे बे-नियाज़ी तिरी आदत ही सही…

दिल हमारा चाकलेट की तरह नाजुकतुम उसमे ड्राइ फ्रूट्स का तड़कालाइफ होगी फ्रूट आंड नट जैसीअगर मिल जाये दोस्तआपके जैसी.हैप्पी चॉकलेट डे

" एय मेरी जिन्दगी यूँ मुझसे दगा ना कर, उसे भुला कर जिन्दा रहू दुआ ना कर, कोई उसे देखता हैं तो होती हैं तकलीफ, एय हवा तू भी उसे छुवा ना कर ....."

किसी नज़र को तेरा इंतेज़ार आज भी हैकहां हो तुम के यह दिल बेक़रार अज भी है

जो नफरत का कर दे उपचार, वही होली है।जो माँ करे दुलार, वही होली है।जो दुनिया में बढाए प्यार, वही होली है।जो एक रंग में रंग दे सारा संसार, वही होली है।और जिस में मेरे साथ हो मेरा यार, वही होली है।होली मुबारक।

हम जुदा होंगे उस वक्‍त सोचा न था,जब तुझे देखा था पहले पहल और ,आज जब देखा तुझे मुमताज़ मेरी,अश्को मे ढ्ल गया मेरे सपनो का ताजमहल.

वो हर बार अगर रूप बदल कर न आया होता, धोका मैने न उस शख्स से यूँ खाया होता, रहता अगर याद कर तुझे लौट के आती ही नहीं, ज़िन्दगी फिर मैने तुझे यु न गवाया होता

खाके गुजिया, पी के भंग;लगा के थोड़ा थोड़ा सा रंग;बजा के ढोलक और मृदंग;खेलें होली हम तेरे संग।होली मुबारक।

"जिनकी आंखें आंसू से नम नहीं, क्या समझते हो उसे कोई गम नहीं, तुम तड़प कर रो दिये तो क्या हुआ, गम छुपा के हंसने वाले भी कम नहीं"

वक्त की आंख से आंसू सा गिरा लम्हा हैदूर तक बहती हुई हर दरिया तन्हा हैआशियां में वो रहती थी दुल्हन बनकरजबसे वो छोड़ गई है, आईना तन्हा है

प्यार के मोड पर मिल गये हो अगर,यु हि मिलने मिलाने का वादा करो,हम ने माना मोहब्बत का दस्तुर है,हुस्न कि हर अदा हम को मन्जुर है,रुठना है जरुरी तो रुठो मगर, बाद मे मान जाने का वादा करो.

"हर लम्हा आपके होठों पे मुस्कान रहे, हर गम से आप अंजान रहें, जिसके साथ महक उठे आपकी ज़िंदगी, हमॆशा आपके पास वो इंसान रहे."

रिश्ते किसी से कुछ यूँ निभा लो, कि उसके दिल के सारे गम चुरा लो; इतना असर छोड दो किसी पे अपना, कि हर कोई कहे हमें भी अपना बना लो।

ना पापा की मार से;ना दोस्तों की फटकार से;ना लड़की के इनकार से;न चप्पलों की बौछार से;आप जैसे आशिक सुधरेंगे सिर्फ राखी के त्यौहार से!

"उलझन कोई आए तो मुझसे न छुपाना, साथ न दे जुवा तो आँखों से जताना, हर कदम पे साथ हैं हम आपके, अगर अपना समझते हो तो.. एक बार नहीं दस बार आज़माना."

आपसे मुलाक़ात की अजब निशानी है,हँसते हँसते आंखे भर आती हेंजिंदगी में हो चाहे कितनी परेशानी,आपके साये में हर मुश्किल आसान लगती हें.

साबित हुआ है गर्दन-ए-मीना पे ख़ून-ए-ख़ल्क़ लरज़े है मौज-ए-मय तिरी रफ़्तार देख कर…

आज आगोश में था और कोई , देर तक हम तुझे न भुला सके

दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं! तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं! यूँ तो मिल जाता है हर कोई! मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते

ना खुशी ना कोई तमन्ना है अबबस अपने ही साए के संग रहते हैं हमकैसे कहें कैसे हैं हमबस यूँ समझलो आप खुश हैं तो खुश हैं हम.

धन एश्वर्य सूख संपत्तिविजय उल्लास को लिए अपने साथनवरात्रि लाए खुशियां आप के द्वारनवरात्रि के इस पावर पर्व पर ढेर सारी शुभकामनाएं

हर दिल में गणेश जी बसते हैं;हर इंसान में उनका वास है;तभी तो यह त्योहर सबके लिए ख़ास है!गणेश चतुर्थी की शुभ कामनाएं!

"उनके आने के इंतज़ार में हमनें, सारे रास्ते दिएँ से जलाकर रोशन कर दिए,उन्होंने सोचा कि मिलने का वादा तो रात का था,वो सुबह समझ कर वापस चल दिए"

तकदीर लिखने वाले एक एहसान लिख दे,मेरे दोस्त की तकदीर में मुस्कान लिख दे,ना मिले जिंदगी में कभी भी दर्द उसको,चाहे उसकी किस्मत में मेरी जान लिख दे।

मेरी चाहतें तुमसे अलग कब हैं, दिल की बातें तुम से छुपी कब हैं; तुम साथ रहो दिल में धड़कन की जगह, फिर ज़िन्दगी को साँसों की ज़रूरत कब है।

खा के गुजिया, पीके भंग!लगा के थोड़ा, थोड़ा सा रंग!बजा के ढोलक और मृदंगखेले होली हम तेरे संगहोली मुबारक हो!

"आँखों से दूर दिल के करीब था, में उस का वो मेरा नसीब था. न कभी मिला न जुदा हुआ, रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था."

"सर झुकाओगे तो पत्थर भी देवता हो जायेगा, इतना ना चाहो उसे, वो बेवफा हो जायेगा. हम भी दरिया है, हमे अपना हुनर मालूम है, जिस तरफ चल पडे रास्ता हो जायेगा."

"हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे."

"कब्र के सन्नाटे में से एक आवाज़ आयी, किसी ने फूल रखके आंसूं की दो बूंद बहायी, जब तक था जिंदा तब तक ठोकर खायी, अब सो रहा हूं तो उसको मेरी याद आयी।"

दिल से जो भी मांगोगे मिलेगा;ये गणेश जी का दरबार है!देवों के देव वक्रतुंडा महाकाया को;अपने हर भक्त से प्यार है!गणेश चतुर्थी की शुभ कामनाएं

उससे कह दो कि मेरी सज़ा कुछ कम कर दे,हम पेशे से मुज़रिम नहीं हैं बस गलती से इश्क हुआ था

आप दोनों की जोड़ी कभी न टूटे;खुदा करे आप एक दूसरे से कभी न रूठें;युहीं एक होकर, आप ये जिंदगी बिताये;कि आप दोनों की खुशियाँ, एक पल के लिए भी न छूटे!शुभ करवा चौथ!

"हकीकत समझो या फसाना, अपना समझो या बेगाना, हमारा आपका है रिश्ता पुराना, इसलिये फर्ज था आपको बताना, ठंड शुरू हो गयी है,कृपया रोज मत नहाना."

माँ की ज्योति से नूर मिलता है,सबके दिलों को सुरूर मिलता है,जो भी जाता है माता के द्वार,उसे कुछ ना कुछ ज़रूर मिलता है

"एक हम है की खुद नशे में है, एक तुम हो की खुद नशा तुम में है।"

"अपने यार को क्या तोहफा डू. तुम्हारी इस अदा पे क्या जवाब डू कोई अछा सा फूल होता तो मँगवाता माली से जो खुद गुलाब है उसको क्या गुलाब डू.हॅपी बर्त दे."

दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूंप्यार का उसे पैगाम क्या दूंइस दिल में दर्द नहीं बस यादें हैं उसकीअब यादें ही मुझे दर्ददें तो उसे इल्जाम क्या दूं

दिल की ना रह दिल में, ये कहानी कह लो, चाहे दो हर्फ़ लिखो,चाहे जबानी कह लो.

वो कहती थी कि मैं तुम्हारी जिन्दगी को जन्नत;बना दूंगी, बनानी तो उसे मैगी भी नहीं आती थी;लेकिन मैडम का आत्मविश्वास तो देखो।

"होली के रंग मस्त बिखरेंगे. क्योकि पिया के संग हम भी तो भींगेगे.. होली में इस बार तो और भी रंग होंगे... क्यों की मेरे पिया भी तो मेरे संग होंगे…"

कमसिनी का हुस्न था वो, ये जवानी की बहार पहले भी रुख पर यही तिल था मगर क़ातिल न था

"सदा हँसते रहो जैसे हँसते हैं फूल, दुनिया की सारे गम तुम्हे जाए भूल, चारो तरफ फैलाओ खुशियो का गीत, इसी उम्मीद का साथ यार तुम्हे… मुबारक हो ईद"

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो,भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी,मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावनवो काग़ज़ की कश्‍ती वो बारिश का पानी.

रोती हंसती सबकुछ करती,दुःख कभी ना अपना बतलाती वो।रात रात जगती खुद,हमें सिरहाने सुलाती वो ।१। खुद पी पी कर पानी,निवाला हमें खिलाती वो,गिले पे सोई रहती खुद,सूखे पे हमें सुलाती वो

अपने हर हर लफ्ज़ का खुद आइना हो जाऊँगाउस को छोटा कह के मैं कैसे बड़ा हो जाऊँगातुम गिराने में लगे थे तुम ने सोचा ही नहींमैं गिरा तो मसला बन कर खड़ा हो जाऊँगामुझको चलने दो अकेला है अभी मेरा सफ़ररास्ता रोका गया तो काफ़िला बन जाऊँगासारी दुनिया कि नज़र में है मेरा अहेद-ए-वफ़ाएक तेरे कहने से क्या मैं बेवफ़ा हो जाऊंगा

ख्वाइस तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये,शमा खामोस हो जाये और शाम ढल जाये,प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये,और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये.

सर पर चढ़कर बोल रहे हैं, पौधे जैसे लोग, पेड़ बने खामोश खड़े हैं, कैसे-कैसे लोग.....

हम बदनसीब सही पर दिल के बुरे नहींतेरी वेफाई को भी ज़िन्दगी भर याद करंगे.

नज़र मुझसे मिलाती हो तो तुम शरमा-सी जाती हो,इसी को प्यार कहते हैं, इसी को प्यार कहते हैं,जबाँ ख़ामोश है लेकिन निग़ाहें बात करती हैं,अदाएँ लाख भी रोको अदाएँ बात करती हैं,नज़र नीची किए दाँतों में दुपट्टे को दबाती हो,इसी को प्यार कहते हैं, इसी को प्यार कहते हैं.

"दर्द कैसा भी हो आँख नम न करो, रात काली सही कोई गम न करो, इक सितारा बनो जगमगाते रहो, जिंदगी में सदा मुस्कुराते रहो."

दीवानगी के दामन पर अनेकों सुराख होते,ज़रा भी अगर हमारे मनसूबे नापाक होते।उल्फत दस्तक न देती तेरे दिल के द्वार पर,प्रेम की तपिश में जलकर न हम खाक होते।तुम्हीं ने ढककर रखी, ख्वाइशे लिबास में,हर पर्दा गिरा देते, थोड़ा अगर बेबाक होते।

अपने कामों की यूँ नुमाइश न कर, अपने नसीब की यूँ आज़माइश न कर,जो तेरा है तेरे दर पे ख़ुद आएगा , रोज़ रोज़ उसे पाने की कोशिश ना कर

"हर् कामयाबी पे आप का नाम होगा, आपके हर् क़दम पे दुनिया का सलाम होगा, मुश्किलों का सामना हिम्मंत से करना, दुआ है एक दिन वक्त भी आपका गुलाम होगा"

आज एकदम हैप्पी वाला दिन है ,बोले तो राम जी ने एकदम खतरनाक रावण की वाट लगा दी ,बोले तो लंका के सब मामू लोग को फ्री किया ,बोले तो :हैप्पी दशहरा ।

मुस्कुरा कर लडको को पागल बनाना तो हसीनो की इक अदा है;अर्ज़ किया है; मुस्कुरा कर लडको को पागल बनाना तो हसीनो की इक अदा है;और जो कमबख्त उसे मोहब्बत समझे वो सबसे बड़ा गधा है!

बुलंदियों का बड़े से बड़ा निशान छुआउठाया गोद में माँ ने तब आसमान छुआघेर लेने को मुझे जब भी बलाएं आ गईंढाल बनकर सामने माँ की दुआएं आ गईं

हर इमारत की नींव हैं अमीरों की तक़दीर हैं खून पसीना बहाकर अपना पूरा करते वो अमीरों का सपना दो वक्त की उसे मिले ना मिले पर उसी के हाथो करोड़ो की तक़दीर लिखे माना उसकी किस्मत हैं अभी नहीं हैं एशो आराम पर उसको ना भुलाना तुम ना बनाना बैगाना तुम देना उसे उसका हक़ मजदूर हैं वह मेहनती शख्स

ना ज़ुबान से;ना फ़ोन से;ना कार्ड से;ना गिफ्ट से;ना पोस्ट से;और ना मेल से;ईद मुबारक हो आपको एकदम दिल से!

मुझे तुमसे मोहब्बत थी मैं अब इकरार करता हूँ बहुत पहले जो करना थावो अब इज़हार करता हूँ. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

एक दो तीन चार;गणपति जी की जय जय कार;पांच छ सात आठ;गणपति जी है सबके साथ!शुभ गणेश चतुर्थी!

"मां दुर्गा, मां अम्बे, मां जगदम्बा, मां भवानी, मां शीतला, मां वैष्णों, मां चंडी, माता रानी आपकी सभी मनोकामनायें पूरी करे, जय माता दी."

अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में जनाब, नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।

"आ तेरी उमर मै लिख दू चाँद सितारो से, तेरा जन्मदिन में मनाऊ फूलो से, बहारो से, हर एक खूबसूरती दुनिया से मै ले आऊ, सजाऊ यह महफ़िल मै हर हसीन नज़ारो से.."

जिंदगी में तुमसे एक लम्बी मुलाकात हो,मिलकर साथ बैठे हम, और लम्बी बात हो, करने को सिर्फ, तेरी - मेरी बात हो, रुक जाये वक़्त फिर दिन हो न रात हो.हैप्पी वैलेंटाइन डे.

"हर नज़र को 1 निगाह का हक़ है, हर नूर को 1 आह का हक़ है. हम भी दिल लेकर आये है इस दुनिया में, हमे भी तो 1 गुनाह करने का हक़ है"

"मेरे अल्फाज़ों को झूठ ना समझना,याद आती हो बहुत मिलने की दुआ करना, जी रहा हूँ तुम्हारा नाम लेकर, मर जाऊ तो बेवफा ना समझना"

मेरा हर लम्हा चुरा लिआ आपने,आँखों को एक चाँद दिखा दिया आपने,हमें जिन्दगी दी किसी और ने,पर प्यार इतना देकर जीना सीखा दिया आपने.

मुश्किल इस दुनियाँ मे कुछ भी नहीं, फिर भी लोग अपने इरादे तोड़ देतें हैं,अगर सचे दिल से हो रिश्ते तो, सितारे भी अपनी जगह उनके लिए छोड देते हैं

कुदरत का हर रंग आप पर बरसे;हर कोई आपसे होली खेलने को तरसे;रंग दे आपको मिल के सब इतना कि,आप वो रंग उतारने को तरसे!होली की हार्दिक शुभकामनायें!

न रूठना हमसे हम मर जायेंगे,दिल की दुनिया तबाह कर जायेंगे,प्यार किया है हमने कोई मजाक नहीं,दिल की धड़कन तेरे नाम कर जायेंगे.

ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते हैं;इस जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते हैं।मदर डे मुबारक हो!

"चाँद पर काली घटा छाती तो होगी सितारों में चमक आती तो होगी तुम लाख छुपाओ दुनिया से मगर अकेले में तुम्हें भी अपनी शक्ल पर हँसी आती तो होगी."

तुम्हारे लिए..ख्यालों में…लफ़्ज़ों की एक कायनात,सजाते है ..हर रोज.शायरों से रोमानी बाते..औलिओं से रूहानी बाते..आशिकों से जज्बाती बाते..किताबों से ढूंड ढूंड कर..करते है जेहन में जमाँ..फिर भी..तुम्हारे रूबरू होते ही..खुल जाते है जैसे कई पिंजरे से..सारे लफ्ज़ ..पंछियों की तरह उड़ जाते है..तुम…एक ऐसा अहसास हो मेरे लिए..जिसके लिए..दुनिया के सारे लफ्ज़कम पड़ जाते है!

गरबा ले कर आ रहा है त्यौहारहर तरफ है माता की जयकारमुबारक हो आपको नवरात्रि का त्यौहारसारे जहां का मिल जाए आपको प्यार

रंग उडाये पिचकारी;रंग से रंग जाये दुनिया सारी;होली के रंग आपके जीवन को रंग दे; येही शुभ कामना है हमारी!होली की आपको शुभकामनायें!

चम्-चम् करके आई;चम्-चम् करके चली गयी;मैं सिन्दूर लेके खड़ा रहा;और वो राखी बांध के चली गयी!

ना दिमाग से ना ज़ुबान से;ना पैगाम से ना मैसेज से;ना गिफ्ट से; आपको क्रिस्मस मुबारक सीधे दिल से।क्रिस्मस की शुभकामनाएं!

तेरा हिज्र मेरा नसीब है तेरा ग़म ही मेरी हयात है मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों तू कहीं भी हो मेरे साथ है

"खफा न होना हमसे, अगर तेरा नाम जुबां पर आ जाये, इंकार हुआ तो सह लेंगे और अगर दुनिया हंसी, तो कह देंगे, कि मोहब्बत कोई चीज़ नहीं, जो खैरात में मिल जाये, चमचमाता कोई जुगनू नहीं, जो हर रात में मिल जाये"

"हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की, और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की, शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है, क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की"

"उमर की राह मे रास्ते बदल जाते हैं, वक़्त की आँधी मे इंसान बदल जाते हैं, सोचते हैं आपको इतना याद ना करें, लेकिन आँख बंद करते ही इरादे बदल जाते हैं."

सफलता आपके कदम चूमती रहे;ख़ुशी तुम्हारे आसपास घूमती रहे;यश इतना फैले कि कस्तूरी भी शर्मा जाये;लक्ष्मी जी की कृपा हो इतनी कि बालाजी भी घबरा जाएं!शुभ दीपावली!

हम ये नहीं चाहते कीकोई आपके लिए ‘दुआ’ ना मांगे, हम तो बस इतना चाहते है की कोई ‘दुआ में ‘आपको’ ना मांगे. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

मक्की की रोटी, निम्बू का अचार!सूरज की किरणें, अपनों का प्यार!मुबारक हो आपको होली का त्यौहार!

लहू में डूब रही है, फिजा-ए-अर्ज़-ए-वतन;मैं किस जूँ से कहूं, """"जशन-ए-आज़ादी मुबारक""""!

"काश वो नगमे सुनाये ना होते आज उनको सुनकर ये आंसू आये ना होते अगर इस तरह भूल जाना ही था तो इतनी गहरायी से दिल में समाये ना होते"

"हर दिन से प्यारा लगता है हमे ये ख़ास दिन, हम जिसे बिताना नही चाहते आप बिन, वैसे तो दिल देता है सदा ही दुआ आपको, फिर भी कहते है मुबारक हो जन्मदिन आपको."

वो मेरी किस्मत मेरी तक़दीर हो गई;हमने उनकी याद में इतने ख़त लिखे कि;वो रद्दी बेचकर अमीर हो गई।

गैरों ने उनको देखा तो वो उनके नसीब हो गये |हमने प्यार से देखा फिर भी हम रकीब हो गये |

"आपकी याद में मैने कलम उठाई लिया कागज, तस्वीर आपकी बनाई, सोचा था दिल से लगा के रखूँगा उस तस्वीर को, पर वो तो बच्चों को डराने के काम आई. :) :) :)"

"आशिकों की किस्मत में जुदा होना ही लिखा होता है, सच्चा प्यार होता है तो दिल को खोना ही लिखा होता है, सब जानते हुए भी में भी प्यार उससे कर बैठा, भूल गया के मोहब्बत में सिर्फ रोना ही लिखा होता है."

"इश्क है वही जो हो एक तरफा, इजहार है इश्क तो ख्वाईश बन जाती है, है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ, जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है"

दिल के जख्मों को उनसे छुपाना पड़ा,पलके भीगीं थी पर मुस्कुराना पड़ा,कैसे उल्टे हैं महोब्बत के ये रिवाज?रूठना चाहते थे पर उनको मनाना पड़ा.. .

"दील से लिखी बात दील को छू जाती है, ये अक्सर अनकही बात कह जाती है, कुछ लोग दोस्ती कॆ मायनॆ बदल दॆतॆ है, और कुछ लोगो कि दोस्ती सॆ दुनिया बदल जाती है."

काटो के बदले फूल क्या दोगे, आँसू के बदले खुशी क्या दोगे, हम चाहते है आप से उमर भर की दोस्ती, हमारे इस शायरी का जवाब क्या दोगे?

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी,यूँ कोई बेवफा नहीं होता।जी चाहता है बहुत कि सच बोलें,क्या करूँ हौसला नहीं होता।

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,आज भी इंतजार है तेरे आने का

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है, जिसका रास्ता बहुत खराब है, मेरे ज़ख़्म का अंदाज़ा ना लगा, दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है.

"उनकी तस्वीर को सिने से लगा लेते हैं, इस तरह जुदाई का गम मिटा देते हैं, किसी तरह कभी उनका जिक्र हो जाये तो, भींगी पलकों को हम झुका लेते हैं."

माना कि उनमें अलग कुछ भी नहीं है, मगर जो बात उसमें है किसी और में नही है।

बता दिया तो राज राज न रहेगा जता दिया तो प्यार प्यार न रहेगा है दम तो हँसती आँखें पढके देखोरो के दिखा दिया तो वो इजहार न रहेगा ||

ओ चाँद तुझे पता है क्या? तू कितना अनमोल है देखने को धरती की सारी पत्नियाँ बेसब्र फलक को ताकेंगी कब आयेगा, तू कब छायेगा?

माँ अपने बच्चों पर सब निछावर करती है;बिना लालच उन्हें प्यार करती है;भगवान का दूसरा रूप है हमारी माँ;जो हर दुख में हमारा साथ देती है।मदर डे मुबारक!

"तरस गये आपके दीदार को, दिल फिर भी आपका इंतज़ार करता है, हमसे अच्छा तो आपके घर का आईना है, जो हर रोज़ आपका दीदार करता है."

"हसीं चेहरे पर कभी ऐतबार ना करना, तोड देते हैं दिल कभी प्यार ना करना, है गुजारिश सबसे मेरी, मर जाओगे, वो ना आयेंगे कभी इंतजार ना करना.."

होता जब बीमार मैं,तुम्हारा पास में आकर बैठना ।जब लगती चोट मुझे,तेरा वो प्यार से डांटना ।पहले लगता था बुरा मुझे,अब महसूस तुम्हें सिर्फ करता ।पहले लड़ता था तुमसे मैं,अब रह गया तुम्हें सिर्फ याद करना ।

मैं इस दशहरा पर प्रार्थना करता हूं कि:1. शांति2. शक्ति3. श्याम4. सम्मान5. सरलता6. सफलता7. समृधि8. संस्कार9. स्वास्थयह सब आपको मिलें और आप तरकी की राह पर बढ़ते चले जायें!शुभ दशहरा!

जिन दिनो आप थे, आँख में धूप थी...जिन दिनो आप रहते थे, आँख में धूप रहती थी...अब तो जाले ही जाले हैं, वे भी जाने वाले हैं...वो जो था दर्द का क़रार कहाँ...वो जो था दर्द का क़रार कहाँ...अब मुझे कोई इंतेज़ार कहाँ...वो जो बहते थे आब्शार कहाँ...अब मुझे कोई इंतेज़ार कहाँ

मेरे सबसे अच्छे दोस्तों के लिए खास;अपनी आँखें बंद करके मेरी हंसी के बारे में सोचो;क्या आपने इसे किया?मुबारक हो;आप ने ईद का चाँद देख लिया!

"लोग कहते है की इतनी दोस्ती मत करो की दोस्त दिल पर सवार हो जाए. हम कहते हैं दोस्ती इतनी करो की दुश्मन को भी तुमसे प्यार हो जाए...."

किसी को प्यार इतना देना की हद न रहे, पर ऐतबार भी इतना करना की शक न रहे, वफ़ा इतना करना की बेवफाई न रहेऔर दुवा इतना करना की जुदाई न रहे. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

विघ्नहर्ता,मंगलकर्ता आप सब के जीवन में नूतन उत्साह का संचार करे समस्त विपत्तियों से आप सबकी और आपके परिवार की रक्षा करे...हे गणपति बप्पा सारी बुराइयो से दूर रख कर आप हमें अपने चरणों में स्थान दे...!!!ॐ गन गणपते नमो नमः

"बनाने वाले ने दिल काँच का बनाया होता. तोड़ने वाले के हाथ मे जखम तो आया होता. जब बी देखता वो अपने हाथों को, उसे हमारा ख़याल तो आया होता."

जगमग थाली सजाओमंगल दीपो को जलाओअपने घरो और दिलो में आशा की किरण जगाओखुशहाली और समृद्धि से भरा हो आपका जीवन इसी कामना के साथशुभ दीपावली ।

आँखों की गुस्ताखियाँ माफ हो इक टुक तुम्हें देखती है जो बात कहना चाहे ज़ुबां तुमसे ये वो कहती है

"तुम्हारे संदेश के इंतजार मे हम इतना रोते है, अब तो पड़ोसी भी अपना मूह हमारे आँसूओ से धोते है"

बैर और अलगाव से ऊपर रहे हर भावनानफ़रतो का आपस में न रहे नामोनिशांज़र्रा ज़र्रा महक उठे ख़ुशियों से मेरे मुल्क कायहीं ईद का पयाम है,है यही मेरी कामना

मैं उस की खातिर तड़पता रहा शाम ओ सहर अरमान न होता गर उसने एक आंसू ही बहाया होता

"क्यों कोई अच्छा लगने लगता है, आहिस्ता - आहिस्ता ; खुमार इश्क का चढ़ता है क्यों, आहिस्ता - आहिस्ता . सफर में ज़िन्दगी के, लोग तो बहुत मिलते ; दिल में बस जाता कोई शख्स क्यों, अहिस्ता - आहिस्ता"

"आ तेरी उमर मै लिख दू चाँद सितारो से, तेरा जानम दिन में मनौ फुलों से, बहारो से, हर एक खूबसूरती दुनिया से में ले आऊ, सजाओ यह महफ़िल में हर हसीन नज़ारो से."

मां बाप की मूरत है गुरू कलयुग में भगवान की सूरत है गुरू अक्षर ज्ञान ही नहीं गुरू ने सिखाया जीवन ज्ञान गुरूमंत्र को आत्मसात हो जाओ भवसागर से पार

"जब कोई ख्याल दिल से टकराता है, दिल न चाह कर भी, खामोश रह जाता है,कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है, कोई कुछ न कहकर भी, सब बोल जाता है"

कर अदभुत संकल्प यह मन में माँ गौरी जुट गयी जतन में ओम ओम ओम नमः शिवायपार्वती ने अपने तंन से ममता भरी सुकोमल मल से कण कण अपना अंश जुटाया कर कमलों में उसे उठाया दिव्य कला से रचा माँ ने जिसकी आभा से रोशन था विश्व का कोना कोना चमत्कार से ममतामयी ने फूकी उसमें जान मंद मंद मुस्काते आए श्री गणेश भगवान. हैप्पी गणेश चतुर्थी

थक गईं नजरें तुम्हारे दर्शनों की आस में।आ भी आओ चन्द्रमा तारों भरे आकाश में।।चमकते लाखों सितारें किन्तु तुम जैसे कहाँ,साँवरे के बिन कहाँ अटखेलियाँ और मस्तियाँ,गोपियाँ तो लुट गईं है कृष्ण के विश्वास में।

"लोग कहते हैं कि इश्क मत करो, कि हुस्न सर पे सवार हि जाये, हम कहते हैं कि इश्क इतना करो, कि पत्थर दिल को भी तुमसे प्यार हो जाये."

"उसकी पलकों से आँसू को चुरा रहे थे हम, उसके ग़मोको हंसींसे सजा रहे थे हम, जलाया उसी दिए ने मेरा हाथ जिसकी लो को हवासे बचा रहे थे हम"

न- नवचेतनाव- विघ्नाशकरा-रतजगेश्वरीत्रि-त्रिकालदर्शीइस दुर्गोस्तव पर नवदुर्गा आप पर कृपा करें!

"आंसूं पीते हैं प्यास बुझाने के लिये, आग हमने ही लगायी थी खुद को जलाने के लिये, इस जनम में तो मुमकिन नहीं, और जनम लगेंगे आपको भुलाने के लिये।"

"किसने इस दोस्ती को बनाया, कहा से ये दोस्ती शव्द आया, दोस्ती का सबसे ज्यादा फायदा तो हमने उठाया, क्यों की दुनिया का सबसे प्यारा दोस्त तो हमारे हिस्से में आया."

"""बोलो गणेश भगवान की ...जय"""" """"आप सभी को गणेश चतुर्थी की अनंत शुभ-कामनाएं."""

आँखों से दूर दिल के करीब था, मैं उस का वो मेरा नसीब था; न कभी मिला न जुदा हुआ, रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था।

उतरे जो ज़िन्दगी तेरी गहराइयों में।महफ़िल में रह के भी रहे तनहाइयों मेंइसे दीवानगी नहीं तो और क्या कहें।प्यार ढुढतेँ रहे परछाईयों मेँ।

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है, इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है, उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद, फिर भी हर मोड़ पर उसी का इन्तज़ार क्यों है.

"सितारों को रौशनी की क्या ज़रूरत, ये तो खुद को जला लेते है. आशिकों को वफ़ा की क्या ज़रूरत, वो तो बेवफा को भी प्यार कर लेते है."

आंसू टपक पड़े बेरोजगार के उस एहसास पर ग़ालिब; कि आंसू टपक पड़े बेरोजगार के उस एहसास पर ग़ालिब; जब माँ ने कहा;बेटा खाली बैठा है, जा मटर ही छील ले.

आते हैं जो आँख से आँसू, उन्हें लगता यह अश्क नहीं पानी हैं, मगर हम तो वो हैं जो कह देते, इन आँसुओं के बहाने अपनी कहानी हैं.

कृषण की महिमा, कृषण का प्यार;कृषण में श्रधा, कृषण से ही संसार;मुबारक हो आप सबको जन्मआष्ट्मी का त्योहार!

ओ मेरे सनम ओ मेरे सनम दो जिस्म मगर एक जान हैं हम एक दिल के दो अरमान हैं हम

"जलते हुए दिल को और मत जलाना, रोती हुई आँखों को और मत रुलाना, आपकी जुदाई में हम पहले से मर चुके है, मरे हुए इंसान को और मत मारना."

कहाँ बनते हैं राँझा आज के इस दौर में आशिकमगर सब चाहते माशूक उनकी हीर हो जाएगज़ल कहता हूँ पर मेरे खुदा इतनी इनायत करमेरा हर लफ्ज़ मेरे नाम की तस्वीर हो जाए

डे बाई डे तेरी खुशियां हो जायें डबल,तेरी जिंदगी से डिलीट हो जायें सारे ट्रबल,खुदा रखे हमेशा तुझे स्मार्ट एंड फिट,तेरे लिये न्यू इयर हो सुपर डुपर हिट!

आप दिल से यूँ पुकारा ना करो,हमको यूँ प्यार से इशारा ना करो,हम दूर हैं आपसे ये मजबूरी है हमारी,आप तन्हाइयों मे यूँ रुलाया ना करो.

मुस्कुराना तुम्हारा होंठों पे सजा के लाया हूं,चेहरा तुम्हारा आंखों मे छुपा के लाया हूं, तुम मेरी हो, तुम्हें बस ये बता नही पाया हूं,तुम लाख इन्कार करो, मै तो तुम्हारा साया हूं. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

कोई तो बुक ऐसी मिलती जिस पे दिल लुटा देते;हर सब्जेक्ट ने दिमाग़ खाया किसी एक को निपटा देते;अब सेलेबस देख कर ये सोचते हैं कि;एक महीना ओर होता तो दुनिया हिला देते।

"सुनहरी धुप बरसात क बाद, थोड़ी सी हंसी हर बात के बाद, उसी तरह हो मुबारक आप को 2013, 2012 के बाद. विश यू ए हैप्पी न्यू इयर."

मैं इसका हनुमान हूँ;ये देश मेरा राम है;छाती चीर कर देख लो;अन्दर बैठा हिंदुस्तान है।जय हिन्द। जय भारत।शुभ 26 जनवरी।

इससे पहले की दिवाली की शाम हो जाये,बधाईयों का सिलसिला आम हो जाये ।और आपका मोबाइल नेटवर्क जाम हो जाये,क्यों ना पहले ही दिवाली की राम राम हो जायें ।

"खुदा करे तेरी हर चाही खुशी तुझे मिल जाए, हम तेरे लिए जो दुआ करे जो भी वो उसी वक़्त पूरी हो जाए, आपकी तरह ही शबनमी आपकी यादें हैं, खुदा करे आप ये जन्मदिन यूँ ही पूरी साल मनाएं."

प्यार को दो ही पल नसीब हुएइक मुलाकात, इक जुदाई हैआइना पत्थरों से टकरायाये सजा सादगी की पाई हैमेरी इक सांस भी नहीं मेरीज़िन्दगी किस कदर पराई है

ज़िन्दगी से बडी़ सज़ा ही नहींऔर क्या जुर्म है पता ही नहींसच घटे या बढे़ तो सच न रहेझूठ की कोई इंतहा ही नहींचाहे सोने के फ़्रेम मे जड़ दोआइना झूठ बोलता ही नहीं

तमन्ना करने से ही पुरी होती है हर तमन्नादिल धडकने से ही पुरा होता है हर सपनाकोशिश करने से हर रह आसान हो जाती हैऔर आगे बढने से हर मन्ज़िल मिल जाती है

न कर शायरी को बदनाम हुस्न का नाम देकरयह तो ख़ुदा का मुक़ाम है.जिस्म फ़रोशी नहीं शायरी यह तो रूह का पयाम है.

किस्मत में लिखी हर मुश्किल टल जाती है ,हो बुलन्द हौसले तो मंजिल मिल जाती है।सिर उठा कर जो आसमान को देखो ,गगन को छूने की प्रेरणा मिल जाती है।

उलझनों में गुम हुआ फिरता है दर-दर आइना |झूठ को लेकिन दिखा सकता है पैकर आइना | शाम तक खुद को सलामत पा के अब हैरान है, पत्थरों के शहर में घूमा था दिन भर आइना |

बंद करो ये तुम आपस में खेलना अब खून की होलीउस माँ को याद करो जिसने खून से चुन्नर भिगोली, इतना ही कहेना काफी नही भारत हमारा मान हैअपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है.स्वतंत्रता दिवस की बधाई

"काश वो पल संग बिताए न होते जिनको याद कर के ये आँसू आये ना होते खुदा को अगर इस तरह दूर ले जाना ही था तो इतनी गहराई से दिल मिलाए ना होते "

"कई इन्किलाबात आये जहाँ में, मगर आज तक दिन न बदले हमारे।"

"तुम करोगे याद एक दिन इस प्यार के ज़माने को, चले जाएँगे जब हम कभी ना वापस आने को. करेगा महफ़िल मे जब ज़िक्र हमारा कोई, तो तुम भी तन्हाई ढूंढोगे आँसू बहाने को."

काली रातों से मैं जब डरता था तोउजाला बन करमेरी आँखों में समां जाती थी माँमेरी छोटी-छोटी शरारतों की बातेकरती थी पिताजी से हंस हंस करऔर मेरी बड़ी-बड़ी शरारतेंअक्सर छुपा जाती थी माँ.

"डूबते हैं तो पानी को दोष देते हैं, गिरते हैं तो पत्थर को दोष देते हैं, इंशान भी क्या अजीब हैं दोस्तों.... कुछ कर नहीं पाता तो किस्मत को दोष देता हैं."

दोस्ती तो ज़िन्दगी का वो खूबसुरत लम्हा है,जिसका अंदाज सब रिश्तों से अलबेला है,जिसे मिल जाये वो खुश............,जिसे ना मिले वो लाखों में अकेला है|

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो, नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो, हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर, खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो।

मेरा जूता है जापानी;पतलून है इंग्लिश तानी;सर पर लाल टोपी रुसी;फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी।शुभ गणतंत्र दिवस।

लम्हा-लम्हा वक़्त गुजर गया।मेरे जाने के दिन करीब आ गया॥सोचता हूँ कल भी ऐसा ही होगा।क्या मेरे जाने के बाद भी ऐसा ही होगा॥

आँखों में आसूँ आ जाते हैं,फिर भी लबो पे हँसी रखनी परती हैं,ये मोहब्बत भी क्या चीज हैं यारो,जिससे करते हैं उसी से छुपानी परती हैं.

ज़िंदगी भर नहीं भूलेगी वो बरसात की रातएक अंजान हसीना से मुलाकात की रातहाय वो रेशमी ज़ुल्फ़ों से बरसता पानीफूल से गालों पे रुकने को तरसता पानीदिल में तूफ़ान उठाते हुए दिल में तूफ़ान उठाते हुए हालात की रात.

"वतन हमारा मिसाल मोहब्बत की तोड़ता है दीवार नफरत की, मेरी खुशनसीबी कि मिली ज़िन्दगी इस चमन में, भुला न सके कोई इसकी खुशबू सातों जनम में. 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस की बधाई"

उम्मीदों की मंजिल ढह गई;ख़्वाबों की दुनिया बह गई;अबे तेरी क्या इज्ज़त रह गई;जब एक झकास आइटम तेरे को;भैया कहके राखी पहना गई।हैप्पी रक्षा-बंधन!

"चाँद का क्या कसूर अगर रात बेवफा निकली, कुछ पल ठहरी और फिर चल निकली, उन से क्या कहे वो तो सच्चे थे, शायद हमारी तकदीर ही हमसे खफा निकली."

"कोई शाम आती है, तुम्हारी याद लेकर, कोई शाम आती है, तुम्हारी याद देकर, हमे तो इंतजार है, उस शाम का, जो आये तुम्हे साथ लेकर…"

गुलसन है अगर सफ़र जिंदगी का तो इसकी मंजिल समशान क्यों है? जब जुदाई है प्यार का मतलब तो फिर प्यार वाला हैरान क्यों है? अगर जीना ही है मरने के लिए तो जिंदगी ये वरदान क्यों है? जो कभी न मिले उससे ही लग जाता है दिल,आखिर ये दिल इतना नादान क्यों है?

ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;पर उस से झगडा ना करें जो आप से तगड़ा होए!

"डे बाई डे तेरी खुशियां हो जायें डबल, तेरी जिंदगी से डिलीट हो जायें सारे ट्रबल, खुदा रखे हमेशा तुझे स्मार्ट एंड फिट, तेरे लिये न्यू इयर हो सुपर डुपर हिट."

सर पा-ए-ख़ुम पे चाहिए हंगाम-ए-बे-ख़ुदी रू सू-ए-क़िबला वक़्त-ए-मुनाजात चाहिए…

अपनी मर्ज़ी से मर जाऊं,हक़ इतना तो दो।हाँ दीवाना हूँ दीवाना ही रहने दो मुझे,क्या निभाते है मोहब्बत देखो।कभी फुर्सत में सनम अपने दिल में झांको,खोल दो जुबाँ जज़बातों की और कुछ सुन लो।

दुश्मन नसिब अपना,साचा रकिब अपना.सांसोमें सोना चांदी,दिल है गरिब अपना. है कौन के जिसे मैं समजु करीब अपना,तनहा हुं महेफीलोमें, ये है नसीब अपना

आप जहाँ जायें वहां से करें सभी के आंसू उड़ान;सब लोग आपको ही माने अपना प्यार;आपकी हर राह हो हमेशा साफ़;और खुदा दे आपको एक नया झकास नया साल!

पढ़ रहा हुं मैं इश्क की किताबअगर बन गया वकील तो ,बेवफओं की खैर नही…।

फिर ना किजिये मेरी गुस्ताख निगाहों का गिला देखिये आप ने फ़िर प्यार से देखा मुझको

पत्ती-पत्ती गुलाब क्या होगी,हर कली महज ख्वाब क्या होगी !जिसने लाखों हसीं देखे हो,उसकी नियत ख़राब क्या होगी !!हैप्पी रोज डे.

बुराई पर अच्छाई की जीत ! दशहरा लता है एक उम्मीद रावण की तरह हमारे दुखों का अंत हो और एक नई शुरुआत हो एक नये सवेरे की ।

है आदमी बजाए ख़ुद इक महशर-ए-ख़याल हम अंजुमन समझते हैं ख़ल्वत ही क्यूँ न हो…

जिन्दगी कुछ थका थका हूँ मैंदेख ले लड़खड़ा रहा हूँ मैंरेत में ढूँढता रहा मोतीक्या कहूं कितना बावला हूँ मैंजा चुका मेरा काफिला आगेथा जहां पर वहीं खड़ा हूँ मैंखूबियां पूछता है क्यों मेरीकुछ बुरा और कुछ भला हूँ मैंअपनी सूरत कभी नहीं देखीलोग कहते हैं आइना हूँ मैं

इस नये साल में जो तू चाहे वो तेरा हो;हर दिन खूबसूरत और राते रोशन हो;नया साल तेरा पुराने साल से सुनहरा हो;तुझे मेरे यार नया साल मुबारक हो।

"हम जिनके दीवाने है वो गैरों के गुण गाते थे, हमने कहा आपके बिन जी ना सकेंगे, तो हंस के कहने लगे, के जब हम ना थे तब भी तो जीते थे.."

आजाद भारत के नालायक जवानों;अगर आज वैलेंटाइन का दिन होता;या फ्रेंडशिप दिन होता, तो इनबोक्स फुल होता;चलो जल्दी से उठो और सबको बधाई दो!

हमारी जिन्दगी है एक कहानी की तरह ,हवा हूँ जिसमें मैं और तू पानी की तरह ,मेरी रुखों से तू दामन तो यूं छुड़ा के न जा ।मै आइना हूँ , मुझसे नजर चुडा के न जा ।

"जमाने से नही तो तनहाई से डरता हुँ, प्यार से नही तो रुसवाई से डरता हुँ, मिलने की उमंग बहुत होती है, लेकिन मिलने के बाद तेरी जुदाई से डरता हुँ।"

"कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को…. कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को…. कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को…. न्यूक्लीयर पावर का जमाना है, बम से उड़ा दो साले को…."

"बीत गया जो साल, भूल जाए; बीत गया जो साल, भूल जाए; इस नए साल को गले लगाये, करते है दुआ हम रब से सर झुका के; इस साल के सारे सपने पूरे हो आपके, नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें."

"आपकी दोस्ती की रोशनी ऐसी है, हर तरह उजाला ही नजर आया है। सोचता ह घर की बिजली कटवा दूं, और आपकों दीवार पर लटका दूं।"

इसी बात से लगा लेना मेरी शोहरत का अन्दाजा…वो मुझे सलाम करते है, जिन्हे तु सलाम करता हैं !

पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार;अपनों का प्यार, यही है होली का त्यौहार।होली की आपको शुभ कामनाएं।

गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार!रंगबिरंगे पानी की फुहार!प्यार की पिचकारी करे खुशियों की बौछार!मुबारक हो आपको यह रंगों का त्यौहार!

बड़ी गुस्ताखियाँ करने लगा है मेरा दिल अब मुझसे ये कम्बखत जब से तेरा हुआ है मेरी सुनता ही नहीं।

"उनका हाल भी कुछ आप जैसा ही होगा, आपका हाले दिल उन्हें भी महसूस होगा, बेकरारी के आग में जो जल रहे हैं आप, आपसे ज्यादा उन्हें इस जलन का एहसास होगा."

"उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको, खिलता हुआ फूल खुश्बू दे आपको, हम तो कुछ देने के काबिल नही है, देने वाला हज़ार खुशियाँ दे आपको! हॅपी बर्थ डे."

"उनकी गली से गुज़रे…अजीब इत्तेफ़ाक था… उनकी गली से गुज़रे…अजीब इत्तेफ़ाक था… उन्होंने फूल फेंका…गमला भी साथ था."

हुसन पे जब मस्ती छाती है, शायरी पर बहार आती है, पी के मेहबूब की बदन की शराब, जिन्दगी झूम-झूम जाती है.

"हर कोई साथ हो ये जरुरी नहीं होता, जगह तो दिल में बनायीं जाती हैं, पास होकर भी दोस्ती इतनी अटूट नहीं होती, जितनी की दूर रह कर निभाई जाती हैं."

"उन्होंने अपना कभी बनाया ही नहीं, झूठा ही सही प्यार दिखाया ही नहीं, गलतियां अपनी हम मान भी जाते, पर क्या करें कसूर हमारा हमें बताया ही नहीं."

गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है,सितारो ने आस्मा से सलाम भेजा है,मुबारक हो आपको क्रिस्मस का त्योहार,हम ने अड्वान्स मे ये पैगाम भेजा है !!!! मेर्री क्रिस्मस !!

"मोहब्बत मुकदर है एक ख्वाब नही, ये वोह अदा है कि सब जिसमे कामयाब नही. जिन्हें पनाह मिली उंगलियो पर गिनलो उन्हें, मगर जिनके कतल हुए उनका कोई हिसाब नहीं."

नया साल आया बनकर उजाला;खुल जाए आपकी किस्मत का ताला;हमेशा आप पर मेहरबान रहे ऊपर वाला;यही दुआ करता है आपका ये चाहने वाला।नया साल मु

सफ़र में मुश्किलें आयें, तो जुर्रत और बढती है , कोई जब रास्ता रोके , तो हिम्मत और बढती है....

"दिल में रहते थे जो नजरों से उतर गए रिश्ते जैसे काँच के टुकड़े, ठेस लगी और टूट गए।"

"हमारी दास्तां उसे कहां कबूल थी, मेरी वफायें उसके लिये फिजूल थीं, कोई आस नहीं लेकिन कोई इतना बतादो, मैंने चाहा उसे क्या ये मेरी भूल थी।"

हर इलज़ाम का हक़दार वो हमें बना जाती है;हर खता की सजा वो हमें बता जाती है;हम हर बार ख़ामोश रह जाते हैं;क्योंकि वो हर बार """"रक्षा-बंधन"""" का डर दिखा जाती है।हैप्पी रक्षा-बंधन!

मेरी मोहब्बत मेरे दिल की गफलत थी, मैं बेसबब ही उम्र भर तुझे कोसता रहा, आखिर ये बेवफाई और वफ़ा क्या है, तेरे जाने के बाद देर तक सोचता रहा.

छुपे-छुपे से रहते हैं सरेआम नही हुआ करते, कुछ रिश्ते बस एहसास होते हैं उनके नाम नहीं हुआ करते।

"काश कुछ ऐसा हो जाये, SMS इन्कमिंग भी चार्जेबल हो जाये, मेरे दोस्त चिल्ला-चिल्ला कर मुझे मनाकरें, और मुझे उनकी जेब ढीली करने में मज़ा आ जाये।"

रुठने मनाने के सिलसिले को ख़त्म कर देते हैं,एक दूजे के जज़्बात अपने दिलों से भांप लेते हैं, ना मिलने की खुशियाँ हो न गम हो बिछड़ने के,चलो कुछ अपनों के दिलों की सच्चाई नाप लेते हैं.

"इश्क एक से हो तो भोलापन है, दो से हो तो अपनापन है, तीन से हो तो दीवानापन है, चार से हो तो पागलपन है, फिर भी काउंटिंग ना रुके तो कमीनापन है,"

सबको दिवाली की शुभकामनाऐं,हम देते है आपको लाखों दुआऐं,नव वर्ष हो पुराने जैसा यादगार,आप सबको मिले अपनी खुशीयों का संसार …

हम से खुल जाओ ब-वक़्त-ए-मय-परस्ती एक दिन वर्ना हम छेड़ेंगे रख कर उज़्र-ए-मस्ती एक दिन…

"तुमसा कोई दूसरा जमीन पर हुआ. तो रब से शिकायत होगी …. एक तो झेला नहीं जाता दूसरा आ गया तो क्या हालत होगी"

"क्या करूँगा उसका इंतज़ार कर के, जब चली गई वो मुझे बर्बाद कर के, सोचा था अपना भी एक जहाँ होगा, मगर मिली सिर्फ तन्हाई उनसे प्यार कर के."

नज़र में ज़ख़्म-ए-तबस्सुम छुपा छुपा के मिलाखफा तो था वो मगर मुझ से मुस्कुरा के मिलावो हमसफ़र के मेरे तंज़ पे हंसा था बोहतसितम ज़रीफ़ मुझे आइना दिखा के मिला

लक्ष्मी आएगी इतनी कि सब जगह आपका नाम होगा;दिन रात व्यापार बढे, इतना अधिक काम होगा;घर परिवार समाज में बनोगे सरताज;यही कामनाओं के साथ जाम होगा!;दिवाली की ढेरों शुभकामनायें!

पाप व लालच से डरने कीधर्मीय सीख सिखाता शिक्षक,देश के लिए मर मिटने कीबलिदानी राह दिखाता शिक्षक,प्रकाशपुंज का आधार बनकरकर्तव्य अपना निभाता शिक्षक,प्रेम सरिता की बनकर धारानैया पार लगाता शिक्षक।

"हम वो नहीं की भूल जाया करते हैं, हम वो नहीं जो निभाया करते हैं, दूर रहकर मिलना सायद मुस्किल हो, पर याद करके सांसो में बस जाया करते हैं."

अपने हसीन होठो को किसी परदे मेंछुपा लिया करो,हम गुस्ताख़ लोग हे, नजरो से चुम लिया करते हे…!!

काश मुझे भी कोई प्यार करेकाश मुझे पर भी कोई ऐतबार करेनिकलता हू यूही चाहत की तलाश मेकाश प्यार की राहो मे मेरा भी कोई इंतेज़ार करे

जो दिल के आईने में हो वही हे प्यार के काबिल ,वरना दिवार के काबिल तो हर तस्वीर होती हे ।

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का, शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का, दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी, आज भी इंतजार है तेरे आने का.

तेरी जुल्फों में खो जाना चाहता हूँ,तेरी जुल्फों में खो जाना चाहता हूँ,...पर तू तेल इतना लगाती हो के फिशल जाता हूँ.

"उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है, जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है, दिल टूटकर बिखरता है इस कदर, जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है"

जो बीत गया सो बीत गया, काहे याद ना तू भुलाये रे;कट जाता जीवन उसकी खोज में, जिस सफलता के हित तू है बिछाए रे;भूल जा काल को, नए साल में अब नए गीत बनाये रे।

देखा ना, सोचा ना रख दी निशाने पे जान कदमों में तेरे निकले मेरा दम है बस यही अरमान.

आप जहाँ जाये वहां से करे फ्लाई ऑल टियर* सब लोग आप को ही मानें अपना डियर* आप की हर राह हो आलवेज़ क्लियर… और खुदा दे आप को एक जक्कास न्यू इयर!! हैप्पी न्यू इयर

"चिराग खुशियों के कब से बुझाए बैठे हैं, कब दीदार होगी उनसे हम आश लगाए बैठे हैं, हमें मौत आएगी उनकी ही बाहों में ...... हम मौत से ये सर्त लगाए बैठे हैं."

“दुवा” कभी खाली नही जाती….बस लोग ईन्तजार नही करते….!

ऐसी गुस्ताखियाँ ना कर कि, दिल निकाल हथेली पर रख दूँ …

रक्षा-बंधन का त्योहार है;हर तरफ खुशियों की बौछार है;बँधा एक धागे में;भाई-बहन का प्यार है।रक्षा-बंधन का हार्दिक अभिनन्दन!

इन्तेजार में उनके सुबह -शाम करते हे ,मुलाक़ात के लम्हों को बदनाम करते हे .गैर के साथ वो महफ़िलो में मशरूफ हे ,हम खिलवत अपनी अपने नाम करते हे .

किस्मत ने कैसी दी है मुझे दगा के करीब कोकर भी तेरे करीब नहींचाहे लाख हो जाये दीदार तेरा खवाबों में मुझे तेरी परछायां भी नसीब नहीं

"अजब मुकाम पे ठहरा हुआ है काफिला जिंदगी का, सुकून ढूढनें चले थे, नींद ही गवा बैठे"

ज़िक्र हुआ जब खुदा की रहमतों का, हमने ख़ुद को ख़ुश नसीब पायातमन्ना थी एक प्यारे से दोस्त की, खुदा ख़ुद दोस्त बनकर चला आ

"गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है, सितारों ने आसमान से सलाम भेजा है, मुबारक हो आपको नया साल, हमने अडवांस में यह पैगाम भेजा है, नव वर्ष की शुभकामनायें."

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं, दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं, नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर, फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।

पग - पग में हो फूलों का सामना,न हो कभी काँटों का सामना!नव वर्ष की शुभकामनायें!

हर राह आसान हो, हर राह पे खुशियां हो, हर दिन खुबसूरत हो, ऐसा ही पूरा जीवन हो, यही हर दिन मेरी दुआ हो, ऐसा ही तुम्हारा हर जन्मदिन हो."

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ……!!!!

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका इश्क मुकम्मल होता है ,हमने तो यहाँ इंसानों को बस बर्बाद होते देखा है !

ज़हासे तेरी बादशाही खत्म होंती हे ,वहा से मेरी नवाबी सुरु होती हे….!!!

निकल पड़े हैं मौसम ख़ुशगवार देखकरसावन की बारिश का मल्हार देखकरबस्ती में बह रही है राहों पे दरियामिट्टी भी संग चले हैं दिलदार देखकरकानों में गूँजती है बूँदों की झनकारहैराँ हूँ मैं कुदरत का फनकार देखकर

दिनों दिन तेरी खुशियाँ हो जायें दोगुनी;तेरी जिंदगी से मिट जायें सभी गम;खुदा रखे तुझे हमेशा स्मार्ट और तंदरुस्त;तेरे लिए नया साल हो सुपर-डुपर हिट।

ज़िन्दगी के मायने तो याद तुमको रह जायेंगे , अपनी कामयाबी में कुछ कमी भी रहने दो....

लगे ना नज़र इस रिश्ते को ज़माने की,पड़े ना ज़रूरत कभी एक दूजे को मानने की,आप ना छोड़ना मेरा साथ वरनातमन्ना ना रहेगी फिर दोस्त बनाने की.

"अपने रंग में रंग दो उनको.. चेहरा जिनका भाता तुमको, हम तो कब के रंग चुके.. जब से उनकी नयना झुके, आज सजी रंगोली हैं.. रंगों में सिमटी होली हैं, खुशियों में डूबी होली हैं... बुरा न मानो होली हैं."

अक्सर उनका चेहरा गुलाब से मिलता है दूर रहकर बड़ी चोट करनी मुश्किल है उससे होशियार जो आके गले मिलता है कटोरे मे कुछ नहीं तिजोरी मे और और न जाने यहाँ किस हिसाब से मिलता है

"तकदीर ने जैसा चाहा ढल गये हम, यूं तो संभल कर चले थे फिर भी फिसल गये हम, अपना यकीन है कि दुनिया बदल गयी, पर सबका खयाल है कि बदल गये हम."

हम रोने का हुनर सीख गएतुम आकर आँसू में भींज गएमेरे जज़्बात के हर कतरे मेंतुम बहने की अदाएँ सीख गए

"दिल में आंसुओं के मेले हैं, तुम बिन, हम बहुत अकेले हैं, सब कुछ छोड़कर, "एस एम् एस" तुम्हें करते हैं, देखो हम कितने वेल्ले हैं."

दुआ करते हैं हम सर झुका के,आप अपनी मंज़िल को पाए,अगर आपकी राहों मे कभी अंधेरा आए,तो रोशनी के लिए खुदा हमको जलाए.

"हम आपके जन्मदिन पर देते हैं यह दुआ, हम और तुम मिलकर, होंगे कभी ना जुड़ा, जीवन भर साथ देंगे अपना हे ये वादा, तुज पर अपनी जान भी देंगे, अपना हे ये इरादा."

प्यार अपनों का मिटा देता है ,इंसान का वजूद , जिंदा रहना है तो गैरों की नज़र में रहिये.......

""बहकाता है, बहलाता है, भुलावे देता है... दिल भी कम्बख़्त क्या-क्या छलावे देता है शुक्र है, दिमाग़ अब भी है अपना सही सलामत... गुस्ताखियाँ करना भी चाहूं, तो बढ़कर रोक देता है""

"कल रात वो मिली ख्वाब में, हम ने पूछा क्यों ठुकराया आपने, जब देखा तो उनकी आँखों में भी आँसू थे, फिर कैसे पूछता क्यों रुलाया आपने."

"कंजूसों की जिंदगी क्या जीना, कभी हमारी तरह भी जिया करो, रोज मेरे SMS पढ़ कर शरम नहीं आती, कभी खुद भी SMS किया करो."

दीदार ही किया तो गुनहगार हो गये, आज सरे जमाने मे शर्मसार हो गये, अब हमसे हर शख्स नजर चुराए फिरता है, जो जी भर उन्हें देखने के तलबगार हो गये.

तुझको याद करके रोता है अब दीवाना तेरा;जो ना भूल पाएगा कभी भी ठुकराना तेरा;तुम हमें भूल जाओ शायद ये फितरत है तेरी;मुश्किल है हमारे लिए प्यार भुलाना तेरा।

कोई आँसू बहाता है, कोई खुशियाँ मनाता है ये सारा खेल उसका है, वही सब को नचाता है.

कबीर जी कह गये:कल करे सों आज कर, आज करे सों अब;नेटवर्क फेल हो गया विश करेगा कब।नव वर्ष की शुभकामनायें।

"न मिले किसी का साथ तो हमें याद करना, तन्हाई महसूस हो तो हमें याद करना...., खुशियाँ बाटने के लियें दोस्त हजारो रखना, जब ग़म बांटना हो तो हमें याद करना ....."

परेशानियो से भागना आसान होता है,हर मुश्किल जिन्दगी मे एक इम्तिहान होता है,हिम्मत हारने वाले को कुछ नही मिलता,जिन्दगी मे, ओर मुश्किलो से लङने वालो के कदमो मे ही तो जँहा होता है।

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ वर्ना क्या बात कर नहीं आती…

हर पल हर छण,तुम्हारी कमी सताती है।हर पग हर डगर,तुम्हारा एहसास दिलाती है।नहीं दर्शाता मैं किसी को,चेहरा तुम्हारा याद आता है।शत-शत नमन मैं करूँ तुमको,माँ तेरा दुलार याद आता है।

हो सकती हैजिंदगी में मोहब्बत दोबारा भी……बस हौंसला चाहिएफिर से बर्बाद होने का…!!

भगवान श्री गणेश की कृपा, बनी रहे आप हर दम;हर कार्य में सफलता मिले, जीवन में न आये कोई गम!गणेश चतुर्थी की शुभ कामनाएं!

"रौशनी के लिए दिया जलता हैं ,शमा के लिए परवाना जलता हैं, कोई दोस्त न हो तो दिल जलता हैं, और दोस्त आप जैसा हो जो ज़माना जलता हैं."

बेशक थोड़ा इंतजार मिला हमकोपर दुनिया का सबसे हसीं यार मिला हमकोन रही तमन्ना अब किसी जन्नत कीतेरी दोस्ती में वो प्यार मिला हमको

"फूल बनकर मुसकराना ज़िंदगी, मुस्कारके गुम भूलना ज़िंदगी, जीत कर कोई खुश हो तो क्या हुआ, हार कर खुशिया मानना भी ज़िंदगी."

हुई मुद्दत कि ग़ालिब मर गया पर याद आता है वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता…

हमेशा ज़िन्दगी में मुस्कुराते रहो;हर इंसान को अपना बनाते रहो;जब तक कोई कार वाली ना बने तुम्हारी गर्लफ्रेंड;तब तक स्कूटर वाली से ही काम चलाते रहो!

रावण को कोर्ट में लाया गया और कहा गया, """"गीता पर हाथ रखो""""!रावण बोला, """" सीता पर हाथ रखा तो इतना बवाल हुआ; और अब गीता पर! माफ़ करना सर, अब मैं कोई भी रिस्क नहीं लूँगा""""!काश, तुम भी रावण से इस दशहरा पर कुछ सीख पाते!शुभ दशहरा!

पापा की वो लाड़ली, माँ की वो जान, दिल नादान, पर करती है, सबके लिए अपनी जान कुर्बान, है भाइयों की मुस्कान, परिवार की शान, ये है एक लड़की की पहचान..

"मै तुम्हारे लिये सब कुछ करता मगर मुझे काम था… मै तुम्हारे लिये डूब कर मरता.. मगर मुझे जुकाम था."

पूजा की थाली, रसोंई में पकवान ।आँगन में दीया, खुशियाँ मिले तमाम ॥हाथों में फुलझड़ियाँ, रोशन हो जहानमुबारक हो आपको, दिवाली मेरी जान ॥ ॥ शुभ दीपावली ॥

दिल का रिश्ता है हमारादिल के कोने में नाम है तुम्हाराहर याद मैं है चेहरा तुम्हाराहम साथ नहीं तो क्या हुआज़िन्दगी भर प्यार निभाने का वादा है हमारा

तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना रो चुका हूँ मैं कि तू मिल भी अगर जाये तो अब मिलने का ग़म होगा समन्दर की ग़लतफ़हमी से कोई पूछ तो लेता ,ज़मीं का हौसला क्या ऐसे तूफ़ानों से कम होगा मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता ,कहीं तू बढ़ भी सकता है, कहीं तू मुझ से कम होगा

मुखमंडल पर अंगार कभी ,आँखों में निश्छल प्यार कभी|अंतर में माँ की ममता थी,सोनार कभी, लोहार कभी ||

अब मायूस क्यु हे उसकी बेवफाई से दोस्त ,तुम ही तो कहते थे वो जुदा हे सबसे !!

"छुपा लूं तुझको अपनी बाँहों में इस तरह, कि हवा भी गुजरने की इजाज़त मांगे, मदहोश हो जाऊं तेरे प्यार में इस तरह, कि होश भी आने की इजाज़त मांगे"

"जिंदगी देने वाले , मरता छोड़ गये, अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की, वो जो साथ चलने वाले, रास्ता मोड़ गये"

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ, मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ, तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है, मैं रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ।

आँसू मैं ना ढूँदना हूमें, दिल मैं हम बस जाएँगे, तमन्ना हो अगर मिलने की, तो बंद आँखों मैं नज़र आएँगे.

"ज़िन्दगी मे कई मुशकिले आती है, और इन्सान ज़िन्दा रहने से घबराता है, ना जाने कैसे हज़ारो कांटो के बीच, रह कर भी एक फूल मुस्कुराता है."

रंगों में घुली लड़की क्या लाल गुलाबी है जो देखता है कहता है क्या माल गुलाबी है पिछले बरस तूने जो भिगोया था होली में अब तक निशानी का वो रुमाल गुलाबी है.

"लक्ष्मी का हाथ हो सरस्वती का साथ हो गणेश का निवास हो और मां दुर्गा के आशीर्वाद से आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो… ’शुभ नवरात्र ’"

निखरे हैं रंग सभी मेंहदी के फिज़ाओं मेंये ईद की खुशबू है फैली आज इन हवाओं मेंकल रात जब चाँद उतरा मेरे आँगन मेंसारे जहां के लिए ख़ुशी मैंने माँग ली दुआओं में

आज का दिन बहुत ख़ास है;बहना के लिए बहुत कुछ मेरे पास है;तेरे सुकून की खातिर ओ बहना;तेरा भाई हमेशा तेरे पास है!

गुरू गोविंद दोउ खड़े, काके लागू पाव बलिहारी गुरू आपने, गोविंद दियो बताय शिक्षक दिवस की अशेष शुभकामनाएं …

"पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार, अपनों का प्यार, यही है यारों होली का त्यौहार. हैप्पी होली."

एक हौसला ना जाने कब टूटाचोट तो नही पर जख्म हो गयाकुछ तो बदल गया है प्रतिबिम्बजो रुक गया है कारंवा एक तूफान से

मोहब्बत का कोई रंग नहीं फिर भी वो रंगीन है, प्यार का कोई चेहरा नहीं फिर भी वो हसीन है।

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले...

"फूल खिलते रहें ज़िंदगी की राह में, हँसी चमकती रहे आपकी निगाह में. कदम कदम पर मिले खुशी की बाहर आपको, दिल देता है यही दुआ बार-बार आपको. हॅपी बर्तडे."

"एक दुआ मांगते है हम अपने भगवन से.. चाहते है आपकी खुशी पुरे ईमान से, सब हसरतें पुरी हो आपकी, और आप मुस्कराए दिल-ओ-जान से"

"एक रात वो मिले ख्वाब में, हमने पुछा क्यों ठुकराया आपने. जब देखा तो उनकी आँखों में भी आंसू थे, फिर कैसे पूछते क्यों रुलाया आपने."

रोज़ सोचता हुँ तुम्हे भूल जाऊरोज़ यही बात.... भूल जाता हुँ…

"इस से पहले की रंगों का त्योहार सुरु हो जाए... बधाईयों का सिलसिला आम हो जाए.... रंगों में हमारा नाम खो जाए.... क्यों न होली की अभी से राम - राम हो जाए…"

ढोलक की थपकारडांडिये की झंकारचूड़ियों की झनझनाहटपायल की झनझनाहटसब यही कह रहे हैं नवरात्रि की हर रात आपके लिए शुभ हो

"हँसती थी हँसाती थी दिल को बहुत भाती थी देख-देख शरमाती थी फिर अंदर से मुस्कुराती थी आज पता चला कि वो तो एक पागल थी."

जिंदगी में खूब कमाया , क्या हीरे क्या मोती , क्या करूँ मगर कफ़न में जेबें नहीं होती......

वतन हमारा ऐसे ना छीन पाये कोई;रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाये कोई;दिल हमारे एक हैं एक है हमारी जान;हिंदुस्तान हमारा है हम हैं इसकी शान।शुभ गणतंत्र दिवस।

तू मोहब्बत है मेरी इसीलिए दूर है मुझसे…अगर जिद होती तो शाम तक बाहों में होती

"कोई रिश्ता टूट जाये दुख तो होता है, अपने हो जायें पराये दुख तो होता है, माना हम नहीं प्यार के काबिल मगर इस तरह कोई ठुकराये दुख तो होता है।"

मेरी यादो मे तुम हो, या मुझ मे ही तुम हो, मेरे खयालो मे तुम हो, या मेरा खयाल ही तुम हो, दिल मेरा धडक के पूछे, बार बार एक ही बात, मेरी जान मे तुम हो, या मेरी जान ही तुम हो।

दिल के अरमान आंसू मे बह गये ये आशिक़ी का दर्द था जो बात उनसे कहनी थी लाईट चली गयी और उनकी मम्मी से कह गये

लाल, गुलाबी, नीला और पीला;हाथों में लिया समेट;होली की दिन रंगेगे सजनी;करके मीठी भेंट।होली मुबारक।

कही से सुना था उसने, की जीवन काँटों भरा होता है, तब से सदा वो दूसरों के जीवन में कांटे बोता है.....

जिन्दगी कुछ थका थका हूँ मैंदेख ले लड़खड़ा रहा हूँ मैंरेत में ढूँढता रहा मोतीक्या कहूं कितना बावला हूँ मैंजा चुका मेरा काफिला आगेथा जहां पर वहीं खड़ा हूँ मैंखूबियां पूछता है क्यों मेरीकुछ बुरा और कुछ भला हूँ मैंअपनी सूरत कभी नहीं देखीलोग कहते हैं आइना हूँ मैं

जब तू होती थी मेरी ज़िन्दगी में तो तेरे मेरे इश्क के चर्चे बहुत थे;अच्छा ही हुआ ज़िन्दगी से चली गयी तू क्योंकि तेरे खर्चे ही बहुत थे!

"ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक हैं, तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक हैं, वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी, हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक हैं."

रंग बिरंगे मौसम मे सावण की घटा छाईखुशियों की सौगात लेकर प्यारी बहना राखी बांधने आईभाई के हाथों से सजे भई की कलाईसदा खुश और सुखी रहे बहन-भाई

"समने हो मंज़िल तो रास्ते ना मोडना, जो भी मन मे हो वो सपना ना तोडना, कदम कदम पे मिलेगी मुशकिल आपको, बस सितारे चुन-ने के लिये कभी ज़मीन मत छोडना."

"दूर तक तन्हाई का सफर हैं, न कोई साथी न हमसफर हैं, चलते हैं दिल के सहारे ये सोच कर, की अगले ही मोड़ पे खुशियों का सहर हैं."

लल्ला कृष्ण बल कान्हा तेरी नटखट यादों का उत्सव मनाया जाता है श्री कृष्ण का जन्म दिवस जन्मास्टमी कहलाता है मन में प्रेम का फूल खिले कृष्ण सा साथी मिले होती तमन्ना हर गोपी की उत्सव का ये प्रथा चला लल्ला कृष्ण बल कान्हा द्वापर युग में आये यहाँ प्रेम की बंशी बजाई बैर वैमनष्य मिटाई

औरत से है यह दुनिया सारी फिर भी यह ग़ुलामी सहती है, औरत के लिए है जीना सजा फिर भी वह जीए जा रही है, औरत संसार की किस्मत है फिर भी किस्मत की मारी है,

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है ।एक से करता नहीं क्यों दूसरा कुछ बातचीत, देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफिल में है ।

"हर सागर के दो किनारे होते है, कुछ लोग जान से भी प्यारे होते है, ये ज़रूरी नहीं हर कोई पास हो, क्योंकी जिंदगी में यादों के भी सहारे होते है."

“ओस की बूंदे है, आंख में नमी है,ना उपर आसमां है ना नीचे जमीन हैये कैसा मोड है जिन्‍दगी काजो लोग खास है उन्‍की की कमी हैं ”

"वो आऐ मेरी जिन्दगी में कहानी बनकर , इस दिल में रहे प्यार की निशानी बन कर, अकसर जिन्हें हम जगह देते है इस दिल में, वो आँखों से निकल जाते है पानी बन कर.."

ना जुबान से ,ना निगाहों से,ना दिमाग से ,ना रंगों से ,ना ग्रीटिंग से ,ना उपहार से ,जिसने कुर्बानी में हिस्सा लिया है ,आपको """"जश्ने आज़ादी मुबारक"""" सीधे दिल से ।

एक कवि गरीबी से तंग आकर डाकू बन गया, डकैती करने एक बैंक गया और बोला: अर्ज हैतकदीर में जो है वही मिलेगा,हैंड्स अप कोई अपनी जगह से नहीं हिलेगा.फिर कैशियर के पास गया और बोला:कुछ ख्वाब मेरी आंखों से निकाल दो,जो कुछ भी तुम्हारे पास है जल्दी से इस बैग में डाल दो.बहुत कोशिश करता हूं तेरी याद भुलाने की,कोई कोशिश नहीं करें पुलिस को बुलाने की.भुला दे मुझको क्या जाता है तेरा,मैं गोली मार दुंगा, जो किसी ने पीछा किया मेरा.

कौन कहता ही की छेद आसमां में हो नहीं सकता, इक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों.......

मेरे जज़्बात से वाकिफ हे मेरी ये कलम ,मैं प्यार लिखू तो तेरा नाम लिखा जाता हे ।

दिल ने एक बार और हमारा कहना माना हैं, इस होली पे फिर उनसे रंगने जाना हैं, हर साल खेलते हैं होली, इस बार भी करली तैयारी, इस बार खेलना मेरे साथ, देखना राह हमार, नीला हरा लाल गुलाबी, ये सब एक बहाना हैं, होली का हो दिन या कुछ और हमें तो तुमसे मिलने आना हैं.

उनको मालूम है की हम चाहें उन्हे ,फिर भी नज़रें मिलाने की ज़रूरत करें ,उनकी नज़रें मिलें और मिल के हटें,उनकी नज़रो मे हम को तो जन्नत मिले|बात दिल की बयान कैसे नज़रें करें,ये तो दिल ही कहें और दिल ही सुनें,शक़सियत से मोहबत ना हुमको हुई,दिल ने दिल को छुआ और दिल से गये,लफ्ज़ मे जब पिरोया जो दिलने कहा,वो जो कहने गये वो भी कह ना सके|

है अब इस मामूरे में क़हत-ए-ग़म-ए-उल्फ़त असद हम ने ये माना कि दिल्ली में रहें खावेंगे क्या…

शिक्षक न देखे जात-पात,शिक्षक न करता पक्ष-पात,निर्धन हो या हो धनवान,शिक्षक को सब एक सामान.

"हमारे आंसूं पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं, उनकी इस अदा से वो दिल को चुराते हैं, हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को, इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते हैं।"

"हमारी गलतियों से कही टूट न जाना, हमारी शरारत से कही रूठ न जाना, तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं, इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना."

"भूल जाए तुमको कोई इरादा नहीं हैं, तेरे सिवा सिकी और से वादा नहीं नहीं हैं, निकाल देते दिल से शायद तुमको.... मगर इस नादान दिल में दरवाजा नहीं हैं."

लोग मन्जिल को मुश्किल समझते है,हम मुश्किल को मन्जिल समझते है,बडा फरक है लोगो मे ओर हम मै,लोग जिन्दगी को दोस्त ओर हम दोस्त को जिन्दगीसमझते है.

आज ईद, कल ईद, सुबह ईद, और शाम को ईद;खुदा करे कि आप के हर लम्हें का नाम ईद हो!ईद मुबारक!

तेरे बारे में सोचा तो मुझे एक ख्याल आया;तुझे मैंने दोस्त बना के ज़िन्दगी में क्या पाया;बाकी बातों को तो तू मार गोली;पहले ये बता तूने पड़ोस वाली आइटम को कैसे पटाया!

पल पल से बनता है एहसास;एहसास से बनता है विश्वास;विश्वास से बनते हैं रिश्ते;और रिश्तों से बनता है कोई खास;मुबारक हो ये गणेश चतुर्थी झकास!शुभ गणेश चतुर्थी!

"रात को रात का तोफा नहीं देते, दिल को जजबात का तोफा नहीं देते, देने को तो हम आप को चाँद भी दे दे, मगर चाँद को चाँद का तोफा नहीं देते."

"वक़्त बदलता है हालात बदल जाते हैं, ये सब देख कर जज़्बात बदल जाते हैंये कुछ नही बस वक़्त का तक़ाज़ा है दोस्तो, कभी हम तो कभी आप बदल जाते हैं."

मुझे बेबस दिलों में पल रहे अरमान लिखने हैंग़रीबों के घरों के दर्द और तूफ़ान लिखने हैंकभी मौक़ा मिलेगा तो चमन की बात कर लूंगाअभी फुटपाथ के गलते हुए इन्सान लिखने हैं

"रात सुनती रही हम सुनाते रहे, दर्द की दास्ताँ हम बताते रहे , मिटा न सके यादें जिनकी दिल से, नाम लिख लिख कर उनको मिटाते रहे."

सुनते नहीं क्यु दिल की पुकारे ,बेताब कर गए हे आपके नज़ारे ,चलो बेगाना करके इस जहाँ को ,बन जाओ ना तुम हमदम हमारे.

रस्ते को भी दे दोष , आँखें भी कर लाल, चप्पल में जो कील है , पहले उसे निकाल.....

शिव की शक्ति से;शिव की भक्ति से;खुशियों की बहार मिले;महादेव की कृपा से;आप सब दोस्तों को जिंदगी में प्यार मिले।महाशिवरात्रि के पावन अफसर पर शुभ कामनाएं!

ना जाने वो कौन इतना हसीन होगा,आपके हाथ में जिसका नसीब होगा,कोई आपको चाहे ये कोई बडी बात नहीं,जिसको आप चाहो वो खुश नसीब होगा..

ना दूध दूंगा ना खीर दूंगा;कश्मीर की तरफ देखेगा तो चीर दूंगा;ये तो हमारे नेता ही नाकारा हैं;तभी तो पकिस्तान नाम तुम्हारा है;मिटा दूंगा हस्ती तुम्हारी भारत नाम हमारा है।जय हिन्द-जय भारत।शुभ गणतंत्र दिवस।

संकटों का नाश होखुशियों की बरसात होहर दिल पर आपका राज होउन्नति का सर पर ताज होनवरात्रि के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं

"ख्वाबो में मेरे आप रोज आते हो, कभी दर्द, कभी खुशियाँ दे जाते हो, कितना प्यार करते हो आप मुझ से, शिर्फ़ मेरे इस सवाल का जबाब टाल जाते हो."

"भूल गए या, भुलाना चाहते हो, दूर कर दिया, या करना चाहते हो, अजमा लिया, या अजमाना चाहते हो, मेसेज कर रहे हो, या अभी और पैसे बचाना चाहते हो?"

काश कोई एक खुशी का लम्हा,मेरी जिन्दगी में लौटकर चला आये।मैं बरसात में रो लूं और,आँख का पानी बरसात में मिल जाये।ये दिल खुशी से झूमें पहले की तरह,या फिर पूरी तरह टूटकर बिखर जाये।

"मेरे प्यार को दुनिया मे कोई समझ न पाया, रोता था जब तन्हा कोई मेरे साथ न आया, मिटा दिया खुद को उसके प्यार मे, और लोग कहते हैं कि मुझे प्यार करना न आया"

अब हो गया है आदमी ,बिकता है जहां प्यार भी सामान कि तरह,पहचान भी है मुश्किल मुखौटों के दौर में,दिखता है भेड़िया भी इंसान कि तरह I

"तन्हाईयां जाने लगी जिंदगी मुस्कुराने लगी, ना दिन का पता है ना रात का पता. आप की दोस्ती की खुशबू हमे महकाने लगी, एक पल तो करीब आ जाओ धड़कन भी आवाज़ लगाने लगी.. "

"न मंदिर न भगवान, न पूजा न स्नान, शाम होते ही हमारा सबसे पहला काम एक प्यारा सा SMS अपनी दोस्ती के नाम."

उसके होंठों पे कभी बददुआ नहीं होती , बस इक माँ है जो मुझसे कभी खफा नहीं होती.

प्यार का पहला खत लिखने में तो वक्त तो लगता है, नये परिंदों को उडने में वक्त तो लगता है, जिस्म की बात नहीं थी, उनके दिल तक जाना था,लंबी दूरी तय करने में वक्त तो लगता है. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

"हर मुलाकात पर वक्त का तकाज़ा हुआ.. हर याद पे दिल का दर्द ताजा हुआ.. सुनी थी सिर्फ हमने गज़लों मे जुदाई की बातें.. अब खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ."

आँखों की भाषा पढना सीखो, खामोशी को चुपके से सुनना सीखो, शब्द बिना बोले लब से,जुबां की भाषा समझना सीखो.

जब मिलेगी कभी तो बुलाऊँगा उसे, दिल के जख्म भी दिखाऊँगा उसे, उसकी ये तमन्ना भी पूरी करूँगा मैंजब आखिरी साँस आऐगी… उसके बाद भूल जाऊँगा उसे

मक्के की रोटी , नीबू का अचार,सूरज की किरणे , खुशियों की बहार ।चाँद की चांदनी , अपनों का प्यार ,मुबारक हो आपको , दिवाली का त्यौहार ।

"त्योहार ये रंग का.. त्योहार ये भांग का... मस्ती में मस्त हो जाओ आज... दोगुना मज़ा हैं यार के संग का…"

॥ॐ गं गणपतये नमः॥गणेश चतुर्थीच्या सुखकारक शुभेच्छा!गणपती बाप्पा मोरया मंगलमुर्ति मोरया

"दोस्त की अहमियत समझो तो दोस्ती करना, दर्द की अहमियत समझो तो मोहब्बत करना, वादे की अहमियत समझो तो उसे पूरा करना, ओर हमारी अहमियत समझो तो याद ज़रूर करना."

होली वही जो स्वाधीनता की आन बन जाये;होली वही जो गणतंत्रता की शान बन जाये;भरो पिचकारियों में पानी ऐसे तीन रंगों का;जो कपड़ो पर गिरे तो हिंदुस्तान बन जाये।होली की हार्दिक शुभकामनाएं।

सजा है मौसम तुम्हारी महक से आज फिर; लगता है हवायें तुम्हें छू कर आयी हैं।

तुमसे दूरी का एहसास सताने लगातेरे साथ गुज़ारा हर लम्हा याद आने लगाजब भी तुझे भूलने की कोशिश की ए दोस्ततू दिल के और भी करीब आने लगा

"उल्फत में अक्सर ऐसा होता है, आँखे हंसती हैं और दिल रोता है, मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी, हमसफर उनका कोई और होता है"

"आपकी दोस्ती की एक नज़र चाहिए, दिल है बेघर उसे एक घर चाहिए, बस यूँही साथ चलते रहो ऐ दोस्त, यह दोस्ती हमें उम्र भर चाहिए.."

"दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया, जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया, हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे, मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया."

कोई आँसू से लिख देता मोहब्बत की इबारत है, कोई आँसू से कर देता उस खुदा की ज़ियारत है, कोई आँसू से दिल में मुक़ाम कर लेता है, कोई आँसू से मोहब्बत का पैग़ाम भेज देता है.

तेरी दुनिया में कोई गम ना हो; तेरी खुशियाँ कभी कम न हो; भगवान तुझे ऐसी आइटम दे; जो अग्निपथ की चिकनी चमेली से कम ना हो.

"दर्द जब आंसुओं में ढल जाए मेरी आँखों में आके बह जाना भूल कर काश –म –कश ज़माने की मेरी बाहों में आके रह जाना.."

सब कुछ है नसीब में, तेरा नाम नहीं हैदिन-रात की तन्हाई में आराम नहीं हैमैं चल पड़ा था घर से तेरी तलाश मेंआगाज़ तो किया मगर अंजाम नहीं हैमेरी खताओं की सजा अब मौत ही सहीइसके सिवा तो कोई भी अरमान नहीं हैकहते हैं वो मेरी तरफ यूं उंगली उठाकरइस शहर में इससे बड़ा बदनाम नहीं है

"कभी उसको नजरअंदाज न करो, जो तुम्हारी बहुत परवाह करता हो, वरना किसी दिन तुम्हें एहसास होगा, के पत्थर जमा करते करते तुमने हीरा गवा दिया..."

भगवान का दिया हुआ सबसे कीमती तोहफा... कुछ और नहीं बस मेरे पापा, आप हो। फादर्स डे की शुभ कामनायें!

आओ देश का सम्मान करें;शहीदों की शहादत को याद करें;एक बार फिर से राष्ट्र की कमान;हम हिन्दुस्तानी अपने हाथ धरे;आओ स्वंतंत्र दिवस का सम्मान करें!

मैंने चाहा तुझे अबला समझ कर;मैंने चाहा तुझे अबला समझ कर;तेरे बाप ने पीट दिया मुझे तबला समझ कर।

तेरी आँखों की नमकीन मस्तियाँ तेरी हंसी की बेपरवा गुस्ताखियाँ तेरी जुल्फों की लहराती अंगडाइयां नहीं भूलूंगा मैं । जब तक है जान, जब तक है जान

उनके बारे मे हम सोचने लगे है,खुशियॉ के पल दबोचने लगे है,अपनोसे जरा हम बचने लगे है,दीवानगी मे शेर रचने लगे है. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

वजह पूछोगे तो उम्र गुजर जायेगी, कहा ना अच्छे लगते हो तो बस लगते हो।

श्री गणेश पर्व की आप सभी को बधाई एवं शुभकामनायेंविघ्हन हरता रिद्धि सिद्धि के दाता प्रभु श्री गणेश जी को नमन और हम सभी की मनो कामना पूर्ण करें!

रस्ता रोक रही है, थोड़ी जान है बाकीजाने टूटे दिल में, क्या अरमान है बाकीजाने भी दे ऐ दिल, सबको मेरा सलामहो मैं चला, मैं चलामैं शायर बदनाम

क्या हुआ जो उसने रचा ली मेहँदी;हम भी अब सेहरा सजायेंगे;तो क्या हुआ अगर वो हमारे नसीब में नहीं;अब हम उसकी छोटी बहन पटायेंगे!

आँखों में आँसू की जगह न हो, मेरे पास आपको भुलाने की वजह न हो, अगर भूल जाऊ किसी तरह तो, खुदा करे जिंदगी की अगली सुबह न हो.

इश्क में और कुछ नहीं मिलता।सैकड़ों गम नसीब होते हैं॥

"लम्हे जुदाई को बेकरार करते हैं, हालत मेरे मुझे लाचार करते हैं, आँखे मेरी पढ़ लो कभी, हम खुद कैसे कहे की आपसे प्यार करते हैं."

खुदाया ये बेखुदी कि खुद के साथ बैठ करअपना ही इंतेज़ार किया है मैनें कई शाम …तमाम चेहरों में कौन सा चेहरा है मेरे दोस्तहै खुद से ये सवाल किया मैनें कई शाम…

भगवान गणेश आप सभी के जीवन में सुख-शांति-समृद्धि लेकर आये. इन्ही शुभ कामनाओं के साथ हैप्पी गणेश चतुर्थी.

मुझ से किसी का दुःख दर्द,किसी की तकलीफ देखी नहीं जाती या रब !या तो तू तकदीर बदल दे उन की ,या फिर मेरी आँखें लेले ..............

आँखों में आंसुओं की लकीर बन गई;जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गई;हमने तो सिर्फ रेत में उंगलियाँ घुमाई थी;गौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गई.

"बेशक वो नहीं करते बात कभी फिर उनसे मिलने को दिल बेकरार क्यों है उनकी याद तो अब रात को सोने भी नहीं देती जाने हमको उनसे इतना प्यार क्यों है"

झुकी हुई पलको से उनका दीदार किया सब कुछ भुला के उनका इंतजार किया वो जान ही नहीं पायी मेरे जज्बात को जिन्हें दुनिया मे सबसे ज्यादा प्यार किया.

"अगर याद तुमको ना रहे अपना जन्मदिन, चेक करते रहना यूँही अपने मोबाइल के इंबॉक्ष हार्डिन, मैं कभी ना भूलूंगा अपने यार का जन्मदिन, चाहे वो हो मेरा आख़िरी दिन, आपको ज़रूर मेरा यह म्स्ग. मिलेगा, जिसपे लिखा होगा ”मुबारक हो आपको आपका जन्मदिन. "

मिठास भरी हुई हर् ओर है,लगता है जैसे खूबसूरत समा पुर-ज़ोर है.ढूंदा तो पाया आपकी है ये मिठासजो आज की दिन एक चॉकलेट की तरह,मीठी और छाई हर ओर है.हैप्पी चॉकलेट डे

आपके सारे गम खुशियों में तोल दूँ, अपने सारे राज़ आपके सामने खोल दूँ!कोई मुझसे पहले न बोल दे, इसलिए सोचा क्यों न आज ही आपको हैप्पी न्यू इयर बोल दूँ!

हर ओर से कयामत उठाया है जिगर नेशायद ये मेरे खून में चढ़ता शबाब हैसावन का पपीहा भी रो-रो के थक गयाएक बूँद के खातिर वो इतना हताश है

आ लौट के तू आ जा, पहलू उदास हैबरसात में जलता दिल का चिराग हैतू तो बड़ा प्यासा है पर जानती हूँ मैंसमंदर नहीं तुमको सहरा की तलाश है

प्यार,,,,प्यार भी कभी पूरा होता है? इसका तो पहला अक्षर ही अधूरा होता है.

तर्क-ए-ताल्लुक निभाएगा कब तकवो मुझे आज़माएगा कब तकहद कोई होगी बे-नियाज़ी कीहमसे दामन बचाएगा कब, दिल गया होश गया साँसें भीये इंतेज़ार जाएगा कब तक

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद जो नहीं जानते वफ़ा क्या है…

तन्हा रहना तो सीख लिया हमने,लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे,तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल,लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे.

"कुछ मतलब के लिए ढूँढते हैं मुझको, बिन मतलब जो आए तो क्या बात है, कत्ल कर के तो सब ले जाएँगे दिल मेरा, कोई बातों से ले जाए तो क्या बात है."

मेरे जीने के लिये तेरा अरमान ही काफी है,दिल के क़लम से लिखी ये दास्तान ही काफी है,तीर-ए-तलवार की तुझे क्या ज़रूरते ए नज़नीन,क़त्ल करने के लिय तेरी मुस्कान है काफी है.

लफ्ज़ तनहा नहीं होतेकिसी न किसी एहसास से जुड़े रहते हैं हरदमकभी छिपी होतीं हैं सरगोशियाँकुछ पाक़ लम्हों कीकभी वाबस्ता होती हैं यादेंमौसमी फुहारों की,जब भीगे थे तन मन तेज़ बौछारों मेंऔर एहसासों की जुम्बिश सेसिहर उठे थे लफ्ज़..!!

जुदाई आपकी रूलाती रहेगीयाद आपकी आती रहेगीपल पल जान जाती रहेगीजब तक जिस्‍म में है जान सांस आपसे प्‍यार निभाती रहेगी.

लाल रंग की चुनरी से सजा माँ का दरबार;हर्षित हुआ संसार!नन्हें नन्हें क़दमों से, माँ आये आपके द्वार;मुबारक हो आपको नवरात्री का त्योहार!शुभ नवरात्री!

"देर रत जब किसी की याद सताए, ठंडी हवा जब जुल्फों को सहलाये. कर लो आंखे बंद और सो जाओ क्या पता, जिसका है ख्याल वो खवाबों में आ जाये."

ऐ ज़िन्दगी लम्हा दो लम्हा संभालने तो दे.गिरह-ए- ग़म से उम्मीद का धागा सुलझने तो दे.यहीं कहीं है बहार राहत की,खारों से भरे शाखों को बहकने तो दे.

तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं; तेरा दीदार करने की चाह जगी है; न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता; फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में; एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।

याद रखना मेरी दोस्ती को तुम,तेरी ज़िंदगी पर एक एहसान कर दिया,इस मोबाइल मे एक आखरी रूपिया था,मैने वो भी तेरे नाम कर दिया.

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना;तुम कुंवारे रहे, लेकिन मेरी शादी जरूर कराना!

कोख से जन्म दे, ये संसार दिखाया,रातों भर जग, सुखे बिस्तर पर सुलायाहर मोड पर कच्चे घडे की तरह,हाथों का सहारा दे मजबूत बनना सिखायाममता भरी छाव में, हाथ थामे मेरा,चलना सिखाया, पढना सिखाया टेढे-मेढे रास्तो की डगर से बचाकर,जीवन के सफर में आगे बढना सिखाया

औरत है वो कोई गोश्त नहीं जो तू उसे नोच ले, हबस की आग में जलने बाले भेड़िये... एक बार अपनी माँ बहन की भी सोच ले..!

"हम तो जी रहे थे उनका नाम लेकर, वो गुज़रते थे हमारा सलाम लेकर, कल वो कह गये भुला दो हुमको, हमने पुछा कैसे! वो चले गये हाथो मे जाम देकर."

उम्र की राह में जज्बात बदल जाते है;वक़्त की आंधी में हालात बदल जाते है;सोचता हूँ कि काम कर-कर के रिकॉर्ड तोड़ दूँ;पर ऑफिस आते आते ख़यालात बदल जाते है।

"शायरी इक शरारत भरी शाम है, हर सुख़न इक छलकता हुआ जाम है, जब ये प्याले ग़ज़ल के पिए तो लगा मयक़दा तो बिना बात बदनाम है"

"आकर ज़रा देख तो तेरी खातिर हम किस तरह से जिए,आंसु के धागे से सीते रहे हम जो जख्म तूने दिए "

जाती है धूप उजले परों को समेट के, ज़ख्मों को अब गिनूंगा मैं बिस्तर पे लेट के.....

"कुछ खोये बिना हमने पाया है, कुछ मांगे बिना हमें मिला है, नाज़ है हमें अपनी तक़दीर पर जिसने आप जैसे दोस्त से मिलाया है."

धोखा दिया था जब तूने मुझे. जिंदगी से मैं नाराज था,सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं. मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था

क्या सुनाएँ हम आपको दास्ताँ-ए-गम;अर्ज किया है;क्या सुनाएँ हम आपको दास्ताँ-ए-गम;जब से आप मिले हो परेशान हो गए हैं हम!

चाँद का क्या कसूर अगर रात बेवफा निकली,कुछ पल ठहरी और फिर चल निकली,उन से क्या कहे वो तो सच्चे थे,शायद हमारी तकदीर ही हमसे खफा निकली.

आज कुछ लफ्ज़ दे दो मुझेना जाने मेरी कविता के सब मायनेकहाँ खो गये हैं?मेरे अपने लिखे लफ्ज़ अबना जाने क्यों बेमानी से हो गये हैं

रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे!ओ रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे!अरे रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे!अब घर जाओ नहीं तो निकाल दिये जाओगे घरसे!

चंद लाइनों में लिखी तकदीर के वो चंद हर्फों का खेलकि सारी जिंदगी एक तमाशा सा बन कर रह गयी ....

ख़त्म हुआ एक महीने का कठिन उपवास.आखिर दर्शन दे के चाँद ने पूरी कर दी आस.गल्ली मोहल्ले में फैला खूब हर्षों-उल्लास.आओ तोड़ दे सारे गिले-शिकवे और नफरत के तालों को,ईद मुबारक मेरे ओर से सारे चाहने वालों को.

"उनकी नजरों में छुपा आज भी एक राज़ था, वही चेहरा वही लिबास था, कैसे यारों उनको बेवफा कहदु, आज भी उनके दॆखनॆ का वही अंदाज था."

आत्मा से जूडा है रिश्ता भाई-बहन काराखी का त्यौंहार सोने, चांदी, हीरे,मोती से बढकर प्यार है सदाबहार

राते गुमनाम होती हैदिन किसी के नाम होता हैहम ज़िन्दगी कुछ इस तरह जीते हैकि हर लम्हा दोस्तो के नाम होता है

गोपियों की मस्ती में सज रही है दही हंडियाँ आओ यारों हम मनाए कृष्ण की जन्माष्टमी बारिश की बूँदों के बीच मस्त है ये गोपियाँ प्यारे कान्हा देख रहा है गोपियों की मस्तियां दोस्तों की टोली बनकर घूम रहें है गली गलियाँ मन में है जोश, गोपियों में चले थोडे हंडियाँ

उल्टी हो गईं सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया, देखा इस बीमारी-ए-दिल ने आख़िर काम तमाम किया।

माँ दुर्गा से विनती है कि आपके जीवन में सुख, समृधि, ध्यान और यश प्रदान करें!शुभ दुर्गा पूजा!

होली आयी रंगों की बहार लाई. रंग से बचने सब खेले आँख मिचोली. कोई हम से बच न पायेगा ये है रंग बी रंगों की होली

तुमको छुपा रखा हे इन पलकों मे,पर इनको ये बताना नहीं आया,सोते हुए भीग जाती हे पलके मेरी,पलकों को अब तक दर्द छुपाना नहीं आया

सबके मन में एक ही बात थी समाईहम करेंगे अपने प्राण देकर देश की अगुआईदेश के लिए कितनो ने जान की बाज़ी लगाईजलियावाला बाग़ देगा इसकी गवाहीनिकल पड़े बाँध सर पर कफ़न मतवालेअंग्रेजो से लोहा ले देशपर प्राण न्योछावर कर डाले. 15 अगस्त मुबारक!

आपने दिल का हाल बताना छोड़ दिया, हमने भी गहराई में जाना छोड़ दिया, होली से पहले ही आपने सुबह नहाना छोड़ दिया?

चल पड़ा है अकेला ही एक सिताराकोई मंजिल कहीं मुंतजिर है शायदएक आग सी उठती है सीने में कहीँयही दिलजलों की तकदीर है शायद

अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,अज भी इंतजार है तेरे आने का

चलो अच्छा हुआ काम आ गई दीवानगी अपनी वगरना हम जमाने-भर को समझाने कहाँ जाते क़तील अपना मुकद्दर ग़म से बेगाना अगर होता तो फिर अपने पराए हम से पहचाने कहाँ जाते

"घांव इतना गहरा है बयां क्या करे हम खुद निशाना बन गये अब वार क्या करे जान निकल गयी मगर खुली रही आंखें अब इससे ज्यादा उनका इंतझार क्या करे"

मुझ को मालूम है तू हुस्न में लासानी हैसारी दुनिया तेरी सौदाई है दीवानी हैतेरी आँखों में है कैफियत ए जाम ए मयनाबसौ बहारों का है आईना तेरा हुस्न ए शबाब

मेरी पहचान .... भारत महानदिल भी तुम ,रूह तुम ,जान तुम !फक्र तुम ,मान तुम,शान तुम ,साँस तुम ,तुम रगों का लहू !आरज़ू तुम मेरी ,तुम्ही हो जुस्तुजू. """"जश्ने आज़ादी मुबारक""""

"दूर से देखा तो संतरा था, पास गया तो भी संतरा था, छिल के देखा तो भी संतरा था, खा के देखा तो भी संतरा था। वाह, क्या संतरा था।"

अजनबी से मोहब्बत का इजहार कर बैठेसरे राह अपनी मौत का इकरार कर बैठे।दोस्तों की हमें कोई खबर न थीदुश्मनों से मिले और प्यार कर बैठे।

ना जाने वो कौन इतना हसीन होगा,आपके हाथ में जिसका नसीब होगा,कोई आपको चाहे ये कोई बडी बात नहीं,जिसको आप चाहो वो खुश नसीब होगा..

सौ बार बंद-ए-इश्क़ से आज़ाद हम हुए पर क्या करें कि दिल ही अदू है फ़राग़ का…

जीतें है इस आस पर एक दिन तुम आओगे,मरते इसलिए नहीं क्युँकी अकेले रह जाओगे..!!

अकेले बैठोगे, तो मसले जकड लेंगे., ज़रा सा वक़्त सही , दोस्तों के नाम करो.....

हल्दी है तो चन्दन है;राखी तो, रिश्तों का बंधन है;राखी के त्योंहार में आपका अभिनन्दन है!

सबसे पहले माँ ने अपनायानौ महीने कोख में सुलवाया नव जीवन का अंकुर फूटामाँ की आँखों अश्रु छूटा नव चेतन स्पर्श का एहसास आयामाँ का आँचल, पिता का सायासारा बचपन इसी में समाया जीवन भर करूँ मैं किनकी पूजामाँ-बाप से बढकर नहीं कोई दूजा.

"आँखों से आंसू न निकले तो दर्द बड जाता है, उसके साथ बिताया हुआ हर पल याद आता है, शायद वो हमें अभी तक भूल गए होंगे, मगर अभी भी उसका चेहरा सपनो में नज़र आता है."

"प्यार किया तो उनकी मोहबत नज़र आई, दर्द हुआ हमे तो पलके उनकी भर आई. दो दिलों की धड़कन में एक बात नज़र आई, दिल तो उनका धड़का पर आवाज़ इस दिल से आई."

लोग कहते हैं किसी एक के चले जाने से जिन्दगी अधूरी नहीं होती,लेकिन लाखों के मिल जाने से उस एक की कमी पूरी नहीं होती है

काश ! कि मैंने उस चीज को पाने की कभी तमन्ना ना की होती जिंदगी में,जिसे पाने की ना औकात है मेरी , ना तकदीर से हकदार हूँ मैं उस की....

तेरी बेरुखी को भी रुतबा दिया हमने ,तेरे प्यार का हर क़र्ज़ अदा किया हमने ,मत सोच के हम भूल गए है तुझे ,आज भी खुदा से पहले याद किया है तुझे

"उसके चले जाने के बाद हम महोबत नहीं करते किसी से . छोटी सी जिन्दगी है . किस किस को अजमाते रहेंगे."

" दिल में इंतजार की लकीर छोर जायेगे॥ आँखों में यादो की नमी छोर जायेगे, ढूंढ़ते फिरोगे हमें एक दिन ........ जिन्दगी में एक दोस्त की कमी छोर जायेगे."

"किताबों के पन्नो को पलट के सोचता हूँ, यूँ पलट जाए मेरी ज़िंदगी तो क्या बात है. ख्वाबों मे रोज मिलता है जो, हक़ीकत में आए तो क्या बात है."

"उसकी बातों को बार बार याद करके रोये, उसके लिये दर पे फरियाद करके रोये, उसकी खुशी के लिये उसको छोड दियाफिर उसे किसी ओर के साथ आबाद करके रोये."

हैराँ हूँ दिल को रोऊँ कि पीटूँ जिगर को मैं मक़्दूर हो तो साथ रखूँ नौहागर को मैं..

लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं ..ज़िंदगी मौत के पहलू में सौ रही है ..उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह ..वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है.

आज तुम पे आंसुओं की बरसात होगी;फिर वही कड़कती रात होगी;SMS ना करके तूने दिल दुखाया है मेरा;जा तेरे बदन में खुजली सारी रात होगी!

हमारी गलतियों से कही टूट न जाना, हमारी शरारत से कही रूठ न जाना, तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं,इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

क्रिस्मस.का यह प्यारा त्योहारजीवन में लाए खुशियाँ अपार,सांता क्लॉज़ आए आपके द्वार,शुभकामना हमारी करे स्वीकार,!! मेर्री क्रिस्मस !!

"पलकों पे अपनी बिठाया हैं तुम्हे, बरी दुवाओ के बाद पाया हैं तुम्हे, इतनी आसानी से नहीं मिले हो तुम, नेशनल जूओलोजिकल पार्क से चुराया हैं तुम्हे."

"हम अपने पर गुरुर नहीं करते, याद करने के लिए किसी को मजबूर नहीं करते. मगर जब एक बार किसी को दोस्त बना ले, तो उससे अपने दिल से दूर नहीं करते."

"अंदाज़-ऐ-प्यार आपकी एक अदा हे, दूर हो हमसे आपकी खता हे, दिल में बसी हे एक प्यारी सी तस्वीर आपकी, जिस के निचे “आई मिस यू” लिखा हे.."

"नई-नई शादी थी नया-नया था जमाना दुल्हा बेचैन था सुनने को गाना दुल्हन ने शुरू किया गाना भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना…"

सारा जहां है जिसकी शरण में;नमन है उस माँ के चरण में;हम है उस माँ के चरणों की धूल;आओ मिलकर माँ को चढ़ाएं श्रद्धा के फूल।शुभ नवरात्रि।

"दिल यूँना कभी उदास होता, जो कोई अपना हमारे पास होता, यूँ तो हमने साथ दिया अक्सर अपनों का, पर काश किसी को हमारी तन्हाई का एहसास होता."

“सूरज की किरणें, तारों की बहारें,चांद की चांदनी, अपनों का प्यार,हर घड़ी हो खुशहाल,उसी तरह मुबारक हो आप सभी को ईद का त्यौहार”

मौत आई तो क्या मैं मर जाऊँगा? मैं तो इक दरिया हूँ, जो समंदर में मिल जाऊँगा.

"ये आरजू नहीं की किसी को भुलाए हम ना तमन्ना की किसी को रुलाए हम पर दुआ है रब से इतनी की जिसको जितना याद करते है उसको उतना याद आये हम.."

तू नाराज न रहा कर तुझे वास्ता है खुदा का, एक तेरा ही चेहरा खुश देख कर तो हम अपना गम भुलाते हैं।

मिले तुझे न दुःख ज़िन्दगी में, फूलों की तरह महक खुदा करे;जिंदा रहे नाम आबाद तक तेरा, ईद की खुशियाँ तुझे मुबारक हो खुदा करें!

चूल्‍हे की आग में खुद को तपाती हुईबच्चे की ग़लतियाँ ममता में भुला रही हैदूध रोटी से लेकर, मंदिर के घंटे तकस्नेह की चाशनी में, बचपन घुला रही हैबारिश के मौसम में, अंदर से गीला होकरबच्चे को बचाकर खुद को सिला रही हैबिगड़ ना जाए वो, कुछ ऐसा ही सोचेउसे डाँटकर माँ खुद को रुला रही हैअंधेरा है आगे, कहीं डर ना जाए बच्चाकतरा कतरा माँ खुद को जला रही हैबहुत खेल चुके, अब शाम हो गयी हैआ जाओ पास माँ तुम्हे बुला रही है

"जब से ये नया साल आया, जुबा पे तेरा नाम लाया, छुपते - छुपते मिलना हैं होता, मुहब्बत में कैसा मुकाम लाया."

"तुम्हारी जुल्फ के साये में शाम कर लूंगा,सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा"

हमें तो उनसे मोहब्बत है मौत से भी प्यार है,उनपर पूरा यकीन और मौत पर पूरा ऐतबार है,देखते हैं पहले कौन आता है, """"अरमान"""" को दोनों का इंतज़ार है.

कुछ तेरे लफ्ज़कुछ मेरे लफ्ज़साथ चलेबात कहलायेबातें करते लफ्ज़ ,जुड़ गएजज़्बात कहलाये

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर,शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!

उसके इंतजार के मारे है हम.. बस उसकी यादों के सहारे है हम...दुनियाँ जीत के कहना क्या है अब..?? जिसे दुनियाँ से जीतना था आज उसी से हारे है हम..

हम न होते तो किताबें कौन पढ़ता आपके खिले चेहरे को कमल कौन कहता यह तो करिश्मा है शिक्षक दिवस का व्रना पत्थर को ताजमहल कौन कहता।

मक्की की रोटी नींबू का अचार सूरज की किरणें खुशियों की बहार चांद की चांदनी अपनॊं का प्यार मुबारक हो आपको होली का त्यौहार.

हम ने माना कि तग़ाफ़ुल न करोगे लेकिन ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक…

तेरी वफ़ा के तकाजे बदल गये वरना, मुझे तो आज भी तुझसे अजीज कोई नहीं।

सुलूक-ए-बेवफाई तो हम भी कर सकते हेजान …पर तू रोये ये हमे गवारा नही ।

उस अजनबी का यूँ न इंतज़ार करो, इस आशिक दिल का न ऐतबार करो, रोज़ निकला करें किसी के याद में आंसू, इतना न कभी किसी से प्यार करो.

फूलो से क्या दोस्ती करते हो,फूल तो मुरझा जाते है,अगर दोस्ती करनी है तो कॅंटो से करो,क्यूकी वो चुभ कर भी याद आते है.

हर वक़्त बस एक ही सोच में रहता हूँ , कभी मुझसे तो कभी खुद से ही कहता हूँ ... तू मिल जाए तो , ज़िन्दगी खुशगवार है , किसी और का नहीं मुझे सिर्फ तेरा ही इंतज़ार है ....

"इस कदर हम यार को मनानॆ निकलॆ, उसकी चाहत के हम दीवाने निकलॆ, जब भी उसॆ दिल का हाल बताना चाहा, तो उसकॆ होंठों से वक्त ना होनॆ के बहानॆ निकलॆ ..."

मुबारक हो तुम्हे नववर्ष का महिना !चमको तुम जैसे फागुन का महिना !!पतझर न आये तेरी जिन्दगी में !यही हैं दोस्त अपनी तम्मना !!

ना इश्क़ कर मेरे यार यह लड़किया बहुत सताती है,ना करना इन पर ऐतबार यह खर्चा बहुत करवाती है,रीचार्ज तुम करवा के देते हो और नंबर मेरा लगाती है.

या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

अपने जज्बात को, नाहक ही सजा देती हूँ, होते ही शाम,चरागों को बुझा देती हूँजब राहत का, मिलता ना बहाना कोई लिखती हूँ हथेली पे नाम तेरा, लिख के मिटा देती हूँ. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

"फरेब था हम आशिकी समझ बैठे, मौत को अपनी ज़िंदगी समझ बैठे, वक़्त का मज़ाक था या बदनसीबी, उनकी दोस्ती की दो बातों को, हम प्यार समझ बैठे."

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी कुछ हमारी ख़बर नहीं आती…

"ए चाँद उनको मेरा पैगाम कहना ख़ुसी का दिन ओर हँसी की धाम कहना जब वो देखे बाहर आके तो उनको मेरी तरफ से मुबारक हो रमज़ान कहना"

बुराई का होता है विनाश,दशहरा लाता है उम्मीद की आस,रावण की तरह आपके दुखों का हो नाश,हैप्पी दशहरा ।

तुम्हारी यादों को रोक पाना है मुश्किल ।रोते हुए दिल को मनाना है मुश्किल ।ये दिल आपको कितना याद करता है ।एक sms में लिख पाना है मुश्किल ।

जिसके कंधो पर बोझ बढ़ा वो भारत माँ का बेटा कौन जिसने पसीने से भूमि को सींचा वो भारत माँ का बेटा कौन वह किसी का गुलाम नहीं अपने दम पर जीता हैं

प्यार वो हम को बेपनाह कर गये,फिर ज़िनदगीं में हम को,तन्नहा कर गये, चाहत थी उनके इश्क में,फ़नाह होने की,पर वो लौट कर आने को,भी मना कर गये.

रावण जलाओ. बुराई को आग लगाओ. अच्छाई को अपनाओ. खूब धूमधाम से दशहरा मनाओ. हैप्पी दशहरा.....।

"वो नदिया नहीं आंसू थॆ मॆरॆ,जिनपर, वो कश्ती चलातॆ रहे मंज़िल मीलॆ उन्हॆ ये चाहत थी मेरी, इसलऎ हम आंसू बहातॆ रहे."

"तेरे दर पे सनम हजार बार आयेंगे….. तेरे दर पे सनम हजार बार आयेंगे….. घन्टी बजायेंगे और भाग जायेंगे."

दुश्मन नसिब अपना,साचा रकिब अपना.सांसोमें सोना चांदी,दिल है गरिब अपना. है कौन के जिसे मैं समजु करीब अपना,तनहा हुं महेफीलोमें, ये है नसीब अपना.

"दर्द देने का अंदाज कुछ ऐसा है दर्द दे कर कहते है अब हाल कैसा है, ज़हर दे कर कहते है अब पीना होगा, जब पी लिए तो कहते है अब जीना होगा"

"चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह, नाम आपका रौशन रहे आफ़ताब की तरह, गम में भी आप हसंते रहना फूलों की तरह, अगर हम कभी तुम्हरा साथ न दे पाये, तो भी आप अपना जन्मदिन मनाते रहना इसी तरह."

आशिक के दिल की ख्वाहिशो अरमान हैं आँखें,कुछ दिन से ये लगता है, परेशान हैं आँखें,एक दिन तुझे देखा था, किसी राहगुज़र पे,उस दिन से उसी राह पे, मेहमान हैं आँखें.

"पूर्णिमा का चाँद, रंगों की डोली; चाँद से उसकी, चांदनी बोली; खुशियों से भरे, आपकी झोली; मुबारक हो आपको, रंग-बिरंगी होली."

दिल्लगी नहीं शायरी जो किसी हुस्न पर बर्बाद करें,यह तो एक शमा है जो उस नूर का पयाम है.

लम्हा-लम्हा तिरी यादें जो चमक उठती हैं ऐसा लगता है कि उड़ते हुए पल जलते हैं मेरे ख़्वाब में कोई लाश उभर आती है बंद आंखों में कई ताजमहल जलते हैं

"मत रख हमसे वफा की उम्मीद, हमने हर दम बेवफाई पायी है, मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान, हमने हर चोट दिल पे खायी है।"

उसने मेरी महोब्बत का, इस तरह तमाशा किया. कि हम मरते है उनके प्यार मे, और वो हसते रहे मेरी दीवानगी पर.

"किस्मत पर एतबार किसको हैं , मिल जाये खुसी इंकार किसको हैं, कुछ मजबूरिय हैं मेरे दोस्त, वरना जुदाई से प्यार किसको हैं."

हर एक बात पे कहते हो तुम की तू क्या है, तुम्ही कहो की ये अंदाज-ए-गुफ्तगुं क्या है!

मेरा नसीब कहता हैमेरे हाथों की लकीरों मेंहर तरफतेरा नाम लिखा हैफिर तूँ मेरे साथक्यूं नहीं हैया तो लकीरों काइम्तहान ले रही हैया फिर खुद के हाथ सेमेरा नाम मिटारही है

प्यार मै कोइ तो दील तोड देता है।दोस्ती मेँ कोइ तो भरोसा तोड देता है।जीन्दगी जीना तो कोइ गुलाब से सीखे।जो खुद टुट कर दो दीलो को जोड देता हैँ.हैप्पी रोज डे.

"तुम करोगे याद एक दिन इस प्यार के ज़माने को, चले जाएँगे जब हम कभी ना वापस आने को. करेगा महफ़िल मे जब ज़िक्र हमारा कोई, तो तुम भी तन्हाई ढूंढोगे आँसू बहाने को…"

शिकायत है उन्हें कि,हमें मोहब्बत करना नही आता,शिकवा तो इस दिल को भी है,पर इसे शिकायत करना नहीं आता

होली वही जो स्वाधीनता की आन बन जाये, होली वही जो गणतंत्रता की शान बन जाये, भरो पिचकारियों में पानी ऐसे तीन रंगों का, जो कपड़ो पर गिरे तो हिंदुस्तान बन जाये. होली की हार्दिक शुभकामनाये.

आज ईद, कल ईद, सुबह ईद, और शाम को ईद;खुदा करे कि आप के हर लम्हें का नाम ईद हो!ईद मुबारक!

नाजुक सी मोहब्बत है, दुश्मन ज़माना है,ये जन्मों का रिश्ता है, पर सबसे छुपाना है,क्या तेरी मज़बूरी है, क्यों तुम्हें जाना है,ये शीशे सा दिल है, पल में बिखर जाना है,यंहा दीवानों का बस, मैखाना में ठिकाना है,खुमार मोहब्बत का, सबका उतर जाना है,अभी सबके ओठों पे, एक हसीं तराना है,फिर गीत जुदाई के, यंहा सबको गाना है,बेजां हुआ है दिल, कातिल वो पहचाना है,बिंदास शमा से, परवाने को जल जाना है,क्यों दस्तूर मोहब्बत का, ये बहुत पुराना है,आँखों के पानी को, अश्कों में बदल जाना है,

"दस्तक दी, किसी ने कहा सपने लाया हूँ; खुश रहो आप हमेशा, इतनी दुआ लाया हूँ, नाम है मेरा एस सम एस, आपको `हैप्पी न्यू इयर` विश करने आया हूँ, नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें."

मां का कर्ज नही चुका सकता कभी कोई इस दुनिया मे,भगवान से भी बडा है मां क दर्जा इस दुनिया मे,ना होती वो तो ना बसता ये सन्सार कभी,ना होगी वो तो भी खत्म हो जाएगा सन्सार ये सभी!!

आइना - ए - दिल टूटा सही,इसमें कोई सूरत तो है। ख़वाहिश उनकी ख़वाब सही, ख़वाब मगर खूबसूरत तो है ।।

हम आज भी शतरंज़ का खेलअकेले ही खेलते हे ,क्युकी दोस्तों के खिलाफ चालचलना हमे आता नही ..।

सुनहरी धुप बरसात क बाद, थोड़ी सी हंसी हर बात के बाद, उसी तरह हो मुबारक आप को 2015, 2014 के बाद. विश यू ए हैप्पी न्यू इयर.

हाए उस चार गिरह कपड़े की क़िस्मत ग़ालिब जिस की क़िस्मत में हो आशिक़ का गिरेबाँ होना…

हूँ गिरफ़्तार-ए-उल्फ़त-ए-सय्याद वर्ना बाक़ी है ताक़त-ए-परवाज़…

"रस्मों रिवाज की जो परवाह करते हैं, प्यार में वो लोग गुनाह करते हैं इश्क वो जुनून है जिसमें दीवाने अपनी खुशी से खुद को तबाह करते हैं।"

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं; मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं; बच के रहना इन हुस्न वालों से यारो; इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।

बहना ने भाई की कलाई पे प्यार बाँधा है;प्यार के दो तार से संसार बाँधा है;रेशम की डोरी से संसार बाँधा है;इस रिश्ते से बहन-भाई का प्यार बाँधा है।शुभ रक्षा-बंधन!

देखो क्रिस्मस है आयाढेरों खुशियाँ संग लायाचारों तरफ है सितारों की चमकहै संग सांता क्लॉस की दमकचॉक्लेट कैंडी की है छाई बहारखिलौनों और कपड़ों से हैं सजे बाज़ारचर्च में हैं कैरल गाये जा रहेजीसस का जन्मदिन सब हैं माना रहेइस बड़े दिन मुझको भी कुछ बतलाना हैतुम संग प्यार को निभाना हैखुश तुम रहो यूँ ही हमेशातुमको क्रिस्मस की बहुत बधाई

"उसने हाथों पर मेहंदी लगा रखी थी, हमने भी अपनी बारात सजा रखी थी, क्यूंकि हमें मालूम था वो बेवफा निकलेगी, इसलिए हमने भी उसकी सहेली पटा रखी थी."

आज़ादी की कभी शाम नहीं होने देंगें;शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगें;बची हो जो एक बूंद भी गरम लहू की;तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगें!स्वतंत्रता दिवस की सभी को बधाई!

"सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती, न करेंगे किसी से वादा, पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा की करना पड़ा दोस्ती का वादा,"

देखा जो आइना तो मुझे सोचना पड़ा,खुद से न मिल सका तो मुझे सोचना पड़ा,उसका जो ख़त मिला तो मुझे सोचना पड़ा,अपना सा वो लगा तो मुझे सोचना पड़ा.

लोग कहते हैं प्यार एक ऐसी बिमारी है जिसकी कोई दवा नहीं,अरे उन्हें क्या मालूम बेवफाई एक ऐसी दवा है जिससे यह बिमारी कभी दोबारा नहीं होती.

हातो कि लकीरो पे मत जा ए गालिब..नसीब तो उनके भी होते है जिनके हात नही होते..!

मुझको चाहते होंगे और भी बहुत लोग, मगर मुझे मोहब्बत सिर्फ अपनी मोहब्बत से है।

तु दिल में ना जाये तो मैं क्‍या करूं, तु ख्‍यालों से ना जाये तो मैं क्‍या करूं, कहते है ख्‍वावों में होगी मुलाकात उनसे, पर नींद न आये तो मैं क्‍या करूं. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

आज़ाद कर दिया हे हमने भी उस पंछी को …,जो हमारी दिल की कैद में रहने को तोहीन समजता था

प्यार का तराना, उपहार हो;खुशिओं का नजराना, बेशुमार हो;ना रहे कोई गम का एहसास;ऐसा ही नवरात्रि उत्सव इस साल हो;शुभ नवरात्रि!

उसको रुखसत तो किया था, मुझे मालून न था. सारा घर ले गया, छोड़ के जाने वाला.....

"चड़ गये जो हंसकर सूली,खाई जिन्होने सीने पर गोली हम उनको प्रणाम करते हैं,जो मिट गये देश पर. हम उनको सलाम करते हैं स्वतंत्रता दिवस की बधाई"

"हमको मिटा सके ये ज़माने मे दम नही, हमसे ज़माना खुद है, ज़माने से हम नही."

"लोग इश्क करते हैं, बड़े शोर के साथ हमने भी किया, बड़े जोर के साथ मगर अब करेंगे, थोडा़ गौर के साथ क्योंकि कल उसको देखा, किसी ओर के साथ."

रावण के 10 सर,20 आँखें,पर नज़र एक ही लड़की पर,आपका सर 1,आखें 2,पर नज़र हर लड़की पर.अब बताओ कीअसली रावण कौन ?हैप्पी दशहरा ।

बहोत जर्बियत हम पर ये जमाना कर गया ,ज़माने से मेरे घर को ये मयखाना कर गया.कहाँ कैसी गर्दिस में फंस गई तक़दीर हमारी ,खिजा को मक़ाम देकर गुलसन विराना कर गया .

न तो मैं किसी का हबीब हूँ न तो मैं किसी का रक़ीब हूँजो बिगड़ गया वो नसीब हूँ जो उजड़ गया वो दयार हूँ

कितना प्यारा बचपन था जब गोदी में खेला करती पाकर तुम्हारे स्नेह का साया बड़े-बड़े मैं सपने बुनती लेकर व्यक्तित्व से तुम्हारे प्रेरणा देखो आज कुछ बन पाई तुम्हारे हौसले और विश्वास के दम पर एक राह सच्ची मैं चुन पाई

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले , बहुत निकले मेरे अरमां मगर फिर भी कम निकले !

किसी का नाम लबों पर आना इकरार नहीं होता,प्यार का इजहार ही बस मंजूर नहीं होता,किसी के याद से जबतक दिल बेकरार नहीं होता,जान मेरी तबतक यह प्यार नहीं होता…

"पुराना साल सबसे हो रहा है दूर, पुराना साल सबसे हो रहा है दूर, क्या करें यही है कुदरत का दस्तूर, पुराने यादें सोचकर उदास न हो तुम, नया साल आया है चलो... धूम मचाले, धूम मचाले धूम.."

उस दिन से रातों की नींद उड गई है, जबसे कर बैठे है हम इजहार-ए-दिल ऐ जालिम दिन मे मुश्किल है मिलना,तू कभी ख्वाबों मे आँके मिल. हैप्पी वैलेंटाइन डे.

जब लफ्ज़ ही बन जायें जुबां लिखना अच्छा हैजब हो दिल को छू जाने का अरमान लिखना अच्छा हैजब हो मन चलाने का शब्दों की तलवार लिखना अच्छा हैजब हो अरमान होने का उस पार लिखना अच्छा हैजब हो जाना बहुत दूर पर हो बस कलम की आस लिखना अच्छा हैजब हो बुलंद इरादे और खुद पर भी विशवास लिखना अच्छा है

"हर पल दिल को बहला लेता हूँ, तन्हाई में खुद को ही दोस्त बना लेता हूँ, याद उनको करके मुस्कुरा लेता हूँ, गुजरे लम्हों को फिर करीब बुला लेता हूँ."

"दोस्ती चीज नहीं जताने की, हमें आदत नहीं किसी को भुलाने की, हम इसलिये आपसे कम बात करते हैं, की नजर लग जाती है रिश्तों को जमाने की."

"जब उसकी धुन में रहा करते थे, हम भी चुप चुप जिया करते थे लोग आते थे गजल सुंनाने, हम उसकी बात किया करते थे घर की दीवार सजाने के खातिर, हम उसका नाम लिखा करते थे, कल उसको देख कर याद आया हमे, हम भी कभी मोहोब्बत किया करते थे, लोग मुझे देख कर उसका नाम लिया करते थे"

"दोनों आ